• Hindi News
  • Happylife
  • Cold Corona Virus Present In Nature Increases Immunity Against Covid 19, Research Done By British Scientists

कोरोना ही कोरोना का दुश्मन:नेचर में मौजूद सर्दी-जुकाम वाले कोरोना वायरस कोविड-19 के खिलाफ बढ़ाते हैं इम्यूनिटी, ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने की रिसर्च

12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पूरी दुनिया पिछले 2 साल से जिस कोविड-19 महामारी से जूझ रही है, उसके पीछे SARS-CoV-2 नामक कोरोना वायरस है। हालांकि, इसके अलावा भी वातावरण में ऐसे कई प्रकार के कोरोना वायरस मौजूद हैं, जो हमारे लिए घातक नहीं होते। इंपीरियल कॉलेज लंदन के वैज्ञानिकों के अनुसार, इन वायरस से होने वाला नॉर्मल सर्दी-जुकाम हमारे शरीर में कोविड-19 के खिलाफ इम्यूनिटी बढ़ाता है।

सर्दी-जुकाम वाले कोरोना वायरस बनाते हैं बॉडी में टी-सेल्स

नेचर कम्युनिकेशन्स जर्नल में प्रकाशित इस रिसर्च में वैज्ञानिकों ने पाया है कि सर्दी-जुकाम वाले कोरोना वायरस हमारे अंदर SARS-CoV-2 से लड़ने के लिए एंटीबॉडी बनाने में कारगर होते हैं। ये हमारे शरीर में टी-सेल्स की मात्रा बढ़ाते हैं। टी-सेल्स ऐसी कोशिकाएं होती हैं, जो वायरस से लड़कर उसे खत्म करने का काम करती हैं।

दक्षिण अफ्रीका की सरकार ने लोगों के टी-सेल्स को मजबूत करने के लिए वैक्सीनेशन को तेज करके ओमिक्रॉन को हराया है।
दक्षिण अफ्रीका की सरकार ने लोगों के टी-सेल्स को मजबूत करने के लिए वैक्सीनेशन को तेज करके ओमिक्रॉन को हराया है।

कैसे काम करते हैं टी-सेल्स

टी सेल आपको संक्रमित होने से तो नहीं रोक सकता, लेकिन संक्रमण के बाद शरीर के अंदर वायरस पहुंचते ही उसे मार देता है। साथ ही, ये दूसरे सेल्स के साथ मिलकर शरीर में एंटीबॉडीज बनाने में मदद भी करते हैं। दक्षिण अफ्रीका की सरकार ने लोगों के टी-सेल्स को मजबूत करने के लिए वैक्सीनेशन को तेज करके ओमिक्रॉन को हराया है।

पहले भी हो चुकी है ऐसी ही रिसर्च

इससे पहले हुए शोध में वैज्ञानिकों ने पाया था कि किसी दूसरे कोरोना वायरस के कारण शरीर में बनने वाले टी-सेल्स SARS-CoV-2 को पहचान लेते हैं। अब ये रिसर्च दर्शाती है कि पहचान होने के बाद ये टी-सेल्स SARS-CoV-2 के खिलाफ हमारी इम्यूनिटी को भी बढ़ाते हैं।

बन सकती है यूनिवर्सल वैक्सीन

वैज्ञानिकों का मानना है कि ये रिसर्च कोरोना वायरस के खिलाफ एक यूनिवर्सल वैक्सीन बनाने का दरवाजा खोल सकती है। ये वैक्सीन न केवल SARS-CoV-2 से लड़ेगी, बल्कि नेचर में मौजूद दूसरे कोरोना वायरस से भी हमें बचा सकेगी। साथ ही, ओमिक्रॉन और डेल्टा जैसे घातक कोरोना वैरिएंट्स भी इस वैक्सीन के सामने टिक नहीं पाएंगे।

खबरें और भी हैं...