--Advertisement--

मार्केट में ठगी रोकने के लिए व्यापारियों ने लांच किया ‘टेक्सटाइल दुनिया’ नामक ऐप

ऐप में 6 महीने से अधिक समय बीतने पर भी भुगतान नहीं करने वालों की होगी पूरी डिटेल्स।

Danik Bhaskar | Nov 23, 2017, 03:16 AM IST

सूरत. कपड़ा कारोबार में माल लेकर पेमेंट नही देने के मामले बड़ी संख्या में हैं। शहर पुलिस, मनपा आैर कपड़ा व्यापारी मिलकर भी इसका हल नही निकाल पाए हैं। इस स्थिति में ठगी के मामलों को रोकने के लिए एक कपड़ा व्यापारी ने ऐसी एेप बनाई जो व्यापारियों के लिए किसी आशीर्वाद से कम नहीं हैं।

‘टेक्सटाइल दुनिया’ एेप पर रिव्यू सेंटर नाम का फीचर है। जिसमे 6 माह से अधिक समय बीत जाने के बाद भी पेमेंट नही करने वाले व्यापारियों की संस्था का नाम और उनके मोबाइल नंबर सहित कई जानकारी अपलोड की जाती है। जिसमें पेमेंट नही करने वालों की लिस्ट देखी जा सकती है। अब तक ‘टेक्सटाइल दुनिया’ से 4 हजार 700 व्यापारी रजिस्टर्ड हो चुके हैं। जिनमें 2047 ट्रेडर, 953 होल सेलर एवं रिटेलर, 304 ट्रेडर एवं होलसेलर एजेंट, 662 वीवर्स, 197 मिल वाले, 191 एंब्रॉइडरी व्यापारी, 76 लेस मैन्युफैक्चरर्स, 33 वीवर्स के एजेंट, 22 मिल वालों के एजेंट, 15 कुरियर सर्विस आैर 23 ट्रांसपोर्टर रजिस्टर्ड हैं।

ऐसे काम करेगी ‘टेक्सटाइल दुनिया’

‘टेक्सटाइल दुनिया’ एेप प्ले स्टोर, आईओएस आैर वेब साइट पर उपलब्ध है। एेप डाउनलोड करने के बाद रजिस्ट्रेशन करना होता है। रजिस्ट्रेशन में फर्म का नाम, अपना नाम, मोबाइल नंबर समेत सभी जानकारी देनी होती है। इसे डाउनलोड करने के बाद जिनसे रुपए लेने हैं उन्हें 180 दिन पहले लिए कपड़े का बिल देना होगा।

यह फीचर शामिल है एेप में : एेप में सेक्टर स्पेसिफिक, न्यूज फीड, बीटूबी पोर्टल, सोशल मीडिया, बिजनेस कनेक्ट फीचर, डिटेल सर्च, प्राइवेसी ऑप्शन, प्लेसिंग ऑर्डर, प्रोडक्ट लाइक, प्रोफाइल विजिट और रिव्यू सेंटर शामिल हैं।

टेक्सटाइल दुनिया एप के निर्माता आकाश अग्रवाल ने बताया कि पापा को पेमेंट के लिए हमेशा परेशान देखता था। माल लेकर भी व्यापारी कहते थे कि दबाव बनाया तो पुलिस को बता देंगे। इसी को देखते हुए ऐप बनाने का निर्णय लिया।

53 व्यापारी को चुकाने है 1 करोड़ 2 लाख रुपए

‘टेक्सटाइल दुनिया’ एक साल पूर्व बनाई थी। इस एप में एक अहम फीचर रिव्यू सेंटर एक माह पूर्व ही एड किया। पेमेंट नही करने वाले व्यापारी के नाम है। एक माह में 53 व्यापारी इस लिस्ट में शामिल हो चुके है। जिनके पास से अलग-अलग व्यापारियों को 1 करोड़, 2 लाख रुपए लेने हैं।

रेफरेंस का काम कर रही है एप


किसी अंजान व्यापारी से कारोबार करने से पहले व्यापारी 4 लोगों का रेफरेंस लेता है। बस यह एेप भी एक रेफरेंस सोर्स का कार्य करेगी। जिन लोगों ने एेप डाउनलोड की है वह रुपए अदा नहीं करनेवालों की लिस्ट इसमें देख सकता है।

फैशन ट्रेंड से भी अवगत कराएगी एप


बाजार में लगातार होते परिवर्तन आैर फैशन ट्रेंड से भी यह एेप व्यापारी को अपडेट रखेगी। कौनसी नई डिजाइन आई है? किस डिजाइन की डिमांड अधिक है ,यह जानकारी भी इस एेप पर उपलब्ध है। इसके अलावा व्यापारी अपनी डिजाइन जिसे बताना चाहता है उसे ही बता पाए वह सुविधा भी है।