पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Happylife
  • Genes And Obesity Connection; Here's What Scientists Searched And What That Means

जीन्स का मोटापे से कनेक्शन:वैज्ञानिकों ने ऐसा जीन खोजा जो मोटापे के लिए जिम्मेदार, यह चर्बी बढ़ाता है लेकिन बीमारियों का खतरा नहीं

5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डेनमार्क की कोपेनहेगन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने रिसर्च में किया दावा
  • कहा, जीन्स के कारण लोगों में ब्लड प्रेशर बढ़ा, लेकिन बीमारी का खतरा नहीं

इंसान के शरीर में ऐसे भी जीन्स हैं जो मोटापे के लिए जिम्मेदार तो हैं, लेकिन बीमारियों का खतरा नहीं बढ़ाते। डेनमार्क की कोपेनहेगन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने ऐसे ही जीन्स की एक सीरीज खोजी है। इनकी रिसर्च कहती है, ये जीन्स इंसान में चर्बी और ग्लूकोज के लेवल को बढ़ाते हैं।

रिसर्च में शामिल मोटापे से जूझ रहे 45 फीसदी लोगों में ये जीन्स मिले। इस जीन्स के कारण लोगों का ब्लड प्रेशर तो बढ़ा था, लेकिन गुड फैट के कारण हार्ट डिसीज जैसी बीमारी का खतरा ज्यादा नहीं था।

2 वजह: मोटापा बढ़ाने वाला जीन्स इसलिए फायदेमंद

  • कोपेनहेगन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों का कहना है, इन जीन्स के कारण शरीर में हेल्दी फैट रहता है, इसलिए इनसे शरीर को अधिक नुकसान नहीं होता।
  • इनमें कुछ जीन्स डायबिटीज और हार्ट डिसीज का खतरा कम करते हैं। इसके अलावा फैट टिश्यू में सुधार करते हैं।

दुनिया में हर साल 28 लाख मौतों की वजह मोटापा
दुनियाभर में हर साल 28 लाख मौतें सिर्फ मोटापे के कारण हो रही हैं। इसके मामले युवाओं और बच्चों में तेजी से बढ़ रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, पिछले 45 सालों में मोटापा बढ़ने की दर 3 गुना हुई है, 2025 तक 27 लाख युवा ओवरवेट हो जाएंगे।

5 पॉइंट में समझें क्या है मोटापा और इससे कैसे कंट्रोल करें

1. मोटापा तीन तरह से जांचा जाता है
जसलोक हॉस्पिटल के बेरियाट्रिक सर्जन डॉ. संजय बोरूडे कहते हैं, मोटापा यानी शरीर का वजन जरूरत से अधिक होना। यह शरीर की बनावट को देखकर नहीं जांचा जाता। मोटापा कितना है यह तीन तरह से जांचा जाता है।

पहले तरीके में शरीर का फैट, मसल्स, हड्डी और बॉडी में मौजूद पानी का वजन जांचा जाता है। दूसरा है बॉडी मास इंडेक्स। तीसरी जांच में कूल्हे और कमर का अनुपात देखा जाता है। ये जांच बताती हैं आप वाकई में मोटे है या नहीं।

2. डायबिटीज, कैंसर और जॉइंट पेन की वजह मोटापा
डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, जॉइंट पेन और कैंसर तक की वजह चर्बी है। फैट जब बढ़ता है तो शरीर के हर हिस्से में बढ़ता है। चर्बी से निकलने वाले हार्मोन नुकसान पहुंचाते हैं इसलिए शरीर का हर हिस्सा इससे प्रभावित होता है। जैसे- पेन्क्रियाज का फैट डायबिटीज, किडनी का फैट ब्लड प्रेशर, हार्ट से आसपास जमा चर्बी हदय रोगों की वजह बनती है।

3. खानपान में क्या खाना है और क्या नहीं, ये ध्यान रखें
खानपान में कैसी चीजें शामिल करें यह अपनी लाइफस्टाइल के मुताबिक तय करें। अगर फिजिकल वर्क ज्यादा करते हैं तो कैलोरी ज्यादा भी ली है तो बर्न हो जाएगी लेकिन सिटिंग जॉब करते हैं तो हाई कैलोरी फूड से बचने की जरूरत है।

नाश्ते में अंकुरित अनाज यानी मूंग, चना और सोयाबीन को अंकुरित खाएं। ऐसा करने से उनमें मौजूद पोषक तत्‍वों की मात्रा बढ़ती है। मौसमी हरी सब्जियों को डाइट में शामिल करें। अधिक फैट वाला दूध, बटर तथा पनीर लेने से बचें। फास्ट फूड, जंक फूड, कचौरी, समोसे, पिज्जा बर्गर से दूरी बनाएं।

4. जितनी कैलोरी खाएं, उतनी बर्न भी करें
डॉ. संजय कहते हैं, सही जानकारी ही इंसान को मोटापा घटाने में मदद कर सकती है। ध्यान रखें कि हम जितनी कैलोरी खाते हैं और उसे बर्न भी करना है। लोगों को इसकी जानकारी होना जरूरी है। जैसे एक बर्गर खाते हैं तो 450-500 कैलोरी मिलती है वहीं एक घंटे के वर्कआउट से 50 कैलोरी बर्न होती है, इससे समझें कि कितना खाना लेना चाहिए और कितनी एक्सरसाइज करनी चाहिए। यही मोटापा रोकने में मदद करेगा और ऐसा होता है तो आंकड़ों में कमी आएगी।

5. रोजाना की एक्टिवटीज ही कैलोरी बर्न करेगी
रोजाना 30 मिनट की वॉक, सीढ़ी चढ़ना, रात का खाना हल्का लेना और घर के कामों को करके भी मोटापा आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है। यह इसलिए भी जरूरी है क्योंकि मोटापा शरीर के साथ दिमाग के लिए भी नुकसानदेह है। जरूरी सावधानी बरतने के बाद भी मोटापा नहीं कंट्रोल हो रहा है तो डॉक्टरी सलाह लें।

खबरें और भी हैं...