Hindi News »Gujarat »Surat» Sleeper Table And AC Coach Will Be Removed From The Sleeper Magazine Pouch

रेल यात्री तोड़ देते हैं, इसलिए सभी ट्रेनों के स्लीपर से निकाल दी जाएगी ये चीज

रेलवे बोर्ड ने सभी जोन को पत्र भेजकर दिया आदेश।

Bhaskar News | Last Modified - Apr 29, 2018, 02:49 PM IST

रेल यात्री तोड़ देते हैं, इसलिए सभी ट्रेनों के स्लीपर से निकाल दी जाएगी ये चीज

सूरत.रेलवे ने स्लीपर कोच से स्नैक टेबल, मैगजीन पाउच, जबकि एसी कोच से मैगजीन पाउच हटाने का निर्णय लिया है। रेलवे का कहना है कि स्लीपर कोच के यात्री वजनदार सामान रखकर स्नैक टेबल तोड़ देते हैं और मैगजीन पाउच उखाड़ देते हैं, जबकि ऐसी कोच में लगे मैगजीन पाउच में यात्री मूंगफली के छिलके और वेफर के पाउच जैसी चीजें डाल देते हैं, इसलिए यह फैसला किया गया है।

रेलवे ने यह भी कहा है कि फैक्ट्रियों में बन रहे नए स्लीपर कोच में स्नैक टेबल, मैगजीन पाउच और एसी में मैगजीन पाउच की सुविधा नहीं दी जाएगी। अगले 2 दिनों में फेरे पूरा करके यार्ड में निरीक्षण के दौरान ट्रेनों के स्लीपर कोच से स्नैक टेबल हटाए जाएंगे।

रेलवे बोर्ड मेंबर (मैकेनिकल) नावेद तालिब ने आदेश जारी करते हुए कहा कि सभी जोन की ट्रेनों में इन दो सुविधाओं की कटौती की जाएगी। अधिकतर यात्री अपना सामन स्नैक टेबल पर रख देते हैं जिससे वह टूट जाता है। एसी कोच में मैगजीन पाउच में लोग मूंगफली के छिलके डाल देते हैं।

सूरत में अब डीएमई लेंगे फैसला

रेलवे बोर्ड ने कहा कि कोच फैक्ट्री में बन रहे नए कोच में ये सुविधाएं अब नहीं दी जाएंगी। सूरत स्टेशन के निदेशक सीआर गरुड़ ने बताया कि रेलवे बोर्ड द्वारा जारी किया यह सर्कुलर मेकैनिक इंजीनियरिंग से जुड़ा है। सूरत यार्ड डीएमई इस पर फैसला लेंगे।

खाने की स्नैक टेबल और किताब के लिए है मैगजीन पाउच

ट्रेन के स्लीपर कोच के दो बर्थ के बीच में यात्रियों के खाना खाने या नाश्ता के लिए एक फोल्डिंग टेबल लगाया जाता है जिसे यात्री फोल्ड कर सकते है। जरूरत के अनुसार उसे सीधा कर उसपर खाना भी खा सकते हैं। इसके अलावा ट्रेनों के कोच में पाउच बैग बनाए जाते हैं जिसमें बॉटल या फिर अन्य मैगजीन पेपर रख सकते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Surat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×