--Advertisement--

लिव इन के दौरान जन्मी बच्ची को भरण-पोषण के लिए हर महीने 5 हजार रुपए देने का आदेश

वेसु में रहने वाली महिला ने स्वयं और बेटी के लिए ढाई लाख रुपए की मांग की थी, जिसे कोर्ट ने ठुकरा दिया।

Danik Bhaskar

Sep 12, 2018, 01:57 PM IST
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

सूरत। लिव इन रिलेशनशिप में रहने के दौरान महिला ने बेटी को जन्म दिया। संबंध खत्म होने के बाद महिला ने अदालत में खुद एवं बच्ची के भरण-पोषण के लिए ढाई लाख रुपए की मांग की। अदालत ने बेटी के भरण-पोषण के लिए हर महीने 5 हजार रुपए देने का आदेश दिया है। 2012 में हुआ बेटी का जन्म…

यहां वेसु में रहने वाली एक महिला सितम्बर 2011 से मुम्बई के एक व्यक्ति के साथ लिव इन रिलेशनशिप में रहती थी। इस दौरान 2012 में उसने एक बेटी को जन्म दिया। इसके बाद रिलेशनशिप खत्म हो गई। इससे महिला ने फेमिली कोर्ट में अपने भरण-पोषण के आवेदन किया। तथा बेटी के लिए हर महीने ढाई लाख रुपए देने की मांग की। चूंकि रिलेशनशिप के दौरान महिला का एक अन्य पुरुष के साथ संबंध था, इसलिए कोर्ट ने महिला के भरण-पोषण के आदेश को रद्द कर दिया, पर बेटी के लिए हर महीने 5 हजार रुपए देना मुकर्रर कर दिया।

पहले महिला को 8 हजार देना तय हुआ था

इस मामले में कोर्ट ने पहले महिला को 8 हजार और बेटी को 4 हजार रुपए देने का आदेश दिया था। पर बाद में जब यह खुलासा हुआ कि लिव इन के दौरान महिला का अन्य पुरुष के साथ संबंध था, तो कोर्ट ने पुराना आदेश वापस लेते हुए नए आदेश में कहा कि बेटी के भरण-पोषण के लिए बेटी का पिता उसे हर महीने 5 हजार रुपए दे।

Click to listen..