--Advertisement--

गुजरात से 77.89 में पेट्रोल खरीदकर महाराष्ट्र में 86.24 में बेच रहे हैं माफिया

सीमा पर पेट्रोल का खेल: पांच साल में सरकार को 10 लाख करोड़ की आय, पेट्रोल की खपत में गुजरात दूसरे स्थान पर

Danik Bhaskar | May 26, 2018, 05:08 PM IST
गुजरात से खरीदकर महाराष्ट्र में बेचते हैं पेट्रोल। गुजरात से खरीदकर महाराष्ट्र में बेचते हैं पेट्रोल।

सूरत/नवापुर | गुजरात के मुकाबले महाराष्ट्र में पेट्रोल 8 रुपए महंगा है। इसलिए महाराष्ट्र के सीमावर्ती गांवों में छोटी-छोटी दुकानों पर अवैध ढंग से पेट्रोल की धड़ल्ले से बिक्री हो रही है। दुकानवाले खतरनाक ढंग से पेट्रोल का वहन करते हैं। प्लास्टिक के डिब्बे में धड़ल्ले से भरा जा रहा है पेट्रोल…

गुजरात में पेट्रोल 75 रुपए लीटर है, जो महाराष्ट्र की तुलना में 8.48 रुपए सस्ता है। गुजरात से पेट्रोल खरीदने पर सीधे 8 से 10 रुपए का फायदा होता है। अवैध बिक्री के कारण महाराष्ट्र के पेटोल पंप पर रोजाना दो हजार लीटर पेट्रोल की बिक्री कम होती है। गुजरात के पेट्रोल पंप मालिकों की कमाई दोगुनी हो गई है। नंदूरबार जिले के ग्रामीण इलाकों से गाड़ी के साथ प्लास्टिक का डिब्बा लेकर आने वालों की लंबी लाइन दिखाई देती है।

सरकार की मजबूरी का गणित

पेट्रोल-डीजल कुल खपत 1910 करोड़ लीटर

गुजरात सरकार की आय (2017-18) Rs.18000 करोड़

पेट्रोल-डीजल कुल खपत

17000 करोड़ लीटर

भारत सरकार की आय (2017-18)

Rs.2.50 लाख करोड़

डेढ़ साल से पेट्रोल की बिक्री घटी है

डेढ़ साल से महाराष्ट्र में पेट्रोल की बिक्री कम हो गई है। पहले 6 रुपए का अंतर था। अब एक लीटर पर साढ़े आठ रुपए का फर्क हो गया है। - धर्मेश अग्रवाल, पेट्रोल पंप मालिक, नवापुर

महाराष्ट्र के पेट्रोल पंप मालिकों को भारी नुकसान

मोटर साइकल के साइलेंसर पर 30 लीटर के प्लास्टिक के डिब्बे को रखकर गाड़ी चलाते हैं। ठेले वाले रास्ते पर अवैध ढंग से पेट्रोल बेचते हैं। गुजरात में ठेलेवाले प्लास्टिक के डिब्बे और ड्रम में पेट्रोल भरवाकर महंगे दामों पर बेच रहे हैं। इससे महाराष्ट्र के पेट्रोल पंप मालिकों को भारी नुकसान हो रहा है।

महाराष्ट्र में खुले आम अवैध रूप से पेट्राेल 100 रुपए लीटर। महाराष्ट्र में खुले आम अवैध रूप से पेट्राेल 100 रुपए लीटर।
पेट्रोल की खतरनाक ढंग से अंतरराज्यीय बिक्री पेट्रोल की खतरनाक ढंग से अंतरराज्यीय बिक्री