--Advertisement--

मंदिर के बरामदे में मिली मासूम:सब्जी वाला बना हीरो

बच्ची को देखने के लिए शिशुगृह में लोगों का तांता, ताला लगाना पड़ा।

Dainik Bhaskar

Dec 29, 2017, 07:02 PM IST
डेढ़ साल की मासूम, जिसे मां ने छोड़ दिया7 डेढ़ साल की मासूम, जिसे मां ने छोड़ दिया7

वडोदरा। पिछले रविवार को अटलादरा वेराई माता के मंदिर के बरामदे में मिली डेढ़ साल की मासूम को पहली बार जिस शख्स ने देखा, वह है कौशिक गांधी। वह अब हीरो बन गया है। कौशिक ठेले पर सब्जी बेचता है। अब उससे मिलने के लिए बहुत से लोग आ रहे हैं। कई लोग तो यह भी कह रहे हैं कि मासूम को वही दत्तक ले ले, उसका सारा खर्च हम करेंगे। उस दिन महाराष्ट से 7 बसें आई थीं…

वेराई मां के पास सब्जी बेचने वाले कौशिक गांधी ने भास्कर को बताया कि रविवार को वह सात बजे मंदिर के बरामदे के पास आया था। तब वहां कुछ भी नहीं था। वह अपना ठेला वहीं छोड़कर सब्जी लेने चला गया। जब वह वापस लौटा, तब वहां पर एक थैला रखा था। उस पर कुछ हलचल हो रही थी। जब उसने थैला खोला, तो उसमें डेढ़ साल की मासूम थी। तब उसने उसे बिस्किट खिलाने की कोशिश की, पर उसने नहीं खाया। इसके बाद उसने पुलिस को इसकी सूचना दी। लोगों ने बताया कि उस दिन महाराष्ट्र से वेराईमाता के मंदिर में 7 बसें आई थी।

आसमानी ड्रेस में एक युवती दिखाई दी थी

एक दुकानदार ने बताया कि बरामदे के पास सुबह आसमानी ड्रेस पहने एक युवती दिखाई दी थी। उस स्थान पर सीसीटीवी की सुविधा नहीं है, इसलिए पक्के तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता। सुबह के समय इस रास्ते पर काफी चहल-पहल देखी जाती है। कौशिक गांधी बताते हैं कि अब उससे मिलने कई लोग आ रहे हैं। सूरत से अहमदाबाद जाते हुए एक युवक विशेष रूप से उससे मिलने आया। उसने सलाह दी कि बच्ची को गोद ले ले, सारा खर्च मैं लेने को तैयार हूं।

बच्चे ने अनाथ बच्चों के साथ मनाया जन्म दिन

अटलादरा में मिली डेढ़ साल की मासूम की खबर सुनकर भावुक हुए 9 साल के एक बालक ने अपना जन्म दिन बालगोकुलम और शिशुगृह के बच्चों के साथ मनाया। मांडवी इलाके में रहने वाले और दूसरी कक्षा में पढ़ने वाले अवधूत चिंतन देसाई का बुधवार को 9 वां जनम दिन था। पिछले 4 दिनों से मंदिर के बरामदे में मासूम के मिलने की खबर से बालक काफी भावुक हो गया। उसने तय कर लिया कि इस बार वह अपना जन्म दिन अनाथ बच्चों के बीच ही मनाएगा। उसने ऐसा किया भी। बालक माता-पिता के साथ बुधवार को बालगोकुलधाम पहुंचकर वहां बच्चों के साथ अपना जन्म दिन मनाया। उसने सभी को श्रीखंड खिलाया।


शिशुगृह में लोगों का आना-जाना बढ़ा

बच्ची के शिशुगृह में आने से वहां लोगों का आना-जाना बढ़ गया है। रोज 40 से 50 लोग बच्ची के बारे में पूछपरख करने आते हैं। बच्ची के माता-पिता की खोजबीन जारी है। यदि 90 दिनों तक उनका अता-पता नहीं मिलता, तो उसे दत्तक देने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। लोगों की भीड़ को देखते हुए शिशुगृह में ताला लगाना पड़ा।

सब्जी वाला कौशिक गांधी, जो अब हीरो बन गया। सब्जी वाला कौशिक गांधी, जो अब हीरो बन गया।
Pappa Was Spoken When I Got Up Priyanchi In The Morning
Pappa Was Spoken When I Got Up Priyanchi In The Morning
Pappa Was Spoken When I Got Up Priyanchi In The Morning
Pappa Was Spoken When I Got Up Priyanchi In The Morning
Pappa Was Spoken When I Got Up Priyanchi In The Morning
Pappa Was Spoken When I Got Up Priyanchi In The Morning
X
डेढ़ साल की मासूम, जिसे मां ने छोड़ दिया7डेढ़ साल की मासूम, जिसे मां ने छोड़ दिया7
सब्जी वाला कौशिक गांधी, जो अब हीरो बन गया।सब्जी वाला कौशिक गांधी, जो अब हीरो बन गया।
Pappa Was Spoken When I Got Up Priyanchi In The Morning
Pappa Was Spoken When I Got Up Priyanchi In The Morning
Pappa Was Spoken When I Got Up Priyanchi In The Morning
Pappa Was Spoken When I Got Up Priyanchi In The Morning
Pappa Was Spoken When I Got Up Priyanchi In The Morning
Pappa Was Spoken When I Got Up Priyanchi In The Morning
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..