Hindi News »Gujarat News »Surat News» Interesting Facts About Rani Ki Vav In Gujarat

30 KM दूर खुलता है इस सुरंग का दरवाजा, देखने पहुंचे राहुल गांधी

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 14, 2017, 04:34 PM IST

इस बावड़ी को वास्तुकला का बेजोड़ नमूना माना जाता है। इसलिए इसे 23 जून 2014 को वर्ल्ड हेरिटेज साइट्स में शामिल किया गया था
  • 30 KM दूर खुलता है इस सुरंग का दरवाजा, देखने पहुंचे राहुल गांधी
    +10और स्लाइड देखें
    रानी की वाव देखने पहुंचे राहुल गांधी।
    पाटण (गुजरात). गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी यहां के ऐतिहासिक बावड़ी 'रानी की वाव' देखने पहुंचे। बता दें कि इस बावड़ी से एक रहस्यमयी सुरंग निकलती है जिसका दूसरा दरवाजा 30 किलोमीटर दूर खुलता है। इस बावड़ी को वास्तुकला का बेजोड़ नमूना माना जाता है। इसलिए इसे 23 जून 2014 को वर्ल्ड हेरिटेज साइट्स में शामिल किया गया था।

    दुनिया भर से लोग आते हैं देखने
    - रानी की वाव का निर्माण 11वीं सदी में सोलंकी शासक राजा भीमदेव की याद में उनकी पत्नी रानी उदयमती ने करवाया था।
    - माना जाता है कि बावड़ी में बने सुरंग का यूज युद्ध के दौरान राजा और उनकी फैमिली को सुरक्षित निकालने के लिए किया जाता था।
    - 30 किलोमीटर लंबी इस रहस्यमयी सुरंग का दूसरा छोर पाटण के सिद्धपुर में खुलता है।
    बावड़ी की ये है मान्यता
    - वाव में हजार से भी ज्यादा छोटे-बड़े स्कल्पचर हैं। दीवारों और खंभों पर नक्काशियां की गई है।
    - विष्णु और उनके अवतार राम, वामन, महिषासुरमर्दिनी, कल्कि की नक्काशी की गई है।
    - मान्यता है कि इस बावड़ी में नहाने से चर्म रोग से जुड़ी बीमारियां नहीं होती। बावड़ी के आसपास आयुर्वेदिक पौधे लगे हुए हैं।
    - माना जाता है कि इनकी जड़ें बावड़ी के पानी से जुड़ी हुई है जिससे पानी औषधि युक्त बन जाता है।
    - 64 मीटर लंबी, 20 मीटर चौड़ी और 27 मीटर गहरी रानी की वाव के नीचे पानी का टैंक हैं।
    - सात मंजिला इस बावड़ी का निर्माण 1022 से 1063 ईं के बीच किया गया था। लेकिन अब ये केवल 5 मंजिला ही बची है।
    सात शताब्दी तक गाद में दबी थी ये बावड़ी
    - बता दें कि पाटण कभी गुजरात की राजधानी थी। 8वीं सदी के दौरान चालुक्य राजपूतों के चावड़ा साम्राज्य के राजा वनराज चावड़ी द्वारा बनाया गया ये गढ़वाली शहर था।
    - ये वाबड़ी मारू-गुर्जर शैली को दर्शाता है। ये करीब सात सदी तक सरस्वती नदी के लापता होने के बाद गाद में दबी थी।
    आगे की स्लाइड्स में देखें संबंधित फोटोज....
  • 30 KM दूर खुलता है इस सुरंग का दरवाजा, देखने पहुंचे राहुल गांधी
    +10और स्लाइड देखें
    इस बावड़ी से एक रहस्यमयी सुरंग निकलती है जिसका दूसरा दरवाजा 30 किलोमीटर दूर खुलता है।
  • 30 KM दूर खुलता है इस सुरंग का दरवाजा, देखने पहुंचे राहुल गांधी
    +10और स्लाइड देखें
    इस बावड़ी को वास्तुकला का बेजोड़ नमूना माना जाता है। इसलिए इसे 23 जून 2014 को वर्ल्ड हेरिटेज साइट्स में शामिल किया गया था।
  • 30 KM दूर खुलता है इस सुरंग का दरवाजा, देखने पहुंचे राहुल गांधी
    +10और स्लाइड देखें
    रानी की वाव का निर्माण 11वीं सदी में सोलंकी शासक राजा भीमदेव की याद में उनकी पत्नी रानी उदयमती ने करवाया था।
  • 30 KM दूर खुलता है इस सुरंग का दरवाजा, देखने पहुंचे राहुल गांधी
    +10और स्लाइड देखें
    बावड़ी में बने सुरंग का यूज युद्ध के दौरान राजा और उनकी फैमिली को सुरक्षित निकालने के लिए किया जाता था।
  • 30 KM दूर खुलता है इस सुरंग का दरवाजा, देखने पहुंचे राहुल गांधी
    +10और स्लाइड देखें
    30 किलोमीटर लंबी इस रहस्यमयी सुरंग का दूसरा छोर पाटण के सिद्धपुर में खुलता है।
  • 30 KM दूर खुलता है इस सुरंग का दरवाजा, देखने पहुंचे राहुल गांधी
    +10और स्लाइड देखें
    वाव में हजार से भी ज्यादा छोटे बड़े स्कल्पचर हैं। दीवारों और खंभों पर नक्काशियां की गई है।
  • 30 KM दूर खुलता है इस सुरंग का दरवाजा, देखने पहुंचे राहुल गांधी
    +10और स्लाइड देखें
    विष्णु और उनके अवतार राम, वामन, महिषासुरमर्दिनी, कल्कि की नक्काशी की गई है।
  • 30 KM दूर खुलता है इस सुरंग का दरवाजा, देखने पहुंचे राहुल गांधी
    +10और स्लाइड देखें
    इस बावड़ी में नहाने से चर्म रोग से जुड़ी बीमारियां नहीं होती। बावड़ी के आसपास आयुर्वेदिक पौधे लगे हुए हैं।
  • 30 KM दूर खुलता है इस सुरंग का दरवाजा, देखने पहुंचे राहुल गांधी
    +10और स्लाइड देखें
    इनके जड़ें बावड़ी के पानी से जुड़ी हुई है जिससे पानी औषधि युक्त बन जाता है।
  • 30 KM दूर खुलता है इस सुरंग का दरवाजा, देखने पहुंचे राहुल गांधी
    +10और स्लाइड देखें
    64 मीटर लंबी, 20 मीटर चौड़ी और 27 मीटर गहरी रानी की वाव के नीचे पानी का टैंक है।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Surat News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Interesting Facts About Rani Ki Vav In Gujarat
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From Surat

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×