सूरत

--Advertisement--

BJP एक साथ 6 लाख लोगों को दे सकती है पार्टी का मैसेज, कांग्रेस की पहुंच 50 हजार तक ही

विधानसभा चुनाव के फर्स्ट फेज के डेट्स के नजदीक आने के साथ ही सभी पार्टियां सोशल मीडिया पर तेजी से सक्रिय हो गई हैं।

Danik Bhaskar

Nov 29, 2017, 02:39 AM IST
बीजेपी ने हर क्षेत्र में 20 ऐसे वर्कर्स की टीम तैनात की है जो वोटर्स की राय, ट्रेंड, विरोधी की हर एक्टिविटी इन्फॉर्मेशन सेल को देती है। -फाइल बीजेपी ने हर क्षेत्र में 20 ऐसे वर्कर्स की टीम तैनात की है जो वोटर्स की राय, ट्रेंड, विरोधी की हर एक्टिविटी इन्फॉर्मेशन सेल को देती है। -फाइल

सूरत. गुजरात विधानसभा चुनाव में पहले फेज की वोटिंग की तारीख नजदीक आते ही बीजेपी और कांग्रेस के बीच सोशल मीडिया पर जंग तेज हो गई है। बीजेपी 6 लाख लोगों तक तो कांग्रेस 50 लोगों तक एक साथ मैसेज भेज रही है। यह दावा दोनों ही पार्टियों ने किया है। इस काम उनकी आईटी सेल मुस्तैदी से जुटी हैं। बीजेपी जहां कांग्रेस के 60 साल के कामों पर तंज कस रही है, वहीं कांग्रेस नोटबंदी और जीएसटी से कारोबारी को हुई परेशानी को कैश कराने की कोशिशों में जुटी है।

एक साथ 6 लाख वोटर्स तक पहुंचती है BJP

- बीजेपी का दावा है कि उसका आईटी सेल एक बार में एक साथ करीब 6 लाख वोटर्स तक पार्टी का मैसेज पहुंचाता है।

- वहीं कांग्रेस भी अपने सोशल मीडिया के जरिए एक साथ 50 हजार वोटर्स तक पार्टी का मैसेज पहुंचाने का दावा करती है।
- बीजेपी के सूरत आईटी सेल इंचार्ज पीवीएस शर्मा ने बताया कि एक्सपर्ट्स के अलावा करीब 700 लोग सेल से जुड़े हुए हैं, जो पार्टी के लिए काम करते हैं।
- वहीं कांग्रेस के विनीत सिंह बताते हैं कि उनकी पार्टी बीजेपी की तरह प्राइवेट एजेंसी के जरिए सोशल मीडिया पर काम नहीं करती। उनके वर्कर्स और वॉलंटियर्स ही अलग-अलग मीडिया से वोटर्स तक पहुंच बनाते हैं।

ऐसे काम करता है पार्टियों का IT सेल
बीजेपी: पार्टी का मेन आईटी सेल हर विधानसभा क्षेत्र पर नजर रखता है। एरिया वाइज डाटा कलेक्शन और एनालिसिस के लिए खासतौर पर दो लोग अप्वाइंट किए गए हैं। इसके अलावा बीजेपी ने हर क्षेत्र में 20 ऐसे वर्कर्स की टीम तैनात की है जो वोटर्स की राय, ट्रेंड, विरोधी की हर एक्टिविटी इन्फॉर्मेशन सेल को देती है।

कांग्रेस: सूरत शहर के हर विधानसभा क्षेत्र में पार्टी ने दो वर्कर्स तैनात किए हैं, जो मेन आईटी सेल को इलाके की हर तरह की इन्फॉर्मेशन देते हैं। आईटी सेल फेसबुक, ट्विटर या वॉट्सऐप के जरिए मिलने वाली वोटर्स की प्रॉब्लम्स दूर करता है।

स्क्रिप्ट राइटर लिख रहे भाषण
- चुनाव में वोटर्स तक अपनी बात पहुंचाने या उनकी कोई बात सुनने से छूट न जाए, इसके लिए सूरत शहर के कैंडिडेट्स कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहे हैं। यही वजह है कि न सिर्फ पार्टी लेवल पर, बल्कि पर्सनल लेवल पर भी वे इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के जरिए वोटरों से कनेक्ट होते हैं।
- इसके लिए कई कैंडिडेट्स फेसबुक लाइव कराते हैं। लगातार टि्वटर हैंडल अपडेट करते हैं या वॉट्सऐप ग्रुप पर रेग्यूलर इन्फॉर्मेशन देते रहते हैं।
- निजी तौर पर बिजी होने की वजह से इस काम में ढिलाई न हो, इसके लिए स्पीच लाइव करने के लिए प्रोफेशनल वीडियोग्राफर हायर कर रखे हैं।
- नाम न छापने की शर्त पर बीजेपी के एक स्पोक्सपर्सन ने बताया कि सूरत के कई कैंडिडेट्स ने भाषण लिखने के लिए स्क्रिप्ट राइटर हायर किए हैं। ये राइटर वोटर्स का मूड, उनकी भाषा, स्थानीय मुद्दों और जरूरतों को ध्यान में रखकर भाषण लिखते हैं।

पूर्णेश मोदी ने कराया था लाइव
- पिछले दिनों वित्त मंत्री अरुण जेटली सूरत में थे। बीजेपी के कैंडिडेट पूर्णेश मोदी ने जेटली का भाषण अपने फेसबुक पेज से लाइव दिखवाया।
- इसके अलावा पीएम मोदी की सभाओं का लाइव कराने का भी इंतजाम है।
- पूर्णेश मोदी ने कैम्पेन के हर प्रोग्राम को लाइव कराने का इंतजाम कर रखा है। बीजेपी के साथ-साथ कांग्रेस के कई कैंडिडेट्स ने भी वर्चुअल कैम्पेन का इंतजाम किया है।

आगे की स्लाइड में पढ़ें, सोशल मीडिया पर छा जाने का तरीका...

BJP का सोशल मीडिया पर छा जाने का तरीका

 

फेसबुक

तीन मुख्य पेज हैं। कैंडिडेट्स ने अपने पेज बना रखे हैं। सूरत बीजेपी के पेज से अब तक 1 लाख लोग जुड़ चुके हैं। पिछले 15 दिनों में इससे 15000 यूजर्स जुड़ चुके हैं। सबसे फेमस कैंडिडेट पूर्णेश मोदी हैं जिनके करीब 5 लाख फॉलोअर्स हैं। वहीं हर्ष संघवी को साढ़े 3 लाख से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं, जबकि संगीता पाटिल के करीब 83 हजार फॉलोअर्स हैं। 

 

ट्विटर

12 विधानसभाओं के लिए ट्विटर हैंडल हैं। इसके अलावा सूरत बीजेपी, प्रदेश बीजेपी और पार्टी का मुख्य ट्विटर हैंडल है। वहीं, कैंडिडेट अपने ट्विटर हैंडल संभालते हैं। सेंट्रल आईटी सेल से मिलने वाले मैसेज को पार्टी के कार्यकर्ता हैशटैग के साथ ट्वीट या रिट्वीट कर ट्विटर पर ट्रेंड बनाने का काम करते हैं।

 

वॉट्सऐप

सूरत शहर की 12 विधानसभाओं के लिए पार्टी ने 3200 वॉट्सऐप ग्रुप बना रखे हैं। एक ग्रुप में 200 मेंबर हैं, यानी इन ग्रुप्स की पहुंच सीधे 6 लाख 40 हजार लोगों तक है। 

 

कांग्रेस सोशल मीडिया पर छा जाने का तरीका

 

फेसबुक

पिछले चार महीनों में कांग्रेस ने सूरत की 12 सीटों के लिए 16 फेसबुक पेज बनाए हैं। इसमें 15 से 20 हजार लोग जुड़े हुए हैं। इनमें एरिया वाइज और चार अन्य पेज हैं। कुछ कैंडिडेट्स ने भी पेज बनाए हैं। इसके अलावा शहर कांग्रेस और राज्य कांग्रेस के पेज से 35 हजार फॉलोअर्स जुड़े हुए हैं। वहीं, राज्य कांग्रेस हेड ऑफिस से कंट्रोल होने वाले फेसबुक पेज पर 1.50 लाख लोग हैं। 

 

ट्विटर

सूरत आईटी सेल और सूरत कांग्रेस के अलावा राज्य और केंद्र के हेड ऑफिस के ट्विटर हैंडल हैं। सूरत की सीटों के लिए अलग से हैंडल नहीं है। हालांकि, पार्टी के वर्कर्स को निर्देश दिया गया है कि वे निजी ट्विटर हैंडल से नेताओं के मैसेज, स्पीच या वन लाइनर कोट्स को ट्वीट या रिट्वीट कर वोटर्स तक पहुंचाएं।

 

वॉट्सऐप

हर विधानसभा के लिए एक ग्रुप बनाया है। हर ग्रुप में 200 मेंबर हैं, यानी 30 हजार लोगों तक पार्टी की सीधी पहुंच बनती है। इसके अलावा 150 ग्रुप अलग से बने हैं। 

 

 

Click to listen..