Hindi News »Gujarat »Surat» The Father Of The Daughter Who Was Born, Showed The Man Mad

बिल्डर ने गर्भवती पत्नी से कहा- बेटे को ही जन्म देना, बेटी हुई तो पत्नी को बताया पागल

पुलिस थाने में 12 घंटे गिड़गिड़ाई तब दर्ज किया मामला, अब पूरे कुनबे पर मामला दर्ज।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Jun 25, 2018, 01:50 PM IST

बिल्डर ने गर्भवती पत्नी से कहा- बेटे को ही जन्म देना, बेटी हुई तो पत्नी को बताया पागल
  • अंधविश्वास के चलते महिला को दी गई यातना।
  • पुलिस की भूमिका संदिग्ध, 12 घंटे तक बिठाए रखा थाने मेँ।

सूरत। वेसू के एक बिल्डर की पत्नी को बेटा नहीं हुआ तो ससुराल वालों ने पहले उसे मायके पहुंचा दिया और बाद में शनिवार को उसे पागल बताकर पुलिस स्टेशन छोड़ दिया। अपनी भूखी-प्यासी डेढ़ माह और 3 साल की दो बेटियों के साथ महिला 12 घंटे तक थाने में रोती-गिड़गिड़ाती रही, लेकिन पुलिस ने उसकी शिकायत दर्ज नहीं की। बाद में एक वकील के माध्यम से मामला दर्ज कराया। बेटे की आस में यातना…

माया ने बताया कि पहले उसके एक बेटा हुआ था, जिसकी मौत हो गई। ससुराल वालों ने फिर से बेटे की आस लगाई थी। जब वह गर्भवती हुई तो ससुराल वालों ने कहा कि घर का वारिस तो बेटा ही होता है, इसलिए बेटे को ही जन्म देना। अपेक्षा के विपरीत माया को बेटी पैदा हुई, तो ससुराल वालों ने अस्पताल का बिल भी नहीं चुकाया और उसे वहीं छोड़ दिया। बाद में उसे जोर-जबर्दस्ती से मायके पहुंचा दिया। माया का कहना है कि ससुराल वालों ने उससे 15 लाख रुपए की मांग भी की।

सबसे पहले बेटा हुआ था, लेकिन पिछले साल मौत हो गई थी

वीआईपी रोड स्थित सोहम हाइट्स निवासी बिल्डर गौतम करसन पुरोहित की शादी 2010 में नवीन पुरोहित की बेटी माया से हुई थी। तीन साल बाद माया को एक बेटा हुआ, जिसका नाम सिद्धार्थ रखा। उसके बाद बेटी शौर्या हुई। 2017 में बेटे सिद्धार्थ की मौत हो गई। उसके बाद ससुराल वाले माया से बेटे की अपेक्षा कर रहे थे। तांत्रिक का भी सहारा लिया। इस बीच माया गर्भवती हुई, तो ससुराल वाले गर्भ परीक्षण के लिए दबाव बनाने लगे। फिर बेटी हुई तो ससुराल वाले नाराज हो गए और माया को प्रताड़ित करने लगे। पति मायके चले जाने के लिए जोर-जबर्दस्ती करने लगा। माया मायके नहीं गई तो पति गौतम ने जहर पीने का नाटक भी किया। इसके बाद गौतम खुद ही माया को मुंबई स्थित उसके मायके छोड़ आया।

ससुराल पहुंची तो पति ने कहा पागल है, ले गया पुलिस थाने

माया अपने पिता नवीन पुरोहित और दोनों बेटियों के साथ शनिवार सुबह गौतम के घर पहुंची। उसका पति गौतम उसे पागल बताकर उमरा पुलिस स्टेशन ले गया और वहीं छोड़ कर चला आया। इसके बाद माया अपनी बेटियों के साथ ससुराल पक्ष के लोगों के खिलाफ शिकायत के लिए गुजारिश करने लगी, लेकिन पुलिस मामला दर्ज करने में आनाकानी करती रही। दोपहर 12 बजे से वह न्याय के लिए गिड़गिड़ाती रही, लेकिन पुलिस रात पौने 12 बजे मामला दर्ज किया।

पति, सास, ससुर के खिलाफ मामला दर्ज

गांधीनगर मूल निवासी माया के पति गौतम करसन पुरोहित, ससुर करसन, सास जमुना बेन और ननद भक्ति के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। गौतम से संपर्क करने की कोशिश की गई, लेकिन बात नहीं हो पाई।

बेटी हुई तो अस्पताल का पैसा भी नहीं दिया

पीड़ित माया ने बताया कि जब उसने अस्पताल में बेटी को जन्म दिया, तो इससे पूरा परिवार चिढ़ गया और अस्पताल का पैसा देने से मना कर दिया। प्रसूति से पहले सबने मुझसे कहा था कि घर का वारिस तो बेटा ही होता है, इसलिए बेटे को ही जन्म देना। पुलिस स्टेशन में मेरी डेढ़ माह की बेटी दूध के लिए रोती रही, जबकि बड़ी बेटी भूख से तड़प-तड़प कर सो गई।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Surat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×