--Advertisement--

मासूम को स्कूल में गर्म चम्मच से दागा, सही से बाेलना भी नहीं जानता बच्चा, आंखों में सूखे आंसू देखे तो भांप गई मां, पैर में थे फफोले

प्रिंसिपल को देर शाम को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Danik Bhaskar | Apr 30, 2018, 07:56 AM IST
मासूम के पैरों पर निशान। मासूम के पैरों पर निशान।

सूरत. वेसू स्थित एक स्कूल में अपने जूते फेंकने पर प्रिंसिपल ने तीन वर्षीय मासूम बच्चे को चार जगह पर गर्म चम्मच से दाग दिया। जब उसकी मां उसे स्कूल लेने आई तो उसके सूखे आंसू देखकर पूछताछ की तो मामला सामने आया। 26 अप्रैल को हुई इस घटना में बच्चे के अभिभावक ने रविवार को उमरा थाने में प्रिंसिपल के खिलाफ मामला दर्ज कराया। जिसके बाद प्रिंसिपल ज्योति अग्रवाल को गिरफ्तार कर लिया गया। पिपलोद स्थित हिमगिरी के बंगलो नंबर 68 निवासी कपड़ा व्यापारी मिहिर महेंद्र कड़ीवाला का तीन वर्षीय बेटा मिहान वेसू के सोमेश्वर एनक्लेव स्थित किड्स कॉलेज ग्रुप के केसीजी अकेडमी सेंटर में पढ़ता है।

नर्सरी में पढ़ रहा मिहान 26 अप्रैल को भी रोजाना की तरह स्कूल गया था। उस दिन वह स्कूल में शरारत कर रहा था आैर अपने जूते फेंक रहा था। मिहान की हरकतों से गुस्साई स्कूल की प्रिंसिपल ज्योति रोहित अग्रवाल ने आया से चम्मच गर्म कर मंगाया और बच्चे के दाहिने पैर में चार जगह दाग दिया। गर्म चम्मच दागने से इस मासूम के पैर पर फफोले हो गए।

मां ने बताई अपने बच्चे की पीड़ा

मिहान की मां स्वाति कड़ीवाला ने बताया कि स्कूल का समय सुबह 9:30 बजे से 12 बजे तक रहता है। जब मैं बेटे को स्कूल लेने के लिए गई तो वह उदास आैर रोया हुआ था। रो-रो के उसके आंसू सूख गए थे। स्वाति ने बताया कि उसका चेहरा देखकर ही मुझे शक हो गया कि उसके साथ कुछ गलत हुआ है। मेरे पूछने पर भी जब मिहान ने कुछ नहीं बताया। इस पर स्वाति ने कहा कि उन्होंने जब इस मामले में स्कूल की प्रिसिंपल से पूछा कि यह क्यों रोया है, इस पर प्रिंसिपल ने मिहान की मां को कहा कि उसने उसे पनीशमेंट दिया है, वह जूते फेंक रहा था।

दूसरे बच्चे इस तरह से न करे इस लिए उसे सबक सिखाने के लिए मैंने चम्मच गर्म कर दाग दिए। स्वाति ने बताया कि जब मिहान को नहलाने के लिए कपड़े निकाले तब उसके पैर पर फफोले देखे। स्वाति ने इस मामले में फौरन स्कूल की प्रिंसिपल को फोन किया कि इस तरह से है। जिसपर प्रिंसिपल ने देखे बिना स्वाति की बात मानने से इनकार कर दिया।

26 अप्रैल को नहीं आई थी एक भी टीचर

स्कूल में बच्चों के लिए तीन आया आैर तीन महिला टीचर है। 26 अप्रैल को एक भी टीचर नहीं आई थी। इसलिएी प्रिंसिपल ज्योति बच्चों को पढ़ा रही थी। माना जा रहा है कि बच्चो की शरारत से गुस्से होकर उसने इस तरह मिहान को प्रताड़ित किया। ज्योति पर पूर्व में भी बच्चों से मारपीट करने के आरोप लगे हंै।

एक्शन: प्रिंसिपल ज्योति अग्रवाल को नहीं हटाने पर हुई एफआईआर

पीड़ित मिहान के पिता मिहिर ने बताया कि जिस दिन घटना हुई उस दिन हमने कुछ नहीं किया। 27 अप्रैल को हम उमरा थाने में शिकायत के लिए गए थे लेकिन प्रिंसिपल ने अपनी गलती मान ली। मिहिर ने कहा कि उन्होंने स्कूल प्रबंधन से ज्योति को हटाने की बात की थी पर प्रिंसिपल के पति रोहित अग्रवाल भी इसी स्कूल में पार्टनर है। रोहित ने ही ज्योति को प्रिंसिपल बनाया है। ज्योति को नहीं हटाने पर मिहान की मां स्वाति ने ज्योति अग्रवाल आैर स्कूल की एक अन्य वृद्धा के खिलाफ उमरा थाने में चाइल्ड प्रोटेक्शन आैर आईपीसी के तहत शिकायत दर्ज कराई।

मासूम सोमेश्वर एन्कलेव की केसीजी एकेडमी सेंटर में पढ़ता है। मासूम सोमेश्वर एन्कलेव की केसीजी एकेडमी सेंटर में पढ़ता है।