--Advertisement--

ये शख्स बेरोजगारों को पहले दिलाता था जॉब, फिर ट्रेनिंग के लिए देता था लूटे हीरे

20 करोड़ रुपए के हीरे की लूट में पकड़े गए आरोपी अरविंद उर्फ अर्जुन पाण्डेय का हीरा व्यापारियों के साथ अच्छे संबंध थे।

Danik Bhaskar | Mar 21, 2018, 09:24 AM IST

सूरत. 20 करोड़ रुपए के हीरे की लूट में पकड़े गए आरोपी अरविंद उर्फ अर्जुन पाण्डेय का हीरा व्यापारियों के साथ अच्छे संबंध थे। इसका फायदा उठाते हुए वह बाहर से आने वाले बेरोजगार लोगों को रोजगार मेला के माध्यम से हीरा कारखाने में नौकरी दिलवाता था। इससे पहले युवाओं को ट्रेंड करने के लिए वह हीरे भी युवाओं को उपलब्ध करवाता था। पुलिस का कहना है कि वह लूट के हीरो का इस्तेमाल युवाओं को ट्रेनिंग देने के लिए करता था। उसकी ऑफिस से हल्की क्वालिटी के हीरे पुलिस को मिले हैं।


- इसके अलावा उस पर करीब 10 लाख रुपए का कर्जा भी है। पुलिस ने आरोपियों द्वारा लूट में इस्तेमाल की गई कार भी बरामद कर ली गई है।

- 14 तारीख को ग्लो स्टार नामक हीरा कंपनी के कर्मचारियों पर हमला और फायरिंग कर 20 करोड़ रुपए के हीरे लूटने के मामले में पुलिस ने आरोपी अरविंद उर्फ अर्जुन पांडे को गिरफ्तार किया है।

- पुलिस की जांच में पता चला कि आरोपी अर्जुन अक्सर रोजगार मेला आयोजित करता था, जिसमें आने वाले युवाओं को हीरे के कारखाने में नौकरी दिलाने से पहले उन्हें ट्रेनिंग भी देनी पड़ती थी।

- वह ट्रेनिंग भी अर्जुन खुद दिलाता था। इसके लिए हीरे भी अर्जुन देता था। अर्जुन की प्रिंसेज प्लाजा ऑफिस से पुलिस को जांच में वहां से हल्की क्वालिटी के 6 हीरे भी मिले हैं।

दाे कारतूस भी मिले

- पुलिस ने देवध गांव स्थित आरोपियों के घर से लूट में इस्तेमाल हुई ईको कार और डॉक्यूमेंट भी बरामद किए हैं। बरामद डॉक्यूमेंट का इस्तेमाल सिम लेने में किया गया था, ताकि इनकी शिनाख्त न हाे सके। इसके अलावा पुलिस को दो कारतूस भी मिला है। हालांकि वह तमंचा अभी नहीं मिला है। उल्लेखनीय है कि लूट में आरोपियों ने 9 एमएम बोर से फायरिंग की थी।