Hindi News »Gujarat »Surat» Surat Students Protest Against Cbse Exam Paper Leak

CBSE बोर्ड के स्टूडेंट्स ने किया विरोध, कहा- गलती बोर्ड की है तो सजा उन्हें क्यों दी जा रही है

छात्रों ने सीबीएसई की फुलफार्म बताई- कम्पलीट बुलिस्ट सिस्टम आॅफ एजुकेशन

Bhaskar News | Last Modified - Mar 31, 2018, 05:30 AM IST

  • CBSE बोर्ड के स्टूडेंट्स ने किया विरोध, कहा- गलती बोर्ड की है तो सजा उन्हें क्यों दी जा रही है
    +1और स्लाइड देखें

    सूरत. केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के परीक्षा प्रश्न पत्र लीक का विरोध सूरत में भी देखने को मिला। बोर्ड परीक्षा में शामिल 10वीं और 12वीं के छात्रों ने शुक्रवार को काला टीशर्ट पहनकर सीबीएसई के खिलाफ नारेबाजी की और इस पूरे मामले में बोर्ड की भूमिका पर सवाल उठाए। छात्रों का कहना था कि गलती बोर्ड की है तो सजा उन्हें क्यों दी जा रही है। उन्होंने तो ईमानदारी पूर्वक परीक्षा दी। इसलिए वह दोबारा परीक्षा नहीं देना चाहते। उधर देरशाम शिक्षा सचिव अनिल स्वरूप ने यह स्पष्ट किया कि 10वीं बोर्ड की परीक्षा सिर्फ हरियाणा और दिल्ली में होगा। बाकी स्टेट में फिलहाल दोबारा परीक्षा की संभावना नहीं है। हालांकि 12वीं अर्थशास्त्र की परीक्षा 25 अप्रैल को होगी।


    - सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा दोबारा करवाने की सूचना के बाद सूरत में लगभग 300 छात्रों ने शुक्रवार को कारगिल चौक के पास इकट्ठा होकर विरोध-प्रदर्शन किया। छात्रों ने विरोध के लिए काले कपड़े पहन रखे थे। सभी छात्र एवं छात्राओं ने काले टीशर्ट और काली पट्टी बांधकर सीबीएसई बोर्ड के खिलाफ नारेबाजी की।

    - छात्रों ने कहा कि देश की सबसे भरोसेमंद एजुकेशन संस्था का सिस्टम ही ठीक नहीं है। इसलिए हमको सड़क पर उतरना पड़ रहा है। विरोध कर रहे छात्रों ने तख्ती पर सीबीएसई का फुलफार्म कम्पलीट बुलिस्ट सिस्टम आॅफ एजुकेशन बताया। छात्रों का कहना था कि जो खुद फेल हो गया हो वह छात्रों का भविष्य कैसे संवार सकती है।

    गलती बोर्ड की सजा हम क्यों भुगते

    सीबीएसई बोर्ड में पढ़ने वाले छात्रों ने आरोप लगाया कि ये गलती सीबीएसई बोर्ड की है और प्रश्नपत्र लीक होना उनकी नाकामी है। ऐसे में इसकी सजा छात्रों को क्यों दी जा रही है। पेपर लीक तो दिल्ली में हुआ है फिर पूरे देश के छात्रों का इसमें क्या कसूर है। वह अब दोबारा परीक्षा की तैयारी नहीं करना चाहते। वह बोर्ड के पुन: परीक्षा के आदेश को नहीं मानेंगे। 12वीं के छात्र मानव सीरावाला का कहना है कि उनका पेपर बहुत अच्छा गया था, लेकिन अब आगे का पेपर कैसा आएगा उनको नहीं पता। साथ ही हम जाकर किसी से शिकायत नहीं कर सकते, क्योंकि इसका सारा सिस्टम तो दिल्ली से है तो फिर इतनी बड़ी सजा हम नहीं भुगता चाहते।

    विरोध जारी: आज निकलेगी रैली, डीईओ को देंगे ज्ञापन
    विरोध कर रहे छात्रों ने कहा कि वह शनिवार को अठावा गेट स्थित वनिता विश्राम से लेकर जिला शिक्षा अधिकारी के दफ्तर तक रैली निकालेंगे। जहां जिला शिक्षा अधिकारी को सीबीएसई के खिलाफ एक आवेदन देंगे, तकि अपनी बात सीबीएसई तक पहुंचा सकें। छात्रों का कहना है कि उनको तो पता ही नहीं कि करना क्या है और किससे अपनी शिकायत करनी है। फिर भी वह जिला शिक्षा अधिकारी के माध्यम से अपनी बात पहुंचाने की कोशिश करेंगे।

    12वीं अर्थशास्त्र की परीक्षा 25 अप्रैल को होगी
    देरशाम केन्द्रीय शिक्षा सचिव अनिल स्वरूप ने प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि 10वीं गणित की परीक्षा सिर्फ हरियाणा और दिल्ली में होगी। अगर जांच में कुछ मिला तो संभवत: 2 या 3 जुलाई को 10वीं की परीक्षा ली जाएगी। वहीं 12वीं अर्थशास्त्र की परीक्षा 15 अप्रैल को करवाने की बात स्वरूप ने कही है।

    जो हुआ ठीक नहीं है। इसमें हम कुछ नहीं कर सकते हैं। बोर्ड ने अगर पुन: परीक्षा का निर्णय लिया है तो उसका पालन करना चाहिए। छात्रों को परीक्षा की पुन: तैयारी शुरू कर देनी चाहिए। क्योंकि छात्रों को परीक्षा से घबराना नहीं चाहिए। उन्हें जीवन में कई परीक्षाएं देनी पड़ती है।
    -अनिल ठाकोर, शिक्षक (सीबीएसई बोर्ड)

  • CBSE बोर्ड के स्टूडेंट्स ने किया विरोध, कहा- गलती बोर्ड की है तो सजा उन्हें क्यों दी जा रही है
    +1और स्लाइड देखें
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Surat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×