Hindi News »Gujarat »Surat» Baben Village Is Located Some 35 Km From Surat City

ये है गुजरात का हाईटेक गांव: भारत की मेट्रो सिटीज सा आता है नजर

गुजरात सरकार द्वारा बाबेन गांव को ‘बेस्ट ग्राम पंचायत ऑफ द ईयर’ अवार्ड्स से भी सम्मानित किया जा चुका है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Dec 18, 2017, 06:27 PM IST

  • ये है गुजरात का हाईटेक गांव: भारत की मेट्रो सिटीज सा आता है नजर
    +8और स्लाइड देखें
    बाबेन गांव की फाइल फोटो।

    सूरत.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘आदर्श गांव योजना’ अक्टूबर-2014 से शुरू की है। इस योजना के तहत हरेक सांसद को अपने क्षेत्र का कोई एक गांव गोद लेना है अर्थात उसे विकसित करना है। लेकिन सूरत जिले में एक गांव ऐसा है, जिस पर ये बात लागू नहीं होती, क्योंकि यहां के लोगों को किसी सांसद या नेता की जरूरत नहीं, बल्कि उन्होंने खुद ही अपने गांव को पूरे देश के लिए रोड मॉडल बना दिया है।

    ये भी पढ़ेंः गुजरात Election: सीएम रूपाणी जीते-कांग्रेस के गोहिल हारे, जानें 28 VIP सीटों का रिजल्ट

    हम बात कर रहे हैं सूरत जिले से लगभग 35 किमी दूर स्थित बाबेन गांव की। लगभग 13 हजार की आबादी वाले इस गांव की किस्मत 7 साल पहले यानी की 2007 से ही चमकना शुरू हो गई थी, जब सरपंच भावेशभाई के नेतृत्व में बाबेन गांव को आदर्श गांव बनाने के लिए पंचायत के सभी 19 सदस्यों ने संकल्प लिया था। वर्ष 2011 में गुजरात सरकार द्वारा बाबेन गांव की ग्राम पंचायत को ‘बेस्ट ग्राम पंचायत ऑफ द ईयर’ अवार्ड्स से भी सम्मानित किया जा चुका है।

    एक नजर में गांव:
    - 8500 मकानों में से 95 प्रतिशत पक्के
    - गटर, पानी, स्ट्रीट लाइट सहित सभी प्राथमिक सुविधा
    - आंगनबाड़ी, पंचायत घर
    - कम्युनिटी हॉल, प्राथमिक स्कूल, हाई स्कूल
    - बैंक डाक घर के लिए अलग भवन
    - एंबुलेंस भी खुद की
    - पंचायत के एक करोड़ रुपए बैंक में फिक्स डिपॉजिट रखे हुए हैं।
    - गांव के अंदर ही 12 फीट चौड़ी पक्की सड़क
    - सड़कों के दोनों और स्ट्रीट लाइट्स


    नोटः सभी फोटो: www.babengrampanchayat.in से ली गई हैं।

  • ये है गुजरात का हाईटेक गांव: भारत की मेट्रो सिटीज सा आता है नजर
    +8और स्लाइड देखें
    12 फीट चौड़ी पक्की सड़क। सड़क के दोनों ओर स्ट्रीट लाइट्स। सबसे बड़ी बात कि सड़क का निर्माण शासकीय सहायता से नहीं, बल्कि पंचायत द्वारा ही करवाया गया है।
  • ये है गुजरात का हाईटेक गांव: भारत की मेट्रो सिटीज सा आता है नजर
    +8और स्लाइड देखें
    प्राथमिक स्कूल व हाई स्कूल।
  • ये है गुजरात का हाईटेक गांव: भारत की मेट्रो सिटीज सा आता है नजर
    +8और स्लाइड देखें
    शुगर फैक्ट्री।
  • ये है गुजरात का हाईटेक गांव: भारत की मेट्रो सिटीज सा आता है नजर
    +8और स्लाइड देखें
    विद्या भारती स्कूल एंड कॉलेज।
  • ये है गुजरात का हाईटेक गांव: भारत की मेट्रो सिटीज सा आता है नजर
    +8और स्लाइड देखें
    सड़के तड़के सुबह ही साफ कर दी जाती हैं। गांव में 22 सफाई कर्मचारियों की टीम है। वहीं, हर घर से सुबह-शाम कचरा उठाने के लिए पंचायत के वाहन आते हैं।
  • ये है गुजरात का हाईटेक गांव: भारत की मेट्रो सिटीज सा आता है नजर
    +8और स्लाइड देखें
    गांव में स्वच्छ पानी की भी व्यवस्था है। पानी सप्लाई के लिए पूरे गांव में पाइप लाइनें हैं। पूरे गांव में ऐसा कोई घर नहीं, जिसे पानी की कमी का सामना करना पड़ता हो। इस पानी टंकी का निर्माण पंचायत ने ही करवाया है।
  • ये है गुजरात का हाईटेक गांव: भारत की मेट्रो सिटीज सा आता है नजर
    +8और स्लाइड देखें
    गांव के बीच बड़ा पक्का तालाब है, वह भी स्वच्छ। तालाब के चारों ओर का नजारा भी इतना खूबसूरत है कि इसे देखने दूर-दराज के लोग यहां आते हैं।
  • ये है गुजरात का हाईटेक गांव: भारत की मेट्रो सिटीज सा आता है नजर
    +8और स्लाइड देखें
    पंचायत के सदस्य।

    झंडा वंदन या अन्य राष्ट्रीय कार्यक्रमों के लिए पंचायत ने भवन, ग्राउंड का भी निर्माण करा रखा है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Surat News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Baben Village Is Located Some 35 Km From Surat City
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Surat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×