--Advertisement--

सभी का स्वागत, लेकिन व्यासपीठ को किसी का मंच नहीं बनने दूंगा: मोरारी बापू

मोरारी बापू ने कहा कि चुनाव तो अभी आया है परंतु इस कथा के आयोजन की तैयारी पिछले डेढ़ साल से की जा रही है।

Danik Bhaskar | Dec 03, 2017, 03:07 AM IST

सूरत. शहीदों के सम्मान में शनिवार को बीआरटीएस चौक स्थित कर्ण भूमि में आयोजित राम कथा में मोरारी बापू ने कहा, यदि किसी को यह लगता है कि चुनाव के कारण इस कथा का आयोजन किया गया है तो मैं इस अवसर पर उन सभी लोगों को यह बताना चाहता हूं कि चुनाव तो अभी आया है परंतु इस कथा के आयोजन की तैयारी पिछले डेढ़ साल से की जा रही है। कथा में सभी का स्वागत किया जाता है।


व्यास पीठ सभी के लिए बराबर बनाई गई है। सभी के कद और पद का एक सम्मान किया जाएगा। परंतु व्यास पीठ को मैं किसी और का मंच नहीं बनने दूंगा। सभी अपना स्थान ग्रहण करके कथा सुनें और उसके बाद प्रस्थान करें। यदि खर्चा ज्यादा करने वाले हों तो कथा में भी करें। कथा तो आपातकाल के समय पर भी हुई थी। राम कथा तो कभी भी बंद नहीं हुई। उन्होंने कहा कि कथा में 1971 के युद्ध और कारगिल युद्ध के दौरान शहीद हुए जवानों को याद भी किया गया। हम शहीद जवानों के लिए कुछ नहीं कर सकते, परंतु प्रार्थना तो जरूर कर सकते हैं। मेरी इच्छा है कि एक दिन मैं सरहद पर सैनिकों के तंबू में बैठकर उनके लिए माला का जाप करूं। कारगिल युद्ध के दौरान भी उपप्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी ने मुझसे तंबू में बैठकर माला जपने को कहा था, परंतु टेक्निकल असुविधा के कारण यह नहीं हो पाया।

श्रद्धाभाव : पोथीयात्रा में शामिल हुए हजारों लोग

शनिवार दोपहर 1 बजे से रामकथा का मंगलाचरण और भव्य पोथीयात्रा निकाली गई। मिलिट्री परेड की थीम पर दोपहर 1 बजे सरथाणा स्थित अनंत फार्म से पोथीयात्रा निकली। इसमें हजारों लोग शामिल हुए। इसे दौरान सुसज्जित बग्घी में शहीदों के परिजनों को बिठाया गया। 101 कलशधारी महिला पोथीयात्रा में शामिल हुईं। पोथीयात्रा रूट पर 7 सोसाइटियों में रंग-बिरंगी रंगोली और दरवाजे पर आसोपालव के तोरण बांध पोथीयात्रा का स्वागत किया गया। पोथीयात्रा सरथाणा पुलिस चौकी, अंबाजी मंदिर होते हुए बीआरटीएस चौक से कर्ण भूमि पहुंची। इसमें आर्मी बैंड के ताल पर एनसीसी की दो टीमें शामिल थी। इसमें हाथी, घुड़सवार टीम, बुलेट सवार टीम, ढोल वाद्य, देशभक्ति गीत संग पोरबंदर की प्रसिद्ध शौर्य रास की दी गई।

परमवीर चक्र से सम्मानित सैनिकों का किया सम्मान

परमवीर चक्र विजेता जम्मू केके बाना सिंह, नायब सूबेदार संजय कुमार को बापू द्वारा मोमेंटो देकर सम्मानित किया गया। इसके साथ ही शहीद विक्रम बत्रा के पिता जीएल बत्रा तथा शहीद लायंस नायक गोपाल भादोरिया, प्रदीप सिंह कुशवाहा और मेजर ऋषिकेश रामाणी का डॉक्यूमेंट्री वीडियो लोगों को दिखाया गया। इसके बाद मारुति वीर जवान ट्रस्ट द्वारा शहीदों के परिजनों को मोमेंटो एवं चेक देकर उनका सम्मान किया गया।

आयोजकों बापू का ऐसे किया सम्मान

रामकथा से पहले माेरारी बापू कथा के मुख्य यजमान ननुभाई सावलिया के निवास स्थल ममता पार्क, कापोद्रा में पहुंचे। जहां उन्होंने रंगोली बनाकर सम्मान किया।