Hindi News »Gujarat News »Surat News» Patidar Votes Decider On Saurashtra-Kutch S 54 Seats

गुजरात: पाटीदारों का साथ क्यों जरूरी, कितनी सीटों पर इस कम्युनिटी का असर?

Bhaskar News | Last Modified - Nov 17, 2017, 03:21 PM IST

गुजरात की 182 सीटों पर 9 और 14 दिसंबर को वोटिंग होगी। वहीं, 18 दिसंबर को रिजल्ट आएंगे। बीजेपी 19 साल से सत्ता में है।
  • गुजरात: पाटीदारों का साथ क्यों जरूरी, कितनी सीटों पर इस कम्युनिटी का असर?
    +3और स्लाइड देखें

    अहमदाबाद. 1980 के दशक से पाटीदार बीजेपी के सपोर्ट में रहे हैं। सौराष्ट्र-कच्छ की 54 सीटों पर पाटीदारों का मजबूत जनाधार है। सीएसडीएस के सर्वे के अनुसार, 2012 के चुनाव में 75% पाटीदारों ने बीजेपी के पक्ष में मतदान किया था। 2014 के लोकसभा चुनाव में भी पाटीदार ने साथ दिया, पर 2015 के आरक्षण आंदोलन के बाद पाटीदारों पर इसकी पकड़ ढीली होती गई। अब अमित शाह टीम के सामने सबसे बड़ी चुनौती पाटीदारों को मैनेज करना है। जबकि कांग्रेस के लिए पाटीदारों की नाराजगी को वोट बैंक के रूप में अपने पक्ष में भुनाना है। बता दें कि गुजरात की 182 विधानसभा सीटों के लिए 9 और 14 दिसंबर को चुनाव होना है। वहीं, 18 दिसंबर को रिजल्ट आएंगे।

    सौराष्ट्र-कच्छ की 54 सीटों पर 9 दिसंबर को वोटिंग

    - सौराष्ट्र-कच्छ की 54 सीटों पर 9 दिसंबर को वोटिंग होगी। कच्छ बीजेपी का गढ़ है। यहां कुल छह सीटें हैं। 2007 और 2012 में बीजेपी ने 5-5 सीटें जीती थींं, जबकि 2012 के उपचुनाव में अबडासा की सीट बीजेपी के हाथ से निकल गई थी।

    - 1985 में 182 में से 149 सीटें जीत कर कांग्रेस सत्ता में आई थी। इसके बाद फिर उसके लिए गुजरात चुनाव में अपने बलबूते पर वापसी करना टेढ़ी खीर बन गया।

    2017 में वर्चस्व की लड़ाई

    - इस चुनाव की सबसे अहम खासियत यह है कि दोनों बड़ी पार्टियां अपने वर्चस्व की लड़ाई लड़ रही हैं। कांग्रेस का हारना उसे मरण शैय्या पर ले जाएगा, तो बीजेपी का हारना उसके डेवलपमेंट को बौना साबित करेगा। वहीं, हार्दिक और जिग्नेश जैसे नेता फिर अपना आधार खोजकर किसी पार्टी के पिछलग्गू बनते नजर आएंगे।

    2012 से पाटीदार बीजेपी से हुए दूर, सौराष्ट्र में 7 सीटों का नुकसान

    - 2012 में केशूभाई के कारण बीजेपी ने 23 सीटें गंवाई थी। गुजरात परिवर्तन पार्टी को केवल 2 सीटें यानी 3.9% वोट मिले थे।

    - सौराष्ट्र में बीजेपी को 7 सीटों का नुकसान हुआ था, जबकि देखा जाए तो पाटीदार आंदोलन का स्वरूप केशूभाई के बीजेपी विद्रोह से बहुत बड़ा है। 2012 में सौराष्ट्र में बीजेपी को 7.9% ज्यादा वोट मिले थे। 2017 के चुनाव में 3 से 4% कम वोट से भी बीजेपी को भारी नुकसान हो सकता है।

    50,247 मतदान केंद्र, बढ़ी वोटर्स की तादाद

    - राज्य में कुल 50,128 मतदान केंद्र थे, परंतु इस बार मतदाताओं की तादाद बढ़ने पर 119 नए मतदान केंद्र बनेंगे। 2017 के विधानसभा चुनाव में कुल 50, 247 मतदान केंद्र होंगे। चीफ इलेक्टोरल अफसर बीबी स्वैन ने बताया कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 50 लाख नकद और 7.33 करोड़ रुपए के सोने-चांदी के गहने जब्त किए हैं। 48,857 हथियार जब्त हुए हैं। इसके अलावा 28,425 गैरजमानती वारंट जारी किए गए हैं।

    शाह ने शुरू की डैमेज कंट्रोल की कवायद
    - दिल्ली में बुधवार को बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में विधानसभा की 182 सीटों पर कैंडिडेट्स का नाम फाइनल कर दिया गया। एक-दो दिनों में बीजेपी कैंडिडेट्स की सूची जारी कर देगी।
    - अमित शाह गुरुवार को दिल्ली से अहमदाबाद पहुंच गए। शाह ने पार्टी के प्रदेश कार्यालय कमलम में मीटिंग की। अमित शाह लिस्ट जारी होने से पहले डैमेज कंट्रोल में लग गए हैं।

    ओबीसी, आदिवासी और दलित वोटों पर फोकस
    - DainikBhaskar.com के सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी ने ओबीसी, आदिवासी और दलित समाज के वोटों पर ध्यान केंद्रित किया है। अमित शाह के दक्षिण गुजरात, मध्य गुजरात और उत्तर गुजरात के दौरे के दौरान इनसे जुड़ें नेताओं को विशेष रूप से मौजूद रखा गया था। अमित शाह ने दलित, आदिवासी समाज के अलग-अलग नेताओं के साथ बैठकें की हैं।

    आंदोलन के बाद हुए चुनाव के हालात
    - पाटीदार आंदोलन के बाद सौराष्ट्र-कच्छ की 4 सीटों पर हुए उपचुनाव में विसावदर, अबडासा कांग्रेस ने जीती थी। सौराष्ट्र की 8 में से 1 जिला पंचायत पर भी कांग्रेस की जीत हुई थी।
    - इसके अलावा, 23 जिला पंचायतों और 113 तहसील पंचायतों पर कांग्रेस की विजय हुई थी। पंचायत चुनावों में हुई हार को ध्यान में रखते हुए भाजपा विधानसभा चुनाव में पाटीदार की आबादी वाले इलाकों पर विशेष ध्यान दे रही है।

  • गुजरात: पाटीदारों का साथ क्यों जरूरी, कितनी सीटों पर इस कम्युनिटी का असर?
    +3और स्लाइड देखें
  • गुजरात: पाटीदारों का साथ क्यों जरूरी, कितनी सीटों पर इस कम्युनिटी का असर?
    +3और स्लाइड देखें
  • गुजरात: पाटीदारों का साथ क्यों जरूरी, कितनी सीटों पर इस कम्युनिटी का असर?
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Surat News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Patidar Votes Decider On Saurashtra-Kutch S 54 Seats
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From Surat

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×