--Advertisement--

मगर को मारा, फिर निर्ममता से उसकी पूंछ काटकर ले गए

घायल अवस्था में 24 घंटे तक तड़पता रहा मगर, उसके गले पर बंधा हुआ वायर था, आज पीएम होगा।

Danik Bhaskar | Nov 22, 2017, 12:22 PM IST
भास्कर ने मगर की हत्या की सूचना वनविभाग को दी। भास्कर ने मगर की हत्या की सूचना वनविभाग को दी।

भुज। यहां से 17 कि.मी. दूर मकनपर(घोसा) में एक मगरमच्छ की हत्या कर उसे बाहर फेंक दिया गया। हत्यारे निर्ममता से मगर की पूंछ काटकर ले गए। गांव के तालाब के पास मगर की डेडबॉडी मिली। उसकी गरदन पर एक वायर लिपटा हुआ था, जिससे यह पता चलता है कि उसकी गला दबाकर हत्या की गई, फिर उसके मुंह पर लोहे की किसी चीज से वार भी किया गया है। 7 साल की सजा हो सकती है…

भास्कर की टीम ने घटनास्थल का निरीक्षण किया, तो पाया कि मगरमच्छ की हत्या निर्ममता से की गई है। गांव के निवासी इस्माइल भाई समा ने बताया कि मगर के मारे जाने की सूचना उन्होंने वनविभाग को दे दी है, पर अभी तक कोई नहीं पहुंचा है। वन्यप्राणी अधिनियम के तहत मगरमच्छ को मारने वाले पर यदि आरोप सिद्ध हो जाता है, तो उसे सात साल की सजा और 25 हजार के जुर्माना लग सकता है। मुख्य वन संरक्षक के.एस.रंधावा ने बताया कि कच्छ में मगरों की संख्या करीब 500 है। इसमें से अधिकांश भुज और नखत्राणा में हैं।

आखिर पूंछ ही क्यों?

सवाल यह उठाया जा रहा है कि मगरमच्छ की पूंछ ही क्यों काटकर ले गए। इसके जवाब में यही कहा जा रहा है कि उसका उपयोग पौरुष बढ़ाने के लिए किया जाता है, इसलिए पूंछ की तस्करी की गई है। गांव वालों ने बताया कि यहां जितने भी मगरमच्छ हैं, वे अहिंसक हैं। उनके द्वारा कभी किसी पर हमला नहीं किया गया। कई बार तो ऐसा भी हुआ है कि गाय तालाब का पानी पी रही है और बाजू में ही मगरमच्छ पसरा हुआ है। आज मगरमच्छ का पीएम किया जाएगा, जिससे उसकी हत्या के बारे में और जानकारी मिल पाएगी। भास्कर द्वारा सूचना दिए जाने के बाद वनविभाग सक्रिय हुआ और कुछ लोग घटनास्थल पहुंचे थे।

आगे की स्लाइड्स में देखें PHOTOS

मगर की हत्या करने वाले को 7 साल की कैद हो सकती है। मगर की हत्या करने वाले को 7 साल की कैद हो सकती है।
घायल अवस्था में मगर 24 घंटे तक जीवित रहा। घायल अवस्था में मगर 24 घंटे तक जीवित रहा।
ग्रामीण इस्माइल समा। ग्रामीण इस्माइल समा।
कच्छ में केवल 500 मगर, अधिकांश भुज-नखत्राणा में। कच्छ में केवल 500 मगर, अधिकांश भुज-नखत्राणा में।