Hindi News »Gujarat »Surat» Tejas Train Between Ahmedabad And Mumbai

पूर्व रेल मंत्री ने की थी तेजस चलाने की घोषणा, अब रेल बोर्ड ने कहा- नहीं चलेगी

सुरेश प्रभु ने इसी वर्ष 5 फरवरी को अपने सूरत दौरे पर सूरत से मुंबई के बीच तेजस ट्रेन को चलाने की घोषणा की थी।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 11, 2017, 04:04 AM IST

  • पूर्व रेल मंत्री ने की थी तेजस चलाने की घोषणा, अब रेल बोर्ड ने कहा- नहीं चलेगी
    सूरत.मुंबई सेंट्रल और अहमदाबाद के बीच अब तेजस ट्रेन नहीं चलेगी। इसी साल फरवरी में तत्कालीन रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने अपने सूरत आगमन पर ऐलान किया था कि तेजस सूरत और मुंबई के बीच चलाई जाएगी। बाद में मई में इस ट्रेन के गंतव्य बदलाव किया गया और कहा गया कि यह ट्रेन अहमदाबाद और मुंबई के बीच चलेगी।
    अब रेलवे बोर्ड ने कहा है कि अहमदाबाद और मुंबई के बीच तेजस ट्रेन चलाने का कोई प्रस्ताव नहीं है। आरटीआई से पूछे गए सवाल के जवाब में रेलवे बोर्ड ने कहा है कि बजट 2016-17 में घोषित तेजस ट्रेन को पश्चिम रेल के मुंबई सेंट्रल-अहमदाबाद के बीच चलाने का अभी कोई प्रस्ताव नहीं है। साथ ही यह भी बताया कि इस ट्रेन को चलाने के लिए अभी कोई तैयारी नहीं है।

    तत्कालीन रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने की थी तेजस चलाने की घोषणा

    तत्कालीन रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने इसी वर्ष 5 फरवरी को सूरत अपने सूरत दौरे पर सूरत से मुंबई के बीच तेजस ट्रेन को चलाने की घोषणा की थी। इस ट्रेन को चलाने के लिए टाइम टेबल भी तैयार कर लिया गया था। पश्चिम रेल के अधिकारियों ने इसके परिचालन को लेकर ट्रैक मेंटेनेंस भी कर लिया था। 9 मई को पश्चिम रेल ने दादर से सूरत के बीच तेजस ट्रेन के गंतव्य में बदलाव कर दिया और इस ट्रेन को सूरत के बजाय अहमदाबाद तक चलाने की घोषणा की।
    आदेश : जून में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने तेजस के लिए टाइम टेबल बनाने को कहा था

    तेजस ट्रेन को चलाने में पश्चिम रेल ने जबरदस्त उत्सुकता दिखाई थी। जून में रेलवे बोर्ड के तत्कालीन चेयरमैन एके मित्तल ने कहा था कि मुंबई-अहमदाबाद के बीच तेजस ट्रेन सितंबर तक शुरू कर दी जाएगी। उन्होंने टाइम टेबल बनाने का आदेश भी दे दिया था और कहा था कि सूरत स्टेशन पर इसको हॉल्ट दिया जाएगा। पश्चिम रेल द्वारा तेजस परिचालन को लेकर पहले से ही शेड्यूलिंग की जा चुकी थी। इसके अलावा रूट फिजिबिलिटी की स्टडी भी पूरी की जा चुकी थी।
    जवाब : रेल बजट 2016-17 में अहमदाबाद से मुंबई के बीच तेजस चलाने का जिक्र नहीं

    अहमदाबाद-मुंबई तेजस ट्रेन के संदर्भ में सूरत रेलवे सिटिजन डेवलपमेंट फोरम ने आरटीआई से जवाब मांगा था। इस आरटीआई पर रेलवे बोर्ड ने 1 नवंबर 2017 को जवाब दिया। बोर्ड ने अपने जवाब में कहा है कि रेल बजट 2016-17 में तेजस ट्रेनों की घोषणा हुई थी। इसमें अहमदाबाद या सूरत से मुंबई के लिए तेजस ट्रेन चलाने का जिक्र नहीं था। बोर्ड ने अपने जवाब में यह भी कहा कि तेजस ट्रेन चलाने का फिलहाल अभी कोई प्रस्ताव नहीं है।
    22 सुविधाओं से लैस है ट्रेन का हर एक कोच
    देश की पहली तेजस इन दिनों मध्य रेल पर मुंबई सीएसटी से गोवा के बीच चलाई जा रही है। इस ट्रेन में एग्जिक्यूटिव श्रेणी और कुर्सी यान की सुविधाएं हैं। सभी कोच में 22 नई सुविधाएं हैं, जैसे हर यात्री के लिए अलग से एलसीडी स्क्रीन और हेडफोन लगा है। स्क्रीन पर जरूरी सूचनाएं भी दी जाती हैं। अतिरिक्त रैक कपूरथला के रेल कोच कारखाने और चेन्नई के इंटेग्रल कोच फैक्ट्री में तैयार किए जा रहे हैं।
    मई में होना था तेजस ट्रेन के रैक का अलॉटमेंट
    पश्चिम रेल मुंबई के मंडल रेल प्रबंधक मुकुल जैन ने दैनिक भास्कर को बताया था कि तेजस के रैक आरसीएफ में तैयार किए जा रहे हैं। इसके अलावा आईसीएफ ने बताया था कि तत्कालीन रेलवे चेयरमैन के आदेशानुसार रैक बनाने के कार्य में तेजी लाई गई थी। अहमदाबाद -मुंबई तेजस ट्रेन के पहले रैक का अलॉटमेंट रेल बोर्ड से 16 मई को किया जाना था, लेकिन अभी तक नहीं हुआ। तेजस के पहले रैक का अलॉटमेंट मध्य रेल को किया गया। मुंबई-गोवा के बीच तेजस का 22 मई से परिचालन शुरू हो चुका है।
    आचार संहिता के कारण नहीं करेंगे टिप्पणी :पश्चिम रेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि रेलवे बोर्ड ने आरटीआई में जो जवाब दिया है अभी हम उस पर गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए लगी अाचार संहिता के कारण कोई टिप्पणी नहीं करेंगे। चुनाव खत्म होने तक किसी भी नई ट्रेन को चलाने की घोषणा नहीं होगी। हमारी तरफ से तेजस ट्रेन को चलाने की तैयारी पूरी की जा चुकी थी। हमें इस ट्रेन को चलाने के लिए निर्देश मिले थे।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Surat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×