--Advertisement--

ममता का घोंटा गला : तीन साल के बेटे को लेकर 12 मंजिल से कूदी आईटी इंस्पेक्टर की पत्नी

पारिवारिक कलह में महिला ने उठा लिया कदम, मां से विवाद के कारण पति ने भी पत्नी से बातचीत बंद की तो की आत्महत्या

Dainik Bhaskar

Apr 24, 2018, 06:44 AM IST
पांच घंटे मौके पर पड़ा रहा दोनों का शव पांच घंटे मौके पर पड़ा रहा दोनों का शव

सूरत. अडाजण में इनकम टैक्स इंस्पेक्टर की पत्नी ने तीन साल के बेटे को गोद में लेकर 12वें मंजिल से छलांग लगा दी। दोनों की घटना स्थल पर ही मौत हो गई। आत्महत्या की वजह सास-बहू के विवाद को बताया जा रहा है। हालांकि पुलिस ने अभी तक आत्महत्या की वजह का खुलासा नहीं किया है। पाल अडाजण स्थित स्तुति यूनिवर्सल रेजीडेंसी निवासी 29 वर्षीय चंचल बेन राम मेहर नेन ने अपने तीन वर्षीय बेटे अनिकेत को गोद में लेकर सोमवार की सुबह करीब 8:5 बजे बिल्डिंग के 12वीं मंजिल की बालकनी से छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली। इस बीच उसका पति राम मेहर घर पर ही था। यह पूरी घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई।

ये था मामला...

राम मेहर 2011 में हरियाणा के नरवाणा जिले से सूरत आए थे। सूरत में रिकवरी डिपार्टमेंट में इंस्पेक्टर के पद पर तैनात हैं। अडाजण में 2011 से रह रहे हैं। मृतका अपनी सास, पति और बेटे के साथ किराए पर रहती थी। सूत्रों की माने तो चंचल की अपनी सास से पिछले 10 दिन से किसी बात को लेकर बातचीत बंद थी। इसी को लेकर पति राम मेहर पत्नी से नाराज था और उसने चंचल से कहा था कि अगर मां से बात नहीं करोगी तो मैं भी तुमसे बात नहीं करुंगा। सोमवार से राम मेहर ने पत्नी चंचल से बात करना बंद कर दिया था। मृतका के खिलाफ बेटे की हत्या का मामला दर्ज किया गया है।

चश्मदीद: बच्चे का हाथ मां से छूटा, जब तक नीचे पहुंचा, दोनों की हो चुकी थी मौत

नाम न बताने की शर्त पर सोसाइटी की दूसरी बिल्डिंग में रहने वाले एक चश्मदीद ने बताया कि जिस बिल्डिंग से महिला ने छलांग लगाई थी उसी के बगल वाली बिल्डिंग में वह रहता है। उसका फ्लैट तीसरे मंजिल पर है। सुबह 8:05 मिनट पर वह तौलिया लेने के लिए बालकनी में गया था। तभी चश्मदीद की नजर सामने की बिल्डिंग पर पड़ी। जहां उन्होंने देखा कि 12वें मंजिल की बालकनी में एक महिला खड़ी है, जिसके गोद में एक बच्चा है।

चश्मदीद को लगा कि वह कुछ करने वाली हैं, इतने में उसने छलांग लगा दी। कूदने के बाद बीच रास्ते में बच्चे का हाथ मां से छूट गया और बच्चा 1 से 2 सेकंड पहले नीचे गिरा। बिल्डिंग के नीचे पहले से दो-तीन लोग थे। पहले बच्चा गिरा, जिससे तेज आवाज आई। लोग वहां तक पहुंच पाते इतने में महिला भी गिरी। तेज आवाज के कारण आस-पास के लोग वहां जमा हो गए। जब-तक चश्मदीद नीचे आता तब तक दोनों की मौत हो चुकी थी।

भाई बोला: जब तक मैं नहीं अाता, जगह से शव न उठाया जाए, पांच घंटे रोके रखा

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दोनों का शव पांच घंटे तक मौके पर ही पड़ा रहा। बताया जा रहा है कि मृतका के भाई ने कहा था कि अगर शव को उठा लिया तो वह राम मेहर को आरोपी मानेगा, इसलिए उसके आने के बाद ही पुलिस अपनी कार्रवाई करे, इसलिए जो जैसा है वैसा रहने दिया जाए। इसी वजह से राम मेहर ने भी पेपर पर साइन नहीं किया। सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक दोनों का शव वहीं पड़ा रहा। भाई के आने के बाद पंचनामा कर शव को पोस्टमार्टम के लिए सिविल भेज दिया गया।

बीती शाम पूरा परिवार साथ था

आस-पास के लोगों ने बताया कि परिवार का किसी से कोई विवाद नहीं था। सुखी परिवार था। पूरा परिवार रविवार शाम को बिल्डिंग के नीचे घूमने टहलने आया था। उस समय ऐसा नहीं लग रहा था कि कोई तनाव का माहौल है। राम मेहर नेन सुबह 10 से शाम 6 बजे तक ड्यूटी पर जाते हैं। उनके परिवार में कभी वाद-विवाद की सूचना नहीं मिली है।

अडाजण स्थित स्तुति सोसाइटी की 12 मंजिला बिल्डिंग, जिसके 12वें फ्लोर से कूदकर महिला ने तीन साल के बच्चे के साथ की आत्महत्या। अडाजण स्थित स्तुति सोसाइटी की 12 मंजिला बिल्डिंग, जिसके 12वें फ्लोर से कूदकर महिला ने तीन साल के बच्चे के साथ की आत्महत्या।
X
पांच घंटे मौके पर पड़ा रहा दोनों का शवपांच घंटे मौके पर पड़ा रहा दोनों का शव
अडाजण स्थित स्तुति सोसाइटी की 12 मंजिला बिल्डिंग, जिसके 12वें फ्लोर से कूदकर महिला ने तीन साल के बच्चे के साथ की आत्महत्या।अडाजण स्थित स्तुति सोसाइटी की 12 मंजिला बिल्डिंग, जिसके 12वें फ्लोर से कूदकर महिला ने तीन साल के बच्चे के साथ की आत्महत्या।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..