Hindi News »Gujarat »Surat» New Paper Made By Used Paper After Grinding In Mixer

इस्तेमाल कागज को मिक्सर में पीसकर नया पेपर बना रही ये लड़कियां

शिक्षक ने कहा पेपर बचाओ तो छात्राओं ने नया कागज बनाने की शुरू की कोशिश, अब तक बना चुकी हैं 500 नए पेपर

अनूप मिश्रा | | Last Modified - Mar 05, 2018, 05:18 AM IST

इस्तेमाल कागज को मिक्सर में पीसकर नया पेपर बना रही ये लड़कियां

सूरत. वीर नर्मद दक्षिण गुजरात यूनिवर्सिटी में बायोटेक्नोलॉजी की 3 छात्राएं इस्तेमाल किए जा चुके कागज को मिक्सर में पीसकर नया कागज बना रही हैं। इनके द्वारा बनाया गया कागज बॉयोटेक्नोलॉजी विभाग में लिखने के साथ प्रिंटर में भी इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके अलावा यूनिवर्सिटी में आने वाले मेहमानों को आमंत्रण पत्र भी इन्हीं छात्राओं के बनाए गए कागज से तैयार किया जाता है।

अमी पटेल, निधि पटेल और सेजल पाल नामक ये छात्राएं एक साल से बिना किसी मशीन की मदद से इस्तेमाल किए जा चुके कागज से नया कागज बना रही हैं। ये छात्राएं इस्तेमाल हो चुके और फाड़कर फेंक दिए गए कागज के टुकड़े इकट्ठा करती हैं। उसके बाद उसे एक बर्तन में भरे साफ पानी डाल देती हैं। 12 घंटे तक कागज भिगोया रहता है। उसके बाद उसे निकालकर मिक्सर में पीसती हैं। कागज को पीसने के बाद उसे एक सांचे में डालकर सूखाती हैं। 12 घंटे तक सूखने के बाद नया पेपर तैयार हो जाता है। तीनों छात्राएं एक साल में 500 पेपर बना चुकी हैं।

अपील: आप रद्दी पेपर दे दो, नया कागज लौटा देंगे

पटेल, निधि पटेल और सेजल पाल द्वारा बनाए गए पेपर का इस्तेमाल बायोटेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट में कागजी कामकाज किया जा रहा है। यूनिवर्सिटी में बुलाई गई नैक कमेटी को दिए गए निमंत्रण में भी इन छात्राओं द्वारा बनाए गए कागज के लिफाफे और पेपर का इस्तेमाल किया जा चुका है। बायो टेक्नोलॉजी के हेड ऑफ डिपार्टमेंट डॉ. गौरव शाह ने कहा कि हम यूनिवर्सिटी के अन्य विभागों से कह रहे हैं कि आप इस्तेमाल किए गए पेपर हमें दे दें। हम नया कागज बनाकर लौटा देंगे।

प्रेरणा: शिक्षक शाह ने कहा पेपर को बचा लो

अमी पटेल, निधि पटेल और सेजल पाल ने कहा कि डिपार्टमेंट में अलग-अलग कामों में इस्तेमाल हो चुके पेपर फेंक दिए जाते हैं। एक दिन हमारे शिक्षक डॉ. गौरव शाह ने कहा कि ये बहुत बड़ा नुकसान हो रहा है, जिसे कोई समझ नहीं पा रहा है, इसे बचा लो। हमने इसे गंभीरता से लिया। इस पर विचार किया कि आखिर कागज कैसे बचाया जाए। इसके बाद कई दिन तक कोशिश करते रहे, जो सफल रही। अब हम रंगीन कागज भी बना रहे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Surat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×