--Advertisement--

मां-पत्नी के बीच पिस गया था-इंकमटैक्स आफिसर की व्यथा

बेटे को पढ़ाने-लिखाने के लिए पैसे जमा कर रहा था, अब नौकरी करके भी क्या फायदा?

Danik Bhaskar | Apr 25, 2018, 04:48 PM IST
पत्नी चंचल और पति राम मेहेर पत्नी चंचल और पति राम मेहेर

सूरत। यदि तुम मेरी मां से बात नहीं करोगी, तो मैं भी तुमसे बात नहीं करूंगा।’ यदि मैंने पत्नी को ऐसा कह दिया, तो क्या गलत किया। जो उसने मेरे बेटे के साथ 12 मंजिल से कूदकर सुसाइड कर लिया। सिविल हास्पिटल में अपनी व्यथा व्यक्त करते हुए इंकमटैक्स आफिसर राम महेर ने कहा कि बचपन में मेरे पिता की मौत के बाद मेरी मां ने मुझे बहुत ही गरीबी में पाला, तो मैं उन्हें कैसे अनदेखा कर देता। घर में पसरा रहता सन्नाटा…

इंकमटैक्स आफिसर ने बताया कि शादी के एक साल बाद तक सास-बहू के बीच लगातार झगड़ा होता रहता। इसके बाद झगड़े बंद हो गए। परंतु दोनों के बीच दूरी बढ़ गई। जब भी घर पहुंचूं, तो पत्नी एक कोने पर और मां एक कोने पर बैठी रहती। पत्नी से पूछता कि क्या हुआ, तो जवाब मिलता-कुछ नहीं। मां से भी वही जवाब मिलता। घर में हमेशा श्मशान जैसा सन्नाटा पसरा रहता। मैने पत्नी चंचल को कभी किसी प्रकार की कमी नहीं होने दी। उसकी हर इच्छा की पूर्ति की। हमारे बीच कभी कोई विवाद नहीं हुआ। मैं गर्व से कहता कि मैं दुनिया का ऐसा पति हूं, जिसने पत्नी की हर इच्छा की पूर्ति की है। हम अभी अपने ससुर के यहां चार दिन रहकर आए। वहां भी उसने ऐसा कुछ नहीं कहा, जिससे लगे कि वह असंतुष्ट है। उसने एक पल में ही मेरी जिंदगी बरबाद कर दी।

शादी से पहले ही कह दिया था

मैं जब चंचल को देखने गया था, तभी उससे कह दिया कि मैं जब 3 महीने का था, तभी मेरे पिता का देहांत हो गया, मां ने बहुत ही गरीबी से मुझे पाला-पोसा। शादी के बाद मैं उनको अनदेखा नहीं कर सकता। मेरी मां मेरे लिए सब कुछ है। उसने हां कहा था। आखिर वही कारण रहा, जिससे उसने बेटे के साथ मौत की छलांग लगा दी।

चार साल से पिस रहा था

मैं चार साल से दोनों के बीच पिस रहा था, लगता है अब भी पिसता ही रहूंगा। मैं जो कुछ भी कमाया, अपने परिवार के लिए कमाया, अब परिवार ही नहीं रहा, तो कैसी कमाई और कैसी नौकरी?

इंकमटैक्स आफिसर राम मेहेर। इंकमटैक्स आफिसर राम मेहेर।
पत्नी और बेटे का शव पत्नी और बेटे का शव
कार्रवाई करती पुलिस। कार्रवाई करती पुलिस।