Hindi News »Gujarat »Surat» Surat Land Bogus Document Case: Vasant Gajera And Nirav Modi Connection

वसंत गजेरा का नीरव मोदी कनेक्शन:एजेंसियां सतर्क

गजेरा ने सिविल कोर्ट के आदेश का उल्लंघन करते हुए फर्जी हस्ताक्षर करवाए।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 23, 2018, 01:18 PM IST

  • वसंत गजेरा का नीरव मोदी कनेक्शन:एजेंसियां सतर्क
    +4और स्लाइड देखें
    एक कंपनी में नीरव मोदी और वसंत गजेरा के पार्टनर होने की जानकारी मिली है।

    सूरत। बोगस दस्तावेज का उपयोग कर करोड़ों की जमीन को अपने नाम कराने के आरोप का सामना करने वाले डायमंड व्यापारी वसंत गजेरा का कनेक्शन पीएनबी घोटाले के सूत्रधार नीरव मोदी से है। यह जानकारी सामने आते ही जांच एजेंसियां सतर्क हो गई हैं। यह भी पता चला है कि एक कंपनी में नीरव मोदी और गजेरा पार्टनर हैं। गजेरा का नाम नीरव से जुड़ने से सनसनी…

    एक कंपनी में नीरव मोदी और वसंत गजेरा के पार्टनर होने की जानकारी सामने आते ही चारों तरफ सनसनी फैल गई है। कतारगाम, वराछा और ए.के. रोड समेत डायमंड इंडस्ट्रीज और अन्य उद्योगों में वसंत गजेरा का नाम पीएनबी घोटालेबाज के साथ उछलने पर चर्चा का विषय है। उल्लेखनीय है कि इसके पहले नीरव मोदी के यहां वर्ष 2015 में डीआरआई की टीम ने छापा मारा था, तब सवाल यह खड़ा हुआ था कि नीरव मोदी के करोड़़ का डायमंड लोकल मार्केट में किसके माध्यम से डायवर्ट हुआ। इसके अलावा वेट की हाल की रिपोर्ट में भी यह उल्लेख किया गया है कि एक हजार करोड़ के एक्सपोर्ट के सबूत नहीं दिए गए हैं, इस सीधी मतलब यही होता है कि हीरों का यह संग्रह लोकल मार्केट में ही रफा-दफा कर दिया गया है।

    अफसर नीरव का लोकल कनेक्शन खोज रहे हैं

    अधिकारी इस समय नीरव मोदी का लोकल कनेक्शन खोजने में लगे हैं। इस संबंध में हाल ही में लोकल सेशंस कोर्ट में भी शिकायत दर्ज की गई थी। इन हालात में अधिकारी इस काम में लगे हैं कि कहीं से भी कुछ भी छोटा सा सुराग हाथ लगे, जिससे नीरव मोदी के खिलाफ ठोस सबूत मिले। जांच एजेंसियां भी एक अलग ही एंगल से इस मामले को देख रही हैं। एक अधिकारी ने बताया कि इस संबंध में कोई जानकारी नहीं मिली है, केवल चर्चाओं का ही दौर जारी है। इसलिए अभी कुछ कहा नहीं जा सकता।

    गजेरा ने सिविल कोर्ट के आदेश को भी अनदेखा किया

    डुमस के तेजस पटेल ने वसंत गजेरा की शांति इंटरप्राइजेज के खिलाफ शिकायत करते हुए बताया कि रुंढ स्थित सर्वे नम्बर 52 की 2000 वर्गमीटर विरासत में मिली जमीन को सिविल कोर्ट ने रमेश भाई जगा भाई पटेल, धीरुभाई जगाभाई पटेल और पार्वती बेन जगाभाई पटेल को आवंटित की थी। कोर्ट के आदेश के बाद भी तेजस के चाचा धनसुख जगा पटेल के साथ मेलापीपला में चुनी गजेरा और वसंत गजेरा ने मेरे प्लाट की अदला-बदली कर दी। इस फेर में फर्जी हस्ताक्षर का भी सहारा लिया गया। इसकी शिकायत पुलिस थाने में दर्ज कराई गई थी। इस मामले में पुलिस ने भी सिविल कोर्ट के आदेश का उल्लंघन किया है।

  • वसंत गजेरा का नीरव मोदी कनेक्शन:एजेंसियां सतर्क
    +4और स्लाइड देखें
    अधिकारी नीरव मोदी का लोकल कनेक्शन खोजने में लगे हैं।
  • वसंत गजेरा का नीरव मोदी कनेक्शन:एजेंसियां सतर्क
    +4और स्लाइड देखें
    फर्जी हस्ताक्षर कर वसंत गजेरा ने सिविल कोर्ट के आदेश का उल्लंघन किया है।
  • वसंत गजेरा का नीरव मोदी कनेक्शन:एजेंसियां सतर्क
    +4और स्लाइड देखें
    क्राइम ब्रांच में शिकायत दर्ज किए जाने के बाद भी गजेरा ने जमीन के दस्तावेज अपने नाम कराए।
  • वसंत गजेरा का नीरव मोदी कनेक्शन:एजेंसियां सतर्क
    +4और स्लाइड देखें
    भाविदर्शन फ्लेटधारकों को गजेरा के गुर्गे धमकी देते रहते हैं।
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Surat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×