• Hindi News
  • Happylife
  • World Cancer Day 2020 WHO Says One In 10 Indians Will Develop Cancer During Their Lifetime

2018 में कैंसर के 10 लाख से अधिक नए मामले, हर 15 में से एक भारतीय को मौत का खतरा, डब्ल्यूएचओ ने गिनाईं वजह

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • दुनियाभर के 50 फीसदी धूम्रपान करने वाले लोग चीन, भारत और इंडोनेशिया से
  • तम्बाकू से कैंसर के 34-69 फीसदी मामले पुरुषों और 10-27 फीसदी महिलाओं में सामने आते हैं

हेल्थ डेस्क. 2018 में कैंसर के 10.16 लाख नए मामले सामने आए हैं। 4 फरवरी को वर्ल्ड कैंसर डे पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने नए आंकड़े जारी किए हैं। डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक, हर 10 में एक भारतीय में कैंसर होने हर 15 में से एक की मौत कैंसर से होने की आशंका जताई है। डब्ल्यूएचओ ने यह रिपोर्ट एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर के साथ मिलकर तैयार की है, जिसका मकसद दुनिया को कैंसर के प्रति जागरुक करना और इससे जुड़ी रिसर्च-बचाव को बढ़ावा देना है। 

2018 सबसे ज्यादा नए मामले ब्रेस्ट और ओरल कैंसर के
रिपोर्ट के मुताबिक, 2018 में कैंसर से 7,84,800 मौतें हुईं। महिलाओं और पुरुषों में होने वाले सबसे अहम कैंसर का आंकड़ा पेश किया किया है। महिलाओं में सबसे ज्यादा नए मामले ब्रेस्ट कैंसर के और पुरुषों में ओरल कैंसर के सामने आए हैं।

 महिलाओं में कैंसरनए मामले पुरुषों में कैंसर नए मामले
ब्रेस्ट कैंसर162,500 ओरल कैंसर92,000
ओरल कैंसर120,000 फेफड़ों का कैंसर49,000
सर्विकल कैंसर97,000 पेट का कैंसर39,000
फेफड़ों का कैंसर68,000कोलोरेक्टल कैंसर37,000
पेट का कैंसर57,000इसोफेगल कैंसर34,000
कोलोरेक्टल कैंसर57,000

तम्बाकू अब भी कैंसर की बड़ी वजह
पुरुषों में कैंसर के बढ़ते आंकड़ों की वजह अभी भी तम्बाकू बना हुआ है। महिलाओं में ब्रेस्ट, कोलोरेक्टल कैंसर की अहम वजह मोटापा, फिजिकल एक्टिविटी से दूरी है। डब्ल्यूएचओ के डायरेक्टर टेड्रोस गेब्रियस के मुताबिक, अगले 20 सालों में दुनियाभर में कैंसर के मामले बढ़ने की दर 60 फीसदी हो सकती है। इसके सबसे ज्यादा मामले मध्यम आय वर्ग वाले देशों में बढ़ सकते हैं क्योंकि दुनियाभर में धूम्रपान करने वाले 80 लोग इन्हीं देशों से हैं।

चीन, भारत और इंडोनेशिया धूम्रपान में आगे
दुनियाभर के 50 फीसदी धूम्रपान करने वाले लोग चीन, भारत और इंडोनेशिया में रहते हैं। भारत में 6.9 करोड़ लोग स्मोकिंग करते हैं और 4.2 करोड़ लोग तम्बाकू चबाते हैं। दुनियाभर में तम्बाकू के कारण ओरल कैंसर से पीड़ित 90 फीसदी मरीज मध्यम और निचले आय वर्ग के हैं। तम्बाकू से कैंसर के 34-69 फीसदी और महिलाओं में 10–27 फीसदी मामले सामने आते हैं। वहीं देश की शहरी जनसंख्या में कोलोरेक्टल कैंसर के मामले बढ़ रहे हैं। 

पुरुष : चीन, भारत और इंडोनेशिया धूम्रपान में आगे
दुनियाभर के 50 फीसदी धूम्रपान करने वाले लोग चीन, भारत और इंडोनेशिया में रहते हैं। भारत में 6.9 करोड़ लोग स्मोकिंग करते हैं और 4.2 करोड़ लोग तम्बाकू चबाते हैं। दुनियाभर में तम्बाकू के कारण ओरल कैंसर से पीड़ित 90 फीसदी मरीज मध्यम और निचले आय वर्ग के हैं। तम्बाकू से कैंसर के पुरुषों 34-69 फीसदी और महिलाओं में 10-27 फीसदी मामले सामने आते हैं। वहीं देश की शहरी जनसंख्या में कोलोरेक्टल कैंसर के मामले बढ़ रहे हैं। 

महिला : शहरी क्षेत्रों में ब्रेस्ट कैंसर के मामले ज्यादा
रिपोर्ट के मुताबिक, दुनियाभर में ब्रेस्ट कैंसर के मामले 1.4-2.4 फीसदी की दर से बढ़ रहे हैं। गांव के मुकाबले ये शहरी क्षेत्रों में इसके मामले ज्यादा हैं। वहीं, सर्विकल कैंसर के मामले निचली आयवर्ग की महिलाओं में अधिक सामने आते हैं। समय पर जांच और देखभाल न हो पाने पर रोग की गंभीरता बढ़ती है।