• Hindi News
  • Happylife
  • China Ancient Forest | China Scientists Discovered Sinkhole With Ancient Forest

जिसे समझा घाटी, वो निकला गड्ढा:चीनी वैज्ञानिकों ने खोज निकाला 630 फीट गहरा गड्ढा, यहां सालों पुराना घना जंगल भी मौजूद

3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

चीन के लोग जिसे सालों से हरी-भरी घाटी समझते आए, वो असल में एक विशालकाय सिंकहोल (गड्ढा) निकला। इसकी खोज देश के हुबेई प्रांत के जुआनिन काउंटी में की गई है। हैरानी की बात ये है कि इस 630 फीट गहरे गड्ढे में एक बहुत बड़ा जंगल भी है, जिसे अब वैज्ञानिक एक्सप्लोर कर रहे हैं।

गड्ढे में प्रवेश के लिए 3 बड़ी गुफाएं भी

इस गड्ढे को इंस्टीट्यूट ऑफ कार्स्ट जियोलॉजी ऑफ द चाइना जियोलॉजिकल सर्वे के वैज्ञानिकों ने ढूंढा है। उनका कहना है कि गड्ढे की लंबाई 1,004 फीट और चौड़ाई 492 फीट है। इसमें प्रवेश के लिए 3 बड़ी गुफाएं हैं। साथ ही यहां मौजूद पेड़ तकरीबन 131 फीट लंबे हैं।

अमेरिका के नेशनल केव एंड कार्स्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर जॉर्ज वेनी कहते हैं कि यह एक शानदार खोज है। दक्षिण चीन में इस तरह की प्रकृति आमतौर पर देखने को मिलती है। यहां के लैंडस्केप की प्रवृत्ति बड़े गड्ढों और अनदेखी गुफाओं की ही है।

एसिडिक पानी से बनते हैं बड़े गड्ढे

वेनी के अनुसार, यहां की बारिश का पानी हल्का एसिडिक होता है और कार्बन डाई ऑक्साइड के साथ मिलकर और एसिडिक बन जाता है। इस पानी से चट्टानों में दरारें बन जाती हैं, जिससे सुरंगें बनती हैं। कुछ गुफाओं के ज्यादा बड़े होने के कारण इनकी छत टूटकर गिर जाती है, जिससे सिंकहोल्स बनते हैं। वेनी इस रिसर्च में शामिल नहीं थे।

वेनी कहते हैं कि अमेरिका का 25% इलाका इसी तरह की भौगोलिक स्थितियों से भरा पड़ा है। हालांकि ये गड्ढे ज्वालामुखी या हवा की वजह से बने हैं। वहीं, दुनिया का 20% जमीनी इलाका गुफा से समृद्ध लैंडस्केप से ही बना है।

चीन के लोगों के लिए ये गड्ढे दैवीय

गड्ढे की खोज जहां हुई है, उस इलाके का नाम गुआंगशी ऑटोनॉमस रीजन है। यहां कार्स्ट फॉर्मेशन ज्यादा देखने को मिलता है, जिस वजह से UNESCO ने भी इसे वर्ल्ड हेरिटेज साइट का सम्मान दिया हुआ है। इंस्टीट्यूट ऑफ कार्स्ट जियोलॉजी के सीनियर इंजीनियर झांग युआनहाई का कहना है कि चीन के लोग इन गड्ढों को दैवीय मानते हैं। इसका कारण गड्ढों से जुड़ी लोक कथाएं हैं। फिलहाल वैज्ञानिक इस गड्ढे में स्थित जंगल में जाकर रिसर्च करने की तैयारी में हैं।