--Advertisement--

8th क्लास के स्टूडेंट ने रखी मन्नत की चोटी तो स्कूल ने कहा-इसे कटवा कर आओ, बच्चा बोला- मुझे शर्म नहीं आती, कोई मजाक भी नहीं करता

पिता की हो गई है मौत, मन्नत उतारने में होगों 60-70 हजार खर्च, फिलहाल नहीं हैं पैसे।

Danik Bhaskar | Jun 07, 2018, 05:55 AM IST
छात्र श्याम सेजाभाई ने कहा कि चोटी के कारण मुझे कोई शर्म नहीं आती है। स्कूल में कोई भी छात्र मेरा मजाक नहीं उड़ाता है। छात्र श्याम सेजाभाई ने कहा कि चोटी के कारण मुझे कोई शर्म नहीं आती है। स्कूल में कोई भी छात्र मेरा मजाक नहीं उड़ाता है।

जूनागढ़ ‎(गुजरात). आल्फा हाईस्कूल की आठवीं कक्षा में पढ़ने वाले श्याम सेजाभाई हरण के चोटी रखने पर स्कूल संचालक ने आपत्ति जताई है। स्कूल ने छात्र को चोटी कटवाने को कहा है। स्कूल की ओर से छात्र के भाई को फोन करके कहा गया कि तुम्हारे भाई की चोटी कटवा दो और आकर अपनी फीस वापस ले जाओ। आश्चर्य इस बात है कि स्कूल को छात्र की मन्नत की चोटी पर आपत्ति क्यों है? इतना ही नहीं स्कूल से छात्र को फीस वापस ले जाने के लिए कहा है। छात्र की चोटी पर आज गुरुवार को निर्णय होगा। ये है मामला...

- आठवीं कक्षा में पढ़ने वाले श्याम सेजाभाई हरण ने मन्नत की चोटी रखी है। चोटी कटवा की स्थिति भी नहीं है।

- मन्नत को पूरी करने में 60 से 70 हजार रुपए खर्च होंगे। छात्र के पिता का 2013 में निधन हो चुका है।

- श्याम का बड़ा भाई राम मजदूरी करके उसे पढ़ा रहा है। स्कूल संचालक के इस निर्णय से दोनों भाईयों पर नई मुश्किल आ पड़ी है।

- इतना ही नहीं इसे कटवाने में अभी एक साल का समय और लगेगा। स्कूल फीस वापस लौटा देगी तो दूसरे स्कूल में पढ़ाना होगा।

3500रु. फीस जमा की है : रामभाई

- रामभाई ने बताया कि आल्फा हाई स्कूल में 3500 रुपए फीस जमा की है।

- किताब और यूनिफार्म भी स्कूल की ओर से दे दिया गया है।

- फीस वापस दे दी गई तो दूसरे स्कूल में प्रवेश कराने पर ज्यादा रुपए खर्च होंगे। दूसरे स्कूल में जाने के लिए पैसे भी नहीं हैं ।

Related Stories