--Advertisement--

शादी के 5 साल बाद बच्चा न होने पर हॉस्पिटल गई महिला, नर्स ने पति से कहा- बाहर वेट करो, चेकअप कराने अंदर गई पत्नी से डॉक्टर ने किया रेप

सूरत के मी एंड मम्मी अस्पताल में विवाहिता से रेप मामला।

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 05:26 PM IST

सूरत। शहर के ननपुरा इलाके में स्थित मी एंड मम्मी अस्पताल के डॉ. प्रफुल दोषी ने 08 सितंबर को पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। डॉक्टर पर एक महिला ने रेप का आरोप लगाया है। तभी से डॉक्टर फरार चल रहा था। अठवा पुलिस की एक टीम उसके फरार होने के बाद तीन दिनों तक वो जहां भी रुका वहां भेजी गई है। इतना ही नहीं, पुलिस अब 2006 में डॉक्टर पर महिलाओं द्वारा लगाए गए आरोपों की भी जांच करेगी। डॉक्टर ने अब तक जिन महिलाओं का ट्रीटमेंट किया है उनसे भी पूछताछ की जाएगी।

जिस फार्महाउस पर रुका था आरोपी, उसकी की जाएगी जांच

पुलिस ने बताया, अभी तक डॉक्टर ने गुनाह कबूला नहीं है। अठवा पुलिस ने बताया कि 5 से 8 सितंबर तक डॉक्टर फरार था। इस बीच वो नवसारी, मुंबई और अहमदाबाद में था, जहां एक टीम का गठन करके भेजा गया है। इसमें जरूर कुछ न कुछ मिल सकता है। डॉक्टर ने अब तक जितनी भी महिलाओं का ट्रीटमेंट किया है उन महिलाओं से बात करने की कोशिश की जाएगी। महिला के आरोप लगाने के बाद डॉक्टर फरार हो गया था। लेकिन 8 सितंबर को रात 11 बजे उसने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया था।

क्या था 2006 का मामला

2006 में एक गर्भवती महिला ने समाजसेवी गीता श्रॉफ को बताया था कि डॉक्टर ने उसके साथ अप्राकृतिक संबंध बनाया था। महिला ने आरोप लगाया था कि उसे प्रसूति पीड़ा हो रही थी। चेक अप करने के बहाने उसे अंदर बुलाकर उसके साथ अप्राकृतिक तरीके से संबंध बनाया। ये जानने के बाद गीता श्रॉफ ने डॉक्टर के खिलाफ कुछ और महिलाओं को ढूंढा जिनके साथ डॉक्टर ने संबंध बनाए थे। मगर 6 से 7 महिलाओं में से किसी ने भी डॉक्टर के खिलाफ शिकायत दर्ज नहीं कराई। इसके बाद मामला दब गया और डॉक्टर के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हुई थी। 2006 में सूरत शहर के पुलिस आयुक्त सुधीर सिन्हा ने कहा था कि जब तक कोई शिकायत दर्ज नहीं होगी तब तक किसी की कोई गिरफ़्तारी नहीं की जा सकती।

क्या है 04 सितंबर 2018 का मामला

एक 28 वर्षीय महिला ने 04 सितंबर को गायनेकोलॉजिस्ट पर रेप का आरोप लगाया है। महिला ने बताया कि इलाज करवाने के लिए वह शहर के मी एंड मम्मी अस्पताल में गई थी। इलाज के बहाने डॉक्टर उसे अपने चैंबर में ले गया। मौत का इंजेक्शन लगाने की धमकी देकर डॉक्टर ने उसके साथ रेप किया।

पति बाहर बैठा रहा और आरोपी डॉक्टर अंदर महिला से करता रहा हैवानियत

- पीड़िता ने बताया- शादी के 5 साल बाद वह नि:संतान है। इसके कारण उसने कई जगहों पर अपना इलाज करवाया इसके बाद भी जब कोई फायदा नहीं हुआ तो 4 सितंबर को अपने पति के साथ नानपुरा में डॉ. प्रफुल दोषी के मी एंड मम्मी अस्पताल में गई थी। अस्पताल में ढाई घंटों तक इंतजार करने के बाद डेढ़ बजे अंदर गए।

- डॉ. प्रफुल दोषी के ऑफिस में जाने के बाद उसका पति कुर्सी पर बैठ गया। चेकअप के लिए उसके साथ डॉक्टर और एक नर्स कंसल्टिंग रूम में गए।

- अंदर सोनोग्राफी करने के बाद डॉक्टर ने नर्स को इंजेक्शन लगाने को कहा। वह बेड पर लेटी हुई थी, तब उस वक्त वहां पर दूसरी नर्स ने आकर उसे इंजेक्शन लगाया और बाहर चली गई।

- अब रूम में वह और डॉक्टर ही थे। उसे अकेला पाकर डॉक्टर ने कहा- अगर उसने ये बात किसी को बताई तो इंजेक्शन लगाकर उसे जान से मार देगा। इसके बाद घबराकर उसने कुछ नहीं कहा और डॉक्टर ने उसके साथ रेप किया। रेप करने के बाद उसने अगले दिन दूसरा आईयूआई का इंजेक्शन लेने के लिए बुलाया। इसके बाद वह बाहर आ गई जहां उसका पति बैठा हुआ था। वहां से निकलकर बाहर काउंटर पर बिल जमा किया।

- अस्पताल के नीचे पार्किंग में आने के बाद उसने पूरी घटना पति को बताई। घर पहुंचते ही पति और अन्य सगे संबंधियों ने मिलकर डॉ. प्रफुल दोषी के खिलाफ अठवालाइंस थाने में मामला दर्ज करवाया।

डॉ. प्रफुल दोषी सूरत शहर के पहले गायनिक डॉक्टर हैं, जिन्होंने शहर का पहला इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) द्वारा बच्चे का जन्म कराया था।