--Advertisement--

आखिर क्यों थामनी पड़ी महिला सांसद को JCB की स्टियरिंग?

सुजलाम-सुफलाम अभियान के तहत सांसद दर्शना बेन जरदोष ने इस तरह से दिया अपना योगदान।

Danik Bhaskar | May 04, 2018, 04:37 PM IST
JCB चलाते हुए सांसद दर्शना जरदोष। JCB चलाते हुए सांसद दर्शना जरदोष।

सूरत। इस समय राज्य में सुजलाम-सुफलाम अभियान चलाया जा रहा है। ऐसे में सूरत की सांसद दर्शना जरदोष भी इस अभियान से जुड़ी। उन्होंने जेसीबी मशीन की स्टियरिंग थामकर तापी नदी के किनारे से कचरा निकालकर उसे डम्पर में डालना शुरू किया। उन्हें ऐसा करते देख वहां उपस्थित सभी लोगों में जोश आ गया। हर कोई सांसद के जज्बे को देखकर हैरत में था। दिया महिला शक्ति का परिचय…

अक्सर जब भी सफाई की बात होती है, तो देश के नेता हाथ में झाड़ू लिए हुए दिखाई देते हैं। ऐसे में सूरत की सांसद ने महिला शक्ति का परिचय देते हुए जेसीबी चलाकर अपनी कुशलता का परिचय दिया। इससे सुजलाम-सुफलाम अभियान को मानों पर लग गए। दर्शना जरदोष सांसद के रूप में दूसरी बार चुनी गई हैं। उन्हें ड्राइविंग का खूब शौक है। बचपन से ही वह बाइक चलाने लगी थीं। काफी दिनों से उन्होंने ड्राइविंग नहीं की थी, अचानक उन्होंने जेसीबी की स्टियरिंग थामी और सबको चकित कर दिया। जेसीबी के ड्राइवर के गाइडेंस के अनुसार सांसद ने एकदम कुशल ड्राइवर की तरह कचरे को डम्पर में डाला था।

सुजलाम-सुफलाम अभियान के दौरान दिया नारी शक्ति का परिचय। सुजलाम-सुफलाम अभियान के दौरान दिया नारी शक्ति का परिचय।
बचपन से ही रखती हें ड्राइविंग का शौक। बचपन से ही रखती हें ड्राइविंग का शौक।