• Hindi News
  • Happylife
  • Monkeypox Outbreak Updates; United Arab Emirates (UAE) Returnees Death In Kerala

देश में मंकीपॉक्स से पहली मौत:UAE से केरल लौटे 22 साल के युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव, दिल्ली में फिर मिला मरीज

केरल15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

भारत में मंकीपॉक्स का खतरा तेजी से बढ़ रहा है। इसी बीच केरल के त्रिशूर में शनिवार को 22 साल के शख्स की मौत हो गई। स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने बताया कि युवक 21 जुलाई को संयुक्त अरब अमीरत (UAE) से लौटा था, जिसके बाद उसे 27 जुलाई को अस्पताल में भर्ती किया गया था। उधर, दिल्ली में रहने वाला एक 35 वर्षीय नाइजीरियाई व्यक्ति का मंकीपॉक्स टेस्ट पॉजिटिव आया है। संक्रमित व्यक्ति का हाल ही में विदेश यात्रा का इतिहास नहीं है, यह भारत में मंकीपॉक्स का छठा मामला है।

पूरी खबर पढ़ने से पहले पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय जरूर दें...

इस मामले में हैरानी की बात यह है कि युवक UAE में ही मंकीपॉक्स से संक्रमित पाया गया था। भारत लौटने के एक दिन पहले ही उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, जिसके बाद लक्षण दिखने पर उसने त्रिशूर में इलाज की मांग की थी। अब सोमवार को पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (NIV) भेजे गए सैंपल ने भी इस मामले की पुष्टि भी कर दी है।

इलाज में देरी की जांच होगी
जॉर्ज का कहना है कि इस मामले के लिए उच्च स्तरीय जांच कराई जाएगी। युवक की मंकीपॉक्स से मौत को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने पुन्नयूर में बैठक भी बुलाई है। देश वापसी के बाद से मृत युवक की संपर्क सूची और रूट मैप को तैयार किया जा रहा है।

जांच के लिए पुणे भेजे गए सैंपल
पुणे के NIV से युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही यह केस देश में मंकीपॉक्स से मौत का पहला मामला बन गया है। जॉर्ज के मुताबिक, युवक के परिवार ने कल ही UAE में हुई जांच की रिपोर्ट स्वास्थ्य अधिकारियों को दी है।

मंकीपॉक्स से मृत्यु दर काफी कम
जॉर्ज ने बताया कि मंकीपॉक्स के इस वैरिएंट से होने वाली मृत्यु दर काफी कम है। दरअसल, मंकीपॉक्स वायरस के दो स्ट्रेन्स हैं- पहला कांगो स्ट्रेन और दूसरा पश्चिम अफ्रीकी स्ट्रेन। फिलहाल दुनियाभर में फैल रहा स्ट्रेन पश्चिम अफ्रीकी है, जिसकी मृत्यु दर 1% है।

दुनिया में मंकीपॉक्स के मामले 22,800 के पार
Monkeypoxmeter.com के डेटा की मानें तो दुनिया में मंकीपॉक्स के मामलों की कुल संख्या 22,801 हो गई है। यह बीमारी अब तक 88 देशों में फैल चुकी है। साथ ही इससे अफ्रीका में पांच, स्पेन में दो, ब्राजील में एक और भारत में एक मौत हो चुकी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे वर्ल्ड हेल्थ इमरजेंसी भी घोषित कर दिया है।