• Hindi News
  • Happylife
  • Coronavirus Biocon Drug India Update | Coronavirus Vaccine Treatment India Latest News Updates: Biocon To Launch Drug For Covid 19 Patients

देश में कोविड ड्रग की तैयारी:कोरोना के मरीजों के लिए बायोकॉन लॉन्च करेगी इटोलिजुमाब इंजेक्शन, 8 हजार रुपए होगी कीमत

2 वर्ष पहले
  • कंपनी का दावा- इटोलिजुमाब के 25 एमएल का इंजेक्शन इमरजेंसी में इस्तेमाल किया जा सकेगा
  • एमडी किरण मजूमदार ने कहा- जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती, तब तक एक लाइफ सेविंग ड्रग जरूरी

देश की फार्मा कंपनी बायोकॉन कोरोना की दवा लॉन्च करेगी। कम्पनी के मुताबिक बायोलॉजिक ड्रग इटोलिजुमाब की मदद से कोरोना मरीजों का इलाज किया जाएगा। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने परमिशन दे दी है। कंपनी का दावा है कि इटोलिजुमाब का 25 एमएल के इंजेक्शन का इमरजेंसी में इस्तेमाल किया जा सकेगा। सांस लेने में दिक्कत से साइटोकाइन सिंड्रोम जैसी गंभीर स्थिति में इसे यूज कर सकेंगे। इटोलिजुमाब इंजेक्शन का इस्तेमाल स्किन डिजीज सोरायसिस में किया जा जाता है।

Q1) अभी इस दवा की जरूरत क्यों है?
इटोलिजुमाब पहली ऐसी बायोलॉजिक थैरेपी है जिसे दुनियाभर में कोरोना मरीजों पर इस्तेमाल किया जा रहा है। कोरोना के नॉर्मल सिम्प्टम्स से लेकर गंभीर हालत तक में इसे काम में लिया जा सकता है। बायोकॉन की एमडी किरण मजूमदार शॉ ने एक वर्चुअल कॉन्फ्रेंसिंग में कहा कि जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती, तब तक हमें एक लाइफ सेविंग ड्रग की जरूरत है। वैक्सीन साल के अंत तक या अगले साल भी मिलती है तो इस बात की गारंटी नहीं है कि दोबारा संक्रमण नहीं होगा, इसलिए हमें तैयार रहने की जरूरत है।

Q2) यह कोरोना के मरीजों पर कैसे काम करती है?
किरण मजूमदार के मुताबिक, इटोलिजुमाब को कोरोना के मरीजों पर इस्तेमाल करने की एक और बड़ी वजह ये है कि यह कोरोना मरीजों में साइटोकाइन स्टॉर्म को कंट्रोल करता है। साइटोकाइन स्ट्रॉर्म वह स्थिति है जब संक्रमण के बाद शरीर को बचाने वाला इम्यून सिस्टम ही शरीर के खिलाफ काम करने लगता है और फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है। इस दौरान हालत बेहद नाजुक हो जाती है। कोरोना के मरीजों में ऐसे मामले सामने आ रहे हैं।

Q3) इटोलिजुमाब के इंजेक्शन और पूरी थैरेपी में कितना खर्च आएगा?
मजूमदार के मुताबिक, एक इंजेक्शन की कीमत 7,950 है। कोरोना के ज्यादातर मरीजों को इसके 4 इंजेक्शन की जरूरत होगी। पूरी थैरेपी की कीमत 32 हजार रुपए तक आ सकती है। 

Q4) मरीजों की संख्या के मुताबिक दवा की पूर्ति हो पाएगी?
मजूमदार का कहना है कि हमारे पास इसे तैयार करने और लोगों तक पहुंचाने की क्षमता है। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से अप्रूवल मिलने के बाद इसका प्रोडक्शन बढ़ाने की तैयारी चल रही है, ताकि मांग के मुताबिक इसकी सप्लाई की जा सके।

Q5) इस बात की पुष्टि कैसे हो कि यह दवा लोगों की मांग के मुताबिक उन तक पहुंच पाएगी?
मजूमदार ने बताया कि पहले से बायोकॉन की एक दवा अल्जुमाब मार्केट में है। हम उसे हॉस्पिटल में मेडिकल प्रिस्क्रिपशन और पेशेंट की ओर से भरे गए फॉर्म जैसे प्रोटोकॉल के आधार पर उपलब्ध करा रहे हैं। इसी तरह हम इटोलिजुमाब सबसे पहले उन मरीजों तक पहुंचाएंगे, जिन्हें इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है।

खबरें और भी हैं...