Hindi News »Gujarat »Vadodra» Three People Innocent In Abhimanyu Murder Case At Vadodara

अभिमन्यु हत्याकांड के तीन आरोपी निर्दोष, शंका का लाभ मिला

फैसले के खिलाफ आखिर तक मेरी लड़ाई जारी रहेगी-मृतक की मां।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 12, 2018, 03:01 PM IST

  • अभिमन्यु हत्याकांड के तीन आरोपी निर्दोष, शंका का लाभ मिला
    +2और स्लाइड देखें
    बेटे की तस्वीर के साथ मां माेनिका बेन पटेल

    वडोदरा। 10 मई 2015 की देर रात को अशोक ट्रावेल्स के मालिक के बेटे अभिमन्यु की हत्या कर दी गई थी। इस घटना में शामिल तीनों आरोपियों को शंका का लाभ देते हुए कोर्ट ने निर्दोष बरी करने का आदेश दिया है। इस मामले में अदालत पुलिस की कार्रवाई पर तीखी टिप्पणी की है। मृतक की मांं ने कहा कि मुझे न्याय पर विश्वास है, बेटे को न्याय दिलाने के लिए मैं अपनी लड़ाई लडूंगी। इस प्रकार हुई हत्या…

    फैसले में न्यायाधीश ने कहा कि इस मामले में जांच अधिकारी की लापरवाही सामने आती है। इस तरह के गंभीर मामलों में जब शंका होती है, तो आरोपियों को शंका का लाभ मिलता है़। 10 मई 2015 को कारेलीबाग की मेघदूत सोसायटी में रहने वाले अशोक ट्रावेल्स के संचालक के बेटे अभिमन्यु उर्फ अभी दिलीप पटेल अपने दोस्तों निसर्ग सेठ, पार्थ पटेल और मयूर पटेल के साथ विश्वास कॉलोनी में रहने वाले दोस्त नवरोज मुंशी के घर आईपीएल मैच देख रहा था। रात डेढ़ से दो बजे के बीच जब वह रोड क्रॉस कर रहा था, तभी वहां तेजी से गुजरती हुई डियाे मोपेड चालकर प्रतीक सिंह को डांटा। इससे विवाद बढ़ गया। इस पर प्रतीक ने चाकू निकालकर अभिमन्यु के गले के भाग में प्रहार किया। अस्पताल में इलाज के दौरान अभिमन्यु की मौत हो गई।

    आरोपियों को शंका का लाभ मिलने के कारण

    -जिस गाड़ी में मृतक को ले गया था, उस गाड़ी को कब्जे में नहीं लिया गया, ब्लड सेम्पल भी नहीं लिया गया।

    -पंचनाम लाइट या गाड़ी तक खून के धब्बों का उल्लेख भी नहीं किया गया।

    -शिवम अपार्टमेंट के दरवाजे की उत्तर तरफ मृतक गया ही नहीं, तो वहां खून के धब्बे कैसे मिले, यह जांच नहीं की गई।

    -शरीर के जिस भाग पर चाकू से प्रहार किया गया, तो उस स्थान पर शर्ट में छेद हो जाना था, पर शर्ट कब्जे में नहीं लिया गया। जांच अधिकारी का कहना था कि शर्ट कहीं रख दिया गया है।

    -स्वतंत्र साहेद हेमंत घटनास्थल पर उपस्थित था, पर उसकी पहचान नहीं हो पाई।

    -पहचान में बताए गए साहेद वाघेला के संबंध में जांच अधिकारी ने कोई जांच नहीं की।

    -शिकायतकर्ता साहेद और आरोपियों की उपस्थित के संबंध में सीडीआर प्राप्त की गई, पर उसे पेश नहीं किया गया।

    -सीसीटीवी फुटेज की सीडी में तस्वीरें साफ नहीं दिख रही हैं, इसके बाद भी उसे एफएसएल में नहीं भेजा गया।

    न्याय के लिए आखिर तक लड़ूंगी-मृतक की मां

    मेरे बेटे की हत्या करने वाले निर्दोष छूट गए हैं। इस फैसले के खिलाफ मैं हाईकोर्ट में अपील करूंगी। हमेें न्यायपालिका पर पूरा विश्वास है। हमें एक दिन अवश्य न्याय मिलेगा। मेरा बेटा तो अब कभी वापस नहीं आ सकता, पर उसे न्याय दिलाने के लिए मेरी लड़ाई आखिर तक जारी रहेगी।

    मोनिका बेन पटेल, मृतक की मां

    फैसले के खिलाफ अपील करुंगा-सरकारी वकील

    अभिमन्यु की हत्या की तीनों आरोपियों को शंका का लाभ देते हुए निर्दोष बरी कर दिया गया है। इस फैसले के खिलाफ अपील की जाएगी। फैसले की कापी कल मिलेगी, इसके बाद हम हाईकोर्ट में अपील करेंगे।

    परेश पटेल, सरकारी वकील

  • अभिमन्यु हत्याकांड के तीन आरोपी निर्दोष, शंका का लाभ मिला
    +2और स्लाइड देखें
    अभिमन्यु की हत्या के मामले में तीनों आराेपियों को निर्दोष बरी कर दिया गया है।
  • अभिमन्यु हत्याकांड के तीन आरोपी निर्दोष, शंका का लाभ मिला
    +2और स्लाइड देखें
    हत्या की घटना सीसीटीवी में कैद हो गई, पर तस्वीरें साफ नहीं थी, इसलिए आरोपी छूट गए।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Vadodra

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×