चीन में मंकीपॉक्स का पहला केस:2 दिन पहले विदेश से लौटा था; 108 देशों में फैल चुकी बीमारी

बीजिंग8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

चीन के चोंगकिंग शहर में एक व्यक्ति मंकीपॉक्स से संक्रमित मिला है। शुक्रवार को संक्रमित व्यक्ति विदेश से लौटा था। चीन में मंकीपॉक्स का यह पहला केस है। मरीज को क्वारंटीन कर दिया गया है। म्यूनसिपल हेल्थ कमीशन ने कहा कि मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए लोगों को आइसोलेट कर दिया गया है।

देश में मंकीपॉक्स से पहली मौत
भारत में मंकीपॉक्स के 10 मरीज सामने आए हैं, जिनमें से एक की मौत हुई है। केरल के त्रिशूर में 30 जुलाई को 22 साल के शख्स की मौत हो गई थी। यह युवक 21 जुलाई को संयुक्त अरब अमीरत (UAE) से लौटा था, जिसके बाद उसे 27 जुलाई को अस्पताल में भर्ती किया गया, यहां उसकी मौत हो गई। हालांकि, मौत के बाद उसकी रिपोर्ट सामने आई, जिसमें वह पॉजिटिव पाया गया।

दुनिया में मंकीपॉक्स के मामले 61 हजार के पार
Monkeypoxmeter.com के डेटा के मुताबिक, दुनिया में मंकीपॉक्स के मामलों की कुल संख्या 61 हजार से ज्यादा हो गई है। यह बीमारी अब तक 108 देशों में फैल चुकी है। इससे ग्रस्त टॉप 10 देशों में ब्रिटेन, स्पेन, अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस, पुर्तगाल, कनाडा, नीदरलैंड्स, इटली और ब्राजील हैं। अब तक इस बीमारी से 18 लोगों की मौत हो चुकी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित किया है।

WHO ने हेल्थ इमरजेंसी की घोषित
WHO ने मंकीपॉक्स को लेकर पूरी दुनिया में हेल्थ इमरजेंसी घोषित की है। WHO ने कहा कि ये बीमारी मरीज से स्किन टु स्किन कॉन्टैक्ट करने से या फिर उसे खाना खिलाने से भी फैलती है। इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति के कपड़े, बर्तन और बिस्तर छूने से भी मंकीपॉक्स फैल सकता है।