--Advertisement--

फाइनेंसर के ऑफिस पहुंची महिला से ज्यादती की कोशिश, भागकर बचाई इज्जत

मामले की पुलिस से शिकायत करने पर महिला को मिली जान से मारने की धमकी।

Dainik Bhaskar

Jan 01, 2018, 07:20 AM IST
सिम्बॉलिक इमेज। सिम्बॉलिक इमेज।

सूरत. डिंडोली में एक विधवा महिला ने अपनी जरूरत के लिए फाइनेंसर से ब्याज पर पैसे लिए थे। इसके लिए फाइनेंसर ने उसके घर के कागजात बतौर गिरवी रख लिया था। गैरकानूनी रूप से दिए गए इस कर्ज के फाइनेंसर ने 10 प्रतिशत ब्याज भी वसूला। महिला का दावा है कि उसने सारे पैसे चुका दिए फिर भी फाइनेंसर उसे परेशान कर रहा था। चार दिन पहले ही उसने घर के कागजात देने के लिए अपने ऑफिस बुलाया था, जहां फाइनेंसर सहित दो लोगों ने उसके साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की। किसी तरह उनके चंगुल से निकलकर अपनी इज्जत बचाई।

पैसे चुकाने के बाद भी पैसे की मांग करता था आरोपी फायनेंसर
- डिंडोली की रहने वाली 32 साल की एक विधवा महिला ने तीन साल पहले निजी जरूरत के लिए हरीश मौर्या से 70 हजार रुपए लिए थे, जिसके लिए हरीश ने 10 प्रतिशत ब्याज लगाया था। महिला का कहना है कि उसने समय पर ब्याज और पूरे पैसे भी धीरे-धीरे कर चुका दिए। फिर भी मौर्या उससे पैसे की मांग करता था। उसने जब भी अपने घर के कागजात मांगे उसने और पैसे देने की मांग की। चार दिन पहले वह नवागाम जूना जकातनाका के पास द्वारकेश्वर स्थित उसके ऑफिस पर घर के कागजात लेने गई थी। वहीं पर हरीश ने रेशमा के साथ बदतमीजी की। घटना के बाद दोनों आरोपी फरार हो गए।

पुलिस से शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी

हरीश को आशंका थी कि महिला पुलिस में फरियाद कर सकती है। इसी के चलते घटना के बाद रात को हरीश अपने साथी मुकेश बिहारी के साथ महिला के घर गया। जहां उसके घर पर पथराव कर पुलिस फरियाद करने पर बच्चों को जान से मारने की धमकी दी। उसके बाद डर की वजह से महिला कहीं चली गई। शनिवार को पीड़िता ने आरोपी हरीश मौर्या और मुकेश बिहारी के खिलाफ डिंडोली पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कराया है। पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए उनके घर पर छापेमारी की, लेकिन दोनों नहीं मिले।

गैरकानूनी : आरोपी फाइनेंसर के पास नहीं है लाइसेंस
शुरुआती जांच में पता चला है कि आरोपी हरीश मौर्या के पास ब्याज पर पैसे देने का लाइसेंस नहीं है। ऐसे में सवाल उठता है कि वह बिना लाइसेंस के पैसे कैसे दे सकता है। पिछले दिनों पुलिस कमिश्नर ने भी ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही थी। शहर में ऐसे कई मामले भी आ चुके हैं, जिसमें ऐसे फाइनेंसर लोगों से मनमानी ब्याज वसूलते हैं, जिसके कारण कई लोगों ने या तो आत्महत्या के प्रयास किए या फिर उनपर जानलेवा हमले हुए। पुलिस कमिश्नर ने लोगों से अपील भी की थी कि ऐसे लोगों की शिकायत नजदीकी पुलिस स्टेशन में दें ताकि उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सके।

X
सिम्बॉलिक इमेज।सिम्बॉलिक इमेज।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..