--Advertisement--

GPS कंपनी में ब्लॉस्ट के साथ भीषण आग 4 मौतें, 13 घायल

फायर ब्रिगेड की टीम ने डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद आग पर पाया काबू।

Danik Bhaskar | Jan 22, 2018, 03:47 PM IST
आग की भयावहता। आग की भयावहता।

वडोदरा। शहर के नंदसरी जीआईडीसी में जंतुनाशक दवाई बनाने वाली जीएसपी क्राप साइंस् प्रा.लि. कंपनी में रविवार की सुबह 5.40 बजे तेज आवाज के साथ आग लग गई। इससे 4 कर्मचारियों की मौत हो गई और 13 घायल हो गए। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। फायर ब्रिगेड की टीम ने डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। कंपनी की तरफ से मृतकों के परिवारों को 35 लाख रुपए की सहायता दी गई है। FSL द्वारा जांच शुरू…

जीएसपी कंपनी के केमिकल एड करने के सी यूनिट में शनिवार की रात तीसरे माले जंतुनाशक दवाई बनाई जा रही थी। इस दौरान सुबह करीब 6 बजे एक्जिटेटेड लुब्रिकंट फिल्टर(साल्वेंट बेज मटिरियल्) में वेक्यूम प्रेशन क्रिएट होने से बहुत ही तेज आवाज हुई। इससे टैंक में भरा हुआ मटेरियल बाहर आ गया और अन्य ज्वलनशील पदार्थ के साथ मिलने से विकराल आग में तब्दील हो गया। ब्लॉस्ट से दीवार पर दरार पड़ गई। उसके करीब के दो प्लांट के कांच टूट गए। आवाज सुनकर कर्मचारी वहां पहुंच गए, सभी ने आग बुझाने की कोशिश की। इस दौरान फायर ब्रिगेड की टीम भी वहां पहुंच गई, जिसने डेढ़ घंटे में आग पर काबू पा लिया। एफएसएल ने इसकी जांच शुरू कर दी है।

विस्फोट की आवाज 20 KM तक सुनाई दी

आग लगने के पहले विस्फाेट की आवाज को 20 कि.मी. दूर तक सुना गया। फिर कंपनी के कांच टूटने शुरू हो गए। इससे लोगों को लगा कि कहीं भूकम्प तो नहीं आ गया। बाद में मिसिंग कर्मचारियों की तलाश की गई, तो पता चला कि 4 कर्मचारियों की मौत हो गई है और 13 झुलस गए हैं। झुलसे हुए लोगों को तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया।

वडोदरा। शहर के नंदसरी जीआईडीसी में जंतुनाशक दवाई बनाने वाली जीएसपी क्राप साइंस् प्रा.लि. कंपनी में रविवार की सुबह 5.40 बजे तेज आवाज के साथ आग लग गई। इससे 4 कर्मचारियों की मौत हो गई और 13 घायल हो गए। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। फायर ब्रिगेड की टीम ने डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। कंपनी की तरफ से मृतकों के परिवारों को 35 लाख रुपए की सहायता दी गई है। FSL द्वारा जांच शुरू…

जीएसपी कंपनी के केमिकल एड करने के सी यूनिट में शनिवार की रात तीसरे माले जंतुनाशक दवाई बनाई जा रही थी। इस दौरान सुबह करीब 6 बजे एक्जिटेटेड लुब्रिकंट फिल्टर(साल्वेंट बेज मटिरियल्) में वेक्यूम प्रेशन क्रिएट होने से बहुत ही तेज आवाज हुई। इससे टैंक में भरा हुआ मटेरियल बाहर आ गया और अन्य ज्वलनशील पदार्थ के साथ मिलने से विकराल आग में तब्दील हो गया। ब्लॉस्ट से दीवार पर दरार पड़ गई। उसके करीब के दो प्लांट के कांच टूट गए। आवाज सुनकर कर्मचारी वहां पहुंच गए, सभी ने आग बुझाने की कोशिश की। इस दौरान फायर ब्रिगेड की टीम भी वहां पहुंच गई, जिसने डेढ़ घंटे में आग पर काबू पा लिया। एफएसएल ने इसकी जांच शुरू कर दी है।

विस्फोट की आवाज 20 KM तक सुनाई दी

आग लगने के पहले विस्फाेट की आवाज को 20 कि.मी. दूर तक सुना गया। फिर कंपनी के कांच टूटने शुरू हो गए। इससे लोगों को लगा कि कहीं भूकम्प तो नहीं आ गया। बाद में मिसिंग कर्मचारियों की तलाश की गई, तो पता चला कि 4 कर्मचारियों की मौत हो गई है और 13 झुलस गए हैं। झुलसे हुए लोगों को तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया।

विस्फोट इतना तेज था कि कंपनी के आसपास के प्लांट के कांच टूट गए। विस्फोट इतना तेज था कि कंपनी के आसपास के प्लांट के कांच टूट गए।
डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका।
मेजर कॉल घोषित किया गया था। मेजर कॉल घोषित किया गया था।
विस्फोट की आवाज 20 कि.मी. दूर तक सुनाई दी। विस्फोट की आवाज 20 कि.मी. दूर तक सुनाई दी।
सेफ्टी सिस्टम नाकाम रहा। सेफ्टी सिस्टम नाकाम रहा।
वडोदरा से बुलाई गई फायर ब्रिगेड। वडोदरा से बुलाई गई फायर ब्रिगेड।
नंदसरी कंपनी वडोदरा के पास ही स्थित है। नंदसरी कंपनी वडोदरा के पास ही स्थित है।
इस भीषण आग से चार कर्मचारियों की मौत हो गई। इस भीषण आग से चार कर्मचारियों की मौत हो गई।