Hindi News »Gujarat »Surat» Ahmadabad Gandhinagar Will Be Kerosene Free

अहमदाबाद-गांधीनगर होगा केरोसिन मुक्त, घटेगा प्रदूषण, कचरे से पैदा होगी बिजली

प्रदूषण न फैले इसलिए हरियाणा और चंडीगढ़ की तरह अहमदाबाद और गांधीनगर को केरोसिन मुक्त सिटी बनाने का निर्णय लिया गया है।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 18, 2017, 04:53 AM IST

  • अहमदाबाद-गांधीनगर होगा केरोसिन मुक्त, घटेगा प्रदूषण, कचरे से पैदा होगी बिजली

    गांधीनगर.अहमदाबाद और गांधीनगर में प्रदूषण को कम करने के लिए मुख्य सचिव जेएन सिंह ने गांधीनगर में संबंधित विभाग के सचिवों, अहमदाबाद-गांधीनगर के पालिका आयुक्त, कलेक्टर और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों की बैठक बुलाई। मुख्य सचिव ने अधिकारियों के साथ विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। हवा में प्रदूषण न फैले इसलिए हरियाणा और चंडीगढ़ की तरह अहमदाबाद और गांधीनगर को केरोसिन मुक्त सिटी बनाने का निर्णय लिया गया।


    दोनों शहरों में ईधन के रूप में केरोसिन के उपयोग को कम करने के लिए उज्जवला योजना को बढ़ाने पर जोर दिया जाएगा। अहमदाबाद में एएमटीएस की नई बसों को सीएनजी से चलाने का भी निर्णय लिया गया है। वाहन विभाग द्वारा 15 साल से पुराने वाहनों का रजिस्ट्रेशन को रद्द करने की नीति बनाई जाएगी। भीड़भाड़ वाले इलाकों में पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन बढ़ाने का पालिका को निर्देश दिया गया है।

    अहमदाबाद में सीएनजी और इलेक्ट्रिक वाहनों का उपयोग बढ़ाने के लिए सब्सिडी आदि पर बनेगी नई नीति

    - वाहनों में पीयूसी सर्टिफिकेट और वाहनों की जांच की कड़ी व्यवस्था होगी।
    - थ्री व्हीलर वाहनां को सीएनजी में कनवर्ट करने के लिए आर्थिक मदद की नीति बनेगी।
    - रिक्शा, टेम्पो सहित थ्री व्हीलर वाहनों केरोसिन के उपयोग को बंद कराने के लिए कड़ी कार्रवाई होगी।
    - अहमदाबाद के पीराणा साइट में इकट्ठा होने वाले कचरे बिजली पैदा करने के लिए गुजरात एनर्जी रेग्युलेटरी कमिशन तथा अन्य तकनीकी मुद्दों पर चर्चा के लिए विशेष बैठक होगी।
    - लेंडफिल साइट कचरा निस्तारण की दरखास्त सरकार के सामने पेश की जाएगी।
    - प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा प्रदूषण मापने के लिए नए स्टेशन बनेंगे।
    - ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा बायोमास खुले में जलाने पर प्रतिबंध लगाया गया है जिस पर कड़ाई अमल होगा।
    - 50 माइक्रोन से पतली प्लास्टिक के उपयोग पर लगे प्रतिबंध पर अमल होगा।
    - शहरी क्षेत्रों में वॉल टू वॉल कार्पेट और पेवर मेंट कर डस्टिंग कम करने का प्रयास होगा।
    - संबंधित विभाग बनाएंगे एक्शन प्लान।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Surat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×