4 साल की थी जब घर-परिवार से मोह हुआ कम; 6 साल की हुई तो त्याग दिया घर; अब 9 साल की ये मासूम बनेगी साध्वी / 4 साल की थी जब घर-परिवार से मोह हुआ कम; 6 साल की हुई तो त्याग दिया घर; अब 9 साल की ये मासूम बनेगी साध्वी

पिता से करती थी सिर्फ एक जिद

Dainikbhaskar.com

Feb 14, 2019, 04:44 PM IST
Gujarat Samachar in hindi: Surat 9 year old girl Ayushi will become monk

सूरत. जिस उम्र में बच्चे खेल-कूद के अलावा और किसी बारे में नहीं सोचते, 9 साल की उस नन्हीं उम्र में मुमुक्षु आयुषी जैन दीक्षा लेकर साध्वी बनने जा रही है। वेसू के तपागच्छ जैन संघ में शुक्रवार सुबह 6.00 बजे दीक्षा महोत्सव शुरू होगा। जिसमें 17 और 18 साल की दो और मुमुक्षु अंजली और मुमुक्षु आज्ञा भी दीक्षा लेंगी। इन्हें आचार्य रत्नचंद्रसूरी दीक्षा प्रदान करेंगे। 9 साल की बच्ची मुमुक्षु आयुषी ने कहा, मुझे प्रभु का सानिध्य पसंद है। इसलिए संन्यासी बनना है। मैं अपनी मां के साथ भी पूजा में बैठा करती थी।


एक साल में 1200 किमी का विहार


पुणे निवासी भरत दोषी की बेटी आयुषी ने पुणे के आरसीएम स्कूल में दूसरी कक्षा तक पढ़ाई की। इसके बाद पुणे स्थित संस्कार वाटिका ज्ञानशाला में रहकर जैन धर्म के संस्कारों के बारे में जानने समझने लगी। इससे घर-परिवार का मोह कम हो गया। मां रेशमा ने बताया, आयुषी ने गुरु-भगवंतों के साथ एक साल में करीब 1200 किमी विहार किया है। पिछले वर्ष चातुर्मास के दौरान आयुषी 5 महीने तक घर नहीं आई थी। 6 साल की बहन रीता अभी पढ़ रही है।


पिता बोले, बचपन से उसकी एक ही जिद थी


आयुषी के पिता कहते हैं, बचपन में जब आयुषी किसी मुमुक्षु को दीक्षा लेते हुए देखती थी तो खुद भी दीक्षा लेने की जिद कर रोने लगती थी। यही नहीं, खाना खाने से भी मना कर देती थी। आयुषि ने कम उम्र में साध्वी बनी हंसकीर्ति से प्रेरित होकर 4 साल की उम्र में संयम मार्ग पर जाने के लिए ठान लिया था। आयुषि को बच्चों के साथ उठना-बैठना और खेलना भी पसंद नहीं था।

आस्था का विषय

यह तो आस्था का विषय है। जैन धर्म में 8 वर्ष से बड़ा कोई भी व्यक्ति दीक्षा ले सकता है। -आचार्य रत्नचंद्रसूरी


दीक्षा समारोह शुरू


बुधवार की सुबह से ही गुरु भगवंतों के प्रवेश के साथ दीक्षा समारोह शुरू हो गया। गुरुवार की सुबह 8.30 बजे मुमुक्षु आयुषी , अंजलि और आज्ञा का वरसीदान भव्य जुलूस निकला। इसके बाद श्री संघस्वामीवात्सल्य किया गया। शुक्रवार की सुबह 6 बजे तीनों मुमुक्षु की प्रव्रज्या विधि प्रारंभ होगी। इस दौरान मेहंदी, सांजी, कपड़ा रंगने और भावना जैसे दूसरे कार्यक्रम भी होंगे।

Gujarat Samachar in hindi: Surat 9 year old girl Ayushi will become monk
Gujarat Samachar in hindi: Surat 9 year old girl Ayushi will become monk
Gujarat Samachar in hindi: Surat 9 year old girl Ayushi will become monk
Gujarat Samachar in hindi: Surat 9 year old girl Ayushi will become monk
X
Gujarat Samachar in hindi: Surat 9 year old girl Ayushi will become monk
Gujarat Samachar in hindi: Surat 9 year old girl Ayushi will become monk
Gujarat Samachar in hindi: Surat 9 year old girl Ayushi will become monk
Gujarat Samachar in hindi: Surat 9 year old girl Ayushi will become monk
Gujarat Samachar in hindi: Surat 9 year old girl Ayushi will become monk
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना