--Advertisement--

सूरत हाईप्रोफाइल मर्डर: पेशेवर अपराधी जैसा है शातिर संजय

आरोपी ने मोबाइल और सीसीटीवी से दूर रहकर इत्मीनान से की बीना की हत्या।

Danik Bhaskar | May 16, 2018, 01:18 PM IST

सूरत। अपने डॉक्टर दोस्त की पत्नी से प्यार कर उसकी हत्या करने वाला संजय डाेवरिया इस मामले में एक पेशेवर अपराधी के रूप में सामने आया है। अपराध करते समय उसने न तो मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया और न ही कहीं सीसीटीवी में कैद हुआ है। हर हरकत के दौरान सचेत था…

आमतौर पर कोई पेशेवर अपराधी ही अपराध के दौरान पूरी सावधानी बरतता है। ठीक उसी तरह बीना की हत्या के आरोपी संजय ने इस हत्या को इतनी सावधानी से अंजाम दिया है कि पुलिस भी हैरान है। उसने हत्या से लेकर सबूत नष्ट करने पर पूरी सावधानी बरती।

हत्या के बाद मृतक की अंत्येष्टि में भी शामिल हुआ

वराछा में लम्बे हनुमानपरा के पंचरत्न टॉवर में रहने वाले डॉ. नीलेश विराणी की पत्नी डॉ. बीना 27 अप्रैल 2018 को अपनी मां के साथ सब्जी खरीदने गई थी, वहां से उसने मां को वापस भेज दिया और कुछ काम निपटाकर आने के लिए कहा। इस दौरान वह लापता हो गई। 28 अप्रैल को सापुतारा के पास उसकी लाश मिली। इस दौरान पर अपने पति के दोस्त संजय की फैक्टरी में थी। जहां दोनों के बीच काफी विवाद हुआ, दोनों हमबिस्तर भी हुए। आखिर में सुबह संजय ने बीना की हत्या कर दी, उसके बाद उसकी लाश को ठिकाने लगाने के लिए इधर-उधर घूमता रहा, आखिर में उसने लाश को हाइवे पर सापुतारा के एक पुल के पास फेंक दिया।

संजय पेशेवर नहीं होते हुए भी शातिर

डांग के एएसपी अजित राजीयन से सम्पर्क करने पर उन्होंने बताया कि संजय ने पहले से ही टेक्नकली जानकारी का पूरा खयाल रखा। पहला तो उसने अपराध करते समय किसी भी स्थान पर न तो अपना और न ही बीना के मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया। सूरत से डांग तक बीना की लाश को लेकर 200 किलोमीटर तक घूमता रहा, इसके बाद भी किसी भी स्थान पर वह सीसीटीवी में कैद नहीं हो पाया। इसका भी उसने विशेष ध्यान रखा। वह दक्षिण गुजरात के रास्तों से अच्छी तरह से वाकिफ है, यह लाश को ठिकाने लगाने के अंदाज से ही पता चल जाता है। इसके अलावा सबूतों को नष्ट करने के लिए भी उसने विशेष सावधानी बरती। किसी को उस पर शक न हो, इसलिए वह बीना की अंत्येष्टि में भी शामिल हुआ।

कपड़े अभी तक नहीं मिले

बीना की हत्या के बाद संजय ने उसके कपड़े बदले। उन कपड़ों को उसने तापी नदी में फेंक दिया, जो अभी तक नहीं मिले हैं। परंतु हत्या के लिए उसने जिस वायर का इस्तेमाल किया था, वह वायर पुलिस को मिल गया है। बीना को मोबाइल फोन उसने तोड़कर वापी में फेंक दिया था। पुलिस ने उसे भी खोज निकाला है, फोन को फोरेंसिक लेबोरेटरी में भेज दिया गया है।

Related Stories

Related Stories