सूरत

--Advertisement--

सरकार बोली- हमें किसी विधायक ने बताया कि पानी तो किसान के खेतों में गया है

विपक्ष ने पूछा- दो महीने में 4000 अरब लीटर पानी कौन पी गया?

Danik Bhaskar

Mar 17, 2018, 06:39 AM IST

गांधीनगर. नर्मदा में कम पानी की वजह से राज्य गंभीर जलसंकट का सामना कर रहा है। शुक्रवार को इसपर विधानसभा में 90 मिनट चर्चा हुई। कांग्रेस ने कहा कि सरकार द्वारा उचित व्यवस्था नहीं किए जाने के कारण जलसंकट की स्थिति पैदा हुई है। कांग्रेस विधायक वीरजी ठुम्मर ने प्रश्न किया कि नवंबर और दिसंबर में ही 4000 मिलियन क्यूबिक मीटर (करीब 4000 अरब लीटर) पानी कौन पी गया? जवाब में डिप्टी सीएम नितिन पटेल ने कहा कि हमारे एक विधायक ने बताया कि पानी किसानों के खेत में गया है।

#जलसंकट पर विधानसभा में 90 मिनट तक चर्चा

कांग्रेस : दो साल में 18 हजार करोड़ का खर्च, फिर भी केनाल का काम अधूरा है। यह कब पूरा होगा?
सरकार : 20 हजार किमी का ही काम बाकी है। खेत तक पानी पहुंचाने टनल केनाल का काम ही बाकी है। फिलहाल 13 हजार किमी का काम हो रहा है।
कांग्रेस : केन्द्र से राज्य सरकार द्वारा तीन साल में मांगी गई ग्रान्ट से 50 फीसदी कम ग्रान्ट क्यों मिली?
सरकार :
केन्द्र के अकाल संभावित और रण इलाके में ग्रान्ट के नियम अलग-अलग हैं। इससे गुजरात को नुकसान हुआ। पीएम मोदी ने इसे बदला एवं 1500 करोड़ और मिले।
कांग्रेस : नर्मदा योजना के भागीदार राज्यों से कितनी राशि वसूलनी बाकी है?
सरकार :
लगभग 6 हजार करोड़ की राशि वसूलनी बाकी है। इसमें विवादित और गैर विवादित रकम भी शामिल है। विवादित राशि के लिए आयोग बनाया गया है।
कांग्रेस : योजना के वक्त जो कमान्ड एरिया था, उसमें से कितना डीकमान्ड हुआ?
सरकार :
18 लाख हेक्टेयर कमान्ड एरिया है, जिनमें से बहुत कम एरिया डीकमान्ड किया गया है। कलोल में भाव बढ़ने से किसान जमीन नहीं छोड़ना चाहते।

भास्कर का सरकार से सवाल

- नर्मदा का पानी कहीं भी बर्बाद नहीं हुआ तो 400 लाख करोड़ लीटर पानी कौन पी गया?
- किसानों के खेत में पानी गया है तो कितना और कहां गया?

Click to listen..