पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Happylife
  • National Nutrition Week 2021: Indian Eating HabitsChanges During Coronavirus Lockdown

कोरोनाकाल में कितनी बदली लाइफस्टाइल:52% भारतीयों की थाली में हेल्दी चीजें बढ़ीं; फास्टफूड और मैदा से बनी चीजें दूर हुईं; 52% ने हफ्ते में 3 दिन एक्सरसाइज शुरू की

23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

महामारी के डर ने लोगों को हेल्दी चीजें खाना सिखा दिया है। भारतीयों ने अपने खानपान में प्रोटीन और विटामिंस की मात्रा बढ़ाई है। फास्ट फूड और मैदा से बनी चीजों से दूरी बनाई है। यह बातें मार्केट रिसर्च फर्म मिंटेल इंडिया कन्ज्यूमर की हालिया रिसर्च में सामने आई हैं। जानिए, महामारी में लोगों की लाइफस्टाइल में कितना बदलाव आया...

तीन बड़े बदलाव जो भारतीयों में दिखे

खानपान: भारतीयों की थाली हेल्दी फूड की मात्रा बढ़ी
रिसर्च के मुताबिक, 52 फीसदी लोग मानते हैं उन्होंने ब्राउन राइस और ऑर्गेनिक फल को नियमिततौर पर अपनी थाली में जगह दी है। वहीं, 50 फीसदी लोग कहते हैं, महामारी से पहले ऐसी चीजों को कभी-कभार ही खाते थे। 55 फीसदी भारतीय खानपान में सुधार के साथ इम्युनिटी बढ़ाने पर भी फोकस कर रहे हैं।

फिटनेस: 57% ने जॉगिंग और सायक्लिंग करना शुरू किया
कोरोनाकाल में लोगों ने फिजिकल एक्टिविटी को प्राथमिकता दी है। रिसर्च में 51 फीसदी भारतीयों का कहना है, 2019 के मुकाबले महामारी के बाद से 2020 में उन्होंने हफ्ते में तीन दिन एक्सरसाइज जैसे ब्रिस्क वॉकिंग और योग करना शुरू कर दिया है। वहीं, 57 फीसदी लोग जॉगिंग और सायक्लिंग कर रहे हैं।

सेहत पर असर: नींद बेहतर हुई, तनाव कम हुआ
रिसर्च कहती है, 2020 से लोगों ने अपनी लाइफस्टाइल में जो बदलाव किए हैं, उसका सीधा असर उनके स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। मेडिटेशन करने वाले हर 20 में से 9 लोगों को पहले से बेहतर नींद आ रही है। तनाव भी कम हुआ है। खुद को ज्यादा एनर्जेटिक महसूस कर रहे हैं।

इम्यूनिटी बढ़ाने में महिलाएं आगे
मिंटेल इंडिया कन्ज्यूमर की कंटेंट हेड निधि सिन्हा कहती हैं, महामारी ने लोगों को स्वस्थ रहने के लिए प्रेरित करने का काम किया है। भारतीय लोग अपनी फिजिकल और मेंटल हेल्थ के साथ खानपान और फिजिकल एक्टिविटी पर भी फोकस कर रहे हैं। भारतीयों की लाइफस्टाइल में बदलाव को देखते हुए कई कम्पनियां भी हेल्दी फूड और ड्रिंक्स उपलब्ध करा रही हैं।

रिसर्च कहती है, रोगों से लड़ने की क्षमता यानी इम्यूनिटी को बढ़ाने में महिलाएं आगे रही हैं। अपनी इम्यूनिटी का ध्यान रखने वाले लोगों में 50 फीसदी से अधिक महिलाएं शामिल हैं। 48 फीसदी भारतीय विज्ञापन और सोशल मीडिया पर चलने वाले कैम्पेन से स्वस्थ रहने की प्रेरणा ले रहे हैं।

खबरें और भी हैं...