--Advertisement--

गुजरात: ‘हार्दिक की पसंद’ परेश धानाणी बने अपोजीशन लीडर, राहुल गांधी ने लिया फैसला

मुख्य विपक्षी दल का नेता बनने के बाद परेश धानाणी विधानसभा में विपक्ष के नेता भी होंगे।

Danik Bhaskar | Jan 07, 2018, 06:21 AM IST
परेश धानाणी गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 में अमरेली से चुनाव जीते हैं। परेश धानाणी गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 में अमरेली से चुनाव जीते हैं।

नई दिल्ली/अहमदाबाद. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पाटीदार विधायक और पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) के नेता हार्दिक पटेल के करीबी और पसंदीदा परेश धानाणी को शनिवार को पार्टी के विधायक दल का नेता बनाने की मंजूरी दे दी। मुख्य विपक्षी दल का नेता बनने के बाद वह विधानसभा में विपक्ष के नेता भी होंगे। पार्टी के गुजरात प्रभारी अशोक गहलोत ने शनिवार को नई दिल्ली में यह जानकारी दी। इस पद के लिए राज्य में बड़ी आबादी वाले कोली समुदाय के नेता कुंवरजी बाबरिया भी दावेदार थे। वहीं, आदिवासी नेता मोहनसिंह राठवा, अश्विन कोटवाल और ओबीसी नेता विक्रम माडम को भी दौड़ में माना जा रहा था।

77 विधायकों के साथ बैठक में लिया गया ये फैसला
- गहलोत ने बताया कि अभी केवल परेश धानाणी के चयन पर मुहर लगी है। उपनेता समेत अन्य पदों पर निर्णय बाद में होगा। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भरतसिंह सोलंकी ने परेश धानाणी के चयन पर उन्हें बधाई दी है।

- बीते तीन और चार जनवरी को अहमदाबाद में विधायक दल के नेता के चयन के लिए नवनिर्वाचित 77 विधायकों के साथ बैठक हुई थी। इसमें गहलोत और केंद्रीय पर्यवेक्षक के तौर पर पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने भाग लिया था।

हार्दिक पटेल ने चुनाव के दौरान परेश धानाणी काे बताया था सीएम पद का कैंडिडेट

- बता दें कि दिसंबर के पहले हफ्ते में ही गांधीनगर में पास नेता हार्दिक पटेल ने अमरेली में आरक्षण और किसानों को होने वाली परेशानियों पर केंद्रित जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि अमरेली से कांग्रेस कैंडिडेट विधायक के नहीं, बल्कि मुख्यमंत्री के उम्मीदवार हैं। किसान के बेटे को मुख्यमंत्री बनाना चाहिए।

- साथ ही सभा को संबोधित करते हुए हार्दिक ने कहा था कि पिछले 25 सालों से मूर्ख और नपुंसक जैसे विधायक को बिठाया गया है। उनके इस बयान से पूरे राज्य में वातावरण गरमा गया था। जब इस पर नेताओं की प्रतिक्रियाएं जानने की कोशिश की गई, तो नेता पल्ला झाड़ते दिखाई दिए। इस पर जब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भरत सिंह सोलंकी से उनकी प्रतिक्रिया पूछी गई, तो उनका जवाब था ‘नो कमेंट’।

कौन हैं परेश धानाणी?

- परेश धानाणी 14वें गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 में अमरेली विधानसभा क्षेत्र से विजयी घोषित हुए थे। उन्होंने अपने नजदीकी प्रतिद्वंदी बावकू उन्धाद को 12029 वोटों से करारी शिकस्त दी।

- अमरेली विधानसभा अमरेली के अन्दर आती है, यहाँ से परेश धानाणी ने जीत हासिल की है,पिछली बार भी यहाँ से कांग्रेस के परेश धानाणी ने जीत हासिल की थी।

- अमरेली के 41 वर्षीय विधायक परेश धानाणी ग्रेजुएट हैं और इनके पास 1 करोड़ की संपत्ति है। इन्होंने भाजपा के 51 वर्षीय बावकू उन्धाद को 12029 से हराया है।

हार्दिक पटेल ने चुनावों से पहले अमरेली में जनसभा को संबोधित करते हुए  कांग्रेस कैंडिडेट परेश धानाणी को मुख्यमंत्री पद का कैंडिडेट  बताया था। हार्दिक पटेल ने चुनावों से पहले अमरेली में जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस कैंडिडेट परेश धानाणी को मुख्यमंत्री पद का कैंडिडेट बताया था।