--Advertisement--

पति की मौत से चुप थी पत्नी, 3 दिन बाद बाथरूम में नहाने गई और यूं दे दी जान

बचाने की कोशिश करने वाले भाई और पड़ोसी भी जख्मी हो गए।

Dainik Bhaskar

Jan 16, 2018, 05:40 AM IST
आनंद सुरेका और पत्नी श्वेता सु आनंद सुरेका और पत्नी श्वेता सु

सूरत. सूरत के काराेबारी की शुक्रवार को एक सड़क हादसे में मौत हो गई थी। इसके बाद से उसकी 37 साल की पत्नी एकदम चुप सी हो गई थी। घटना के 3 दिन बाद परिवार के लोग मृतक की शोकसभा में जाने की परिवार के लोग तैयारी कर रहे थे। इसी दौरान महिला ने नहाने के लिए बाथरूम जाने की बात कही। अपार्टमेंट की पांचवी मंजिल पर स्थित उस फ्लैट के बाथरूम मेें जाकर उसने खिड़की का कांच तोड़ा और वहां से छलांग लगा दी।

3 दिन पहले दर्दनाक हादसे में पति को खोया था

- शुक्रवार 12 जनवरी को वेसू में ट्रक की टक्कर से तिरुपति साड़ीज के मालिक आनंद नवल सुरेका की मौत हो गई थी। आनंद अपनी नई क्रेटा कार से आभवा गांव के पास गए थे। वहां से लौटते वक्त वे विनायक मंदिर के पास रात करीब 8.30 बजे वह कार साइड में खड़ी कर सड़क क्रॉस कर रहे थे, इसी दौरान ट्रक ने उन्हें टक्कर मार दी।

- रात 9 बजे हादसे की जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस को चश्मदीद बताया कि मृतक को एक ट्रक ने कुचल दिया था। हादसा इतना भयंकर था कि सुरेका की लाश दो हिस्सों में बंट गई। पुलिस ट्रक का पता लगाने कोशिश कर रही है। हालांकि, इस हादसे के होने पर शक जताया जा रहा है।

पति की मौत का सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाई पत्नी

- मौत के ठीक चौथे दिन सोमवार को आनंद की शोक सभा रखी गई थी। सोमवार सुबह परिवार के लोग आंनद की शोकसभा में जाने की तैयारी कर रहे थे। श्वेता ने कहा कि वह भी चलेगी। ऐसा बोल वह 8:30 बजे नहाने चली गईं, लेकिन उसने बाथरूम की खिड़की का कांच तोड़कर वहां से छलांग लगा दी।

3 लोगों के देखते-देखते श्वेता पांचवीं मंजिल से कूद गई

- महिला को छलांग लगाते देख कुछ लोग उन्हें बचाने के लिए दौड़े लेकिन बचा नहीं सके। बाथरूम की खिड़की का कांच टूटने की आवाज के बाद बिल्डिंग के सिक्युरिटी गार्ड के अलावा श्वेता के भाई संजय शंकर सराफ और सी विंग में रहने वाले मनोज हरवानी ने भी देखा।

- सिक्युरिटी गार्ड श्वेता को रोकने के लिए चिल्लाने लगा, लेकिन महिला ने उसे अनसुना करते हुए छलांग लगा दी। उसे बचाने संजय और मनोज दौड़े। उन्होंने कोशिश की, लेकिन श्वेता उनके पैरों पर गिरी। खून से लथपथ हालत में उसे तुरंत अस्पताल में ले जाया गया, लेकिन वहां डाॅक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

- श्वेता को बचाने की कोशिश में उनके भाई संजय शंकर सराफ के पैर में चोट आई हैं। इस हादसे के बाद आनंद सुरेका की शोक सभा स्थगित कर दी गई।

जीवनभर यह अफसोस रहेगा कि हम उन्हें बचा नहीं सके
मनोज हरवानी ने बताया कि हम तमाम कोशिश के बावजूद श्वेतो को बचा नहीं सके, इसका अफसोस पूरी जिंदगी रहेगा। श्वेता के भाई संजय सराफ ने बताया कि वह दोनों बच्चों को स्कूल की वैन में बैठाकर आए तभी देखा कि बहन पांचवीं मंजिल से कूद रही है। बचाने की कोशिश की, लेकिन नहीं बचा पाए।

मां-पिता की माैत के बाद परिवार में दो बेटे

40 साल के आनंद मूल रूप से बेगूसराय(बिहार) के रहने वाले थे अौर सूरत के सिटीलाइट इलाके में स्थित सूर्या पैलेस में फ्लेट नंबर डी-507 में कई साल से अपने परिवार के साथ रहते थे। पति-पत्नी की मौत केके बाद उनके परिवार में उनके माता-पिता, भाई और चार बहनें हैं। उनके दो बेटे केशव (11) और मुदित (9) हैं।

X
आनंद सुरेका और पत्नी श्वेता सुआनंद सुरेका और पत्नी श्वेता सु
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..