कोरोना के बाद Disease X का खतरा:बन सकती है अगली महामारी, WHO के 300 वैज्ञानिकों की नजर; आखिर ये है क्या?

4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना महामारी को तीन साल पूरे होने को हैं। इसी बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि वह कुछ ऐसे बैक्टीरिया, वायरस और सूक्ष्मजीवों की लिस्ट अपडेट कर रहा है, जिनसे भविष्य में गंभीर बीमारियों या महामारी का खतरा हो सकता है। इस प्रोजेक्ट के लिए दुनियाभर के 300 वैज्ञानिकों की टीम भी बनाई जा रही है।

लिस्ट में कई पैथोजन्स शामिल
WHO के मुताबिक, 2017 से प्रकाशित की जा रही सूची में कई खतरनाक पैथोजन्स शामिल किए जा रहे हैं। इसमें कोरोना वायरस, इबोला वायरस, मारबर्ग वायरस, लासा बुखार, निपाह वायरस, जीका वायरस और Disease X के नाम भी हैं। पैथोजन्स ऐसे जीव होते हैं जिनसे बीमारियां जन्म लेती हैं। ये किसी भी पेड़, पौधे, जानवर या सूक्ष्मजीवों को बीमार बना सकते हैं।

WHO की टीम ऐसे पैथोजन्स को टारगेट बनाएगी, जो आगे जाकर इंसानों के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकते हैं।
WHO की टीम ऐसे पैथोजन्स को टारगेट बनाएगी, जो आगे जाकर इंसानों के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकते हैं।

Disease X पर रखी जाएगी नजर
WHO की टीम Disease X पर खास नजर रखने वाली है। फिलहाल यह पूरी तरह से अज्ञात बीमारी है। वैज्ञानिकों का कहना है कि यह बीमारी इंसानों के लिए बेहद खतरनाक साबित होगी। यह महामारी का रूप भी ले सकती है। यह जिस भी वायरस या बैक्टीरिया से होगी, उसका संक्रमण कोरोना से भी तेज फैलेगा। इसलिए समय पर इसका पता लगाना जरूरी है।

रिसर्च से इलाज में मिलेगी मदद
लिस्ट को अपडेट करने के बाद WHO के वैज्ञानिक इन बीमारियों के सफल इलाज ढूंढने में लग जाएंगे। वक्त से पहले ही बैक्टीरिया और वायरस के खतरे को जानकर इनसे बचने के लिए टेस्ट और वैक्सीन बनाए जा सकेंगे। जो पैथोजन्स तेजी से संक्रमण फैलाने की क्षमता रखेंगे, उनकी पूरी फैमिली को टारगेट किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...