• Hindi News
  • Happylife
  • A 28 Meter Tall Christmas Tree, Made From 120,000 Bottles To Convey A Plastic free Environment, Will Be Included In The Guinness Book IN North Lebanon

प्लास्टिक मुक्त पर्यावरण का संदेश देने के लिए 120,000 बोतलों से बनाया 28 मीटर लम्बा क्रिसमस ट्री, गिनीज बुक में होगा शामिल

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
क्रिसमस ट्री की प्रोजेक्ट हेड कैरोलिनी - Dainik Bhaskar
क्रिसमस ट्री की प्रोजेक्ट हेड कैरोलिनी
  • 2018 में मेक्सिको में 98 हजार प्लास्टिक बोतलों से तैयार हुआ था 22 टन वजनी क्रिसमस ट्री
  • क्रिसमस ट्री से इकट्ठी होने वाली रकम रेड क्रॉन को डोनेट की जाएगी

लाइफस्टाइल डेस्क. उत्तरी लेबनान के चेक्का गांव में 1,20,000 प्लास्टिक की बोतलों से क्रिसमस ट्री तैयार किया गया है। क्रिसमस ट्री की लम्बाई 28.5 मीटर है और गांव वालों ने मिलकर इसे 20 दिन में तैयार किया है। गांववालों का मानना है कि यह प्लास्टिक बोतलों से बना दुनिया का सबसे विशाल क्रिसमस ट्री और जल्द ही गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल होगा। इसकी प्रोजेक्ट हेड कैरोलिनी छेबिटिनी का कहना है कि यह पेड़ दुनियाभर के लोगों को प्लास्टिक से पर्यावरण सुरक्षित रखने का संदेश देगा। 

1) बोतलों को किया जाएगा रिसायकल

क्रिसमस ट्री बनाने की तैयारी 6 माह पहले हुई थी। गांववालों ने सोशल मीडिया की मदद से लगातार 6 महीने तक 1,29,000 बोतल इकट्ठा कीं। प्रोजेक्ट हेड कैरोलिनी के मुताबिक, प्लास्टिक की बोतलों को इकट्ठा करने के लिए सोशल मीडिया पर लोगों से बोतलों को फेंकने की जगह हमें देने की अपील की गई थी। लोगों ने इस पहल में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। 

कैरोलिनी कहती हैं, क्रिसमस ट्री को करीब डेढ़ महीने तक लोगों के लिए रखा जाएगा। इसके बाद इन बोतलों को रिसायकल किया जाएगा। गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए आवेदन किया गया है। जिसके जवाब में संस्था ने हमें क्रिसमस ट्री से जुड़े साक्ष्य और जानकारी भेजने को कहा है। 

इससे पहले 2018 में प्लास्टिक बोतल से तैयार क्रिसमस ट्री का बनाने का रिकॉर्ड मेक्सिको के नाम था। जिसे 98 हजार बोतलों से तैयार किया गया था। 22 टन के पेड़ को पर्यावरण रक्षा अभियान चलाने वाली मेक्सिको की संस्था गोर्बियर्नो डेल एस्टडो डे एगुआस्केलिनेट्स ने तैयार किया था। 

लेबनान में क्रिसमस ट्री तैयार करने वाली टीम काफी खुश है और भविष्य में ऐसे प्रोजेक्ट के लिए कैरोलिनी को मदद का आश्वासन भी दिया है। प्रोजेक्ट से जुड़े यूसेफ-अल-शेख का कहना है कि यह ट्री पर्यावरण को बचाने की पहल का हिस्सा है जिससे गांववालों को कचरे से निपटने की सीख मिलेगी और देश को प्रदूषण से बचा पाएंगे। 

टीम से जुडे अलेक्जेंडर कहते हैं, इस पेड़ में इस्तेमाल हुईं बोतलों को रिसायकल करने के बाद होने वाली कमाई रेड क्रॉस को डोनेट करेंगे। लेबनान के लिए यह पहल काफी अहम है क्योंकि 2015 में यहां कचरे का निस्तारण एक बड़ी समस्या बन गई थी। सरकार के पास इससे निपटने का कोई उपाय नहीं था। प्रदूषण का स्तर चरम तक पहुंच गया। जिसके बाद से कैंसर के मामलों में इजाफा भी हुआ था। 

खबरें और भी हैं...