पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Happylife
  • Coronavirus And Sleep Apnea And Symptoms | What Is Sleep Apnea? Know What Are The Waning Signs Causes Of Sleep Apnea

बी-अलर्ट:रात में बार-बार नींद का टूटना और कवरटें बदलते रहना है स्लीप एपनिया का लक्षण, सुबह सिर में दर्द महसूस हो दिन में नींद आए तो डॉक्टरी सलाह लें

9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्लीप एपनिया का समय पर इलाज जरूरी, इसकी स्थिति गंभीर होने पर ह्रदय रोग और लकवा होने का खतरा रहता है
  • देश की 13 फीसदी आबादी ऑब्स्ट्रक्टिव स्लीप एपनिया से पीड़ित है, पुरुषों में 19.7%, वहीं महिलाओं में यह आंकड़ा 7.4% है

स्लीप एपनिया यानी नींद से जुड़ी एक गंभीर बीमारी। स्लीप एपनिया की स्थिति में हमारी नींद कई बार टूटती है। कई स्थितियों में तो सांस रुक भी सकती है। स्लीप एपनिया की स्थिति में हम कई बार करवटें बदलते रहते हैं। आप जानकर हैरान होंगे- देश की 13 फीसदी आबादी ऑब्स्ट्रक्टिव स्लीप एपनिया से पीड़ित है। पुरुषों में 19.7%, वहीं महिलाओं में यह आंकड़ा 7.4% है। स्लीप एपनिया की स्थिति में एक घंटे में तीस या इससे ज्यादा बार भी सांस का रुकना या करवटें बदलने जैसी स्थिति पैदा हो सकती है। यह एक ऐसा विकार है, जिससे नींद से जुड़ी और समस्याएं भी खड़ी हो सकती हैं।

उदाहरण के तौर पर- शोध बताते हैं, यदि आपकी रात की नींद एक घंटे भी कम हो जाए तो अगले दिन आपकी अलर्टनेस 32 फीसदी तक कम हो जाएगी। स्लीप एपनिया को समझने से पहले हमें, नींद को समझना जरूरी है। दरअसल, हमारी नींद तीन से चार चक्रों में पूरी होती है। हर चक्र लगभग पांच चरणों से गुजरता है। चौथा चरण सबसे गहरी नींद का होता है। पांचवां चरण REM या रैपिड आई मूवमेंट का चरण होता है। यह वो चरण होता है, जिसमें हम सपने भी देखते हैं। नींद के वक्त ही, हमारे शरीर में ग्रोथ हार्मोन प्रवाहित होते रहते हैं। जिनसे शरीर की दैनिक क्रियाएं होती हैं। नींद के दौरान शरीर का तापमान कम होता है। हृदयगति एवं ब्लड प्रेशर में कमी आती है जिससे दिल को आराम मिलता है।

स्लीप एपनिया में कई बार नींद टूटती है। जिससे इन सभी प्रक्रियाओं में खलल पड़ता है। अमेरिका की नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन के एक शोध के अनुसार, कोविड-19 के इस दौर में स्लीप एपनिया की शिकायत और बढ़ सकती है। शिरीष जौहरी, ईएनटी विशेषज्ञ, नेशनल हेल्थ केयर ग्रुप, सिंगापुर बता रहे हैं स्लीप एपनिया है क्या और यह किस तरह से हमारे शरीर पर प्रभाव डालता है।

6 सवाल-जवाब से समझिए स्लीप एपनिया और उससे जुड़े खतरों के बारे में

#1) स्लीप एपनिया आखिर है क्या?
यह एक तरह का स्लीप डिसऑर्डर है। दरअसल, कुछ लोगों में पीठ के बल लेटने से गले की मुक्त पेशियां गुरुत्व के प्रभाव से गले के पिछले हिस्से की ओर फैल जाती हैं। और नींद की शिथिलता में श्वसन मार्ग के बीचों-बीच खिंच जाती हैं। इस खिंचावट से हवा का प्रवाह आंशिक या पूर्ण रूप से बाधित हो सकता है। इससे फेफड़ों में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। मस्तिष्क इस कमी को दस सेकंड तक ही सह सकता है। ऐसी स्थिति में दिमाग नींद को तोड़ देता है। जैसे ही नींद टूटती है- श्वसन मार्ग फिर खुल जाता है। बार-बार नींद आने और टूटने के इस चक्र को स्लीप एपनिया कहते हैं।

#2) इससे जुड़े प्रमुख लक्षण क्या हैं?

  • खर्राटे लेना इसका एक प्रमुख लक्षण हो सकता है। सोने में कठिनाई हो सकती है। मुंह सूखता है।
  • नींद के दौरान कुछ समय के लिए सांस रुक जाना।
  • सांस में कमी के साथ अचानक नींद का खुल जाना।
  • सुबह के समय सिर में दर्द महसूस होना। दिन में ज्यादा नींद का आना।
  • चूंकि, स्लीप एपनिया आपकी पूरी स्लीप साइकल को बिगाड़ देता है। ऐसे में चिड़चिड़ाहट होने लगती है। साथ ही एकाग्रता घटने लगती है।

#3) स्लीप एपनिया के कितने प्रकार हैं?

  • सेंट्रल : यह तब होता है जब हमारा मस्तिष्क सांस लेने वाली मांसपेशियों को निर्देश नहीं दे पाता। इसके चलते सांस लेने की प्रक्रिया अवरुद्ध होने लगती है।
  • ऑब्स्ट्रक्टिव : मस्तिष्क मांसपेशियों को सांस लेने के निर्देश तो देता है, लेकिन वायुमार्ग में किसी प्रकार की रुकावट के कारण मांसपेशियां सांस लेने में असफल हो जाती हैं।
  • मिक्स्ड : जब सेंट्रल और ऑब्स्ट्रक्टिव स्लीप एपनिया दोनों एक साथ हो जाएं तो इसे मिक्स्ड स्लीप एपनिया कहा जाता है। यह एक गंभीर स्थिति है।

#4) स्लीप एपनिया का इलाज क्या है
ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के लिए सबसे बेहतर उपचार सीपीएपी (कांटीनुअस पॉजटिव एयरवेज प्रेशर) थेरेपी को माना जाता है। इसकी मदद से सांस लेने वाले वायुमार्गों को खुला रखने के लिए एयर प्रेशर का स्तेमाल किया जाता है। यह काफी सस्ता और प्रभावी है। हालांकि इसके स्थायी उपचार के लिए सर्जरी का उपयोग किया जाता है, लेकिन यह बहुत ही खर्चीला होता है। इसमें कुछ जोखिम भी हो सकते हैं।

#5) स्लीप एपनिया के खतरे क्या हैं?
स्लीप एपनिया एक खतरनाक स्वास्थ्य समस्या है। इससे खतरनाक ह्रदय रोग और लकवे जैसी गंभीर बीमारियां आपके शरीर पर हमला कर सकती हैं।

#6) खर्राटों का इससे क्या संबंध हैं?
खर्राटे स्लीप एपनिया का लक्षण हो सकते है लेकिन यह स्लीप एपनिया के बगैर भी हो सकते हैं। खर्राटों का होना प्राकृतिक है।

77 मिनट की ही गहरी नींद ले पाते हैं भारतीय

गहरी नींद के मामले में भारतीय सबसे ज्यादा पिछड़े हैं। पूरी रात में औसतन 77 मिनट की गहरी नींद ले पाते हैं। सिंगापुर, पेरू और हॉन्गकॉन्ग के लोग भी सबसे कम सोने वाले लोगों की लिस्ट में शामिल हैं। कम सोने से भारतीयों में स्लीप डिसऑर्डर आम है। ये आंकड़े फिटबिट द्वारा 1 अगस्त 2018 से 31 जुलाई 2019 के बीच किए गए अध्ययन के अनुसार।

खतरा सबसे कम नींद लेने वालों में भारतीयों का स्थान दुनिया में दूसरा

फिटबिट द्वारा 18 देशों में अध्ययन के अनुसार कम नींद के मामले में भारतीय दूसरे नंबर पर हैं। एक भारतीय औसतन 7 घंटे और 1 मिनट की नींद ले पाता है जबकि हमसे भी कम 6 घंटे 41 मिनट की नींद जापानी लेते हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। वैसे भी आज आपको हर काम में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे। इसलिए पूरी मेहनत से अपने कार्य को संपन्न करें। सामाजिक गतिविधियों में भी आप...

और पढ़ें