• Hindi News
  • Happylife
  • Omicron's Sub variant Is Causing Havoc In India, In Collaboration With Delta

वैज्ञानिकों का दावा:ओमिक्रॉन का सब-वैरिएंट भारत में तबाही मचा रहा, यह डेल्टा के साथ मिलकर वार करता है

11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना की दूसरी लहर में डेल्टा वैरिएंट के बाद अब तीसरी लहर में ओमिक्रॉन ने भारत में तबाही मचाई है। सोमवार को लगातार 5वें दिन कोरोना वायरस के 1 लाख से ज्यादा मामले सामने आए। कोविड पॉजिटिव क्लिनिकल सैंपल्स की जीनोम सीक्वेंसिंग पर काम कर रहे जैव प्रौद्योगिकी विभाग (INSACOG) के वैज्ञानिकों के अनुसार, इसका जिम्मेदार ओमिक्रॉन का सब-वैरिएंट BA.1 है। यह डेल्टा के साथ मिलकर लोगों को संक्रमित कर रहा है।

पहले जान लें, क्या होते हैं सब-वैरिएंट्स?
सब-वैरिएंट्स एक तरह से वायरस के मूल वैरिएंट के परिवार के सदस्य होते हैं। सरल भाषा में, ओमिक्रॉन (B.1.1.529) कोरोना वायरस का एक मूल वैरिएंट है, जिसके तीन सब-वैरिएंट्स हैं- BA.1, BA.2 और BA.3। ये भी ओमिक्रॉन की तरह ही लोगों में तेजी से संक्रमण को फैलाने का काम करते हैं।

भारत में बीते 24 घंटे के दौरान कोरोना के 1 लाख 67 हजार से ज्यादा नए मामले मिले है।
भारत में बीते 24 घंटे के दौरान कोरोना के 1 लाख 67 हजार से ज्यादा नए मामले मिले है।

भारत पर ओमिक्रॉन के सब वैरिएंट्स पड़ रहे भारी
देश में कोरोना संक्रमण के 4-5 गुना तेजी से फैलने की वजह BA.1 सब-वैरिएंट ही है। टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए INSACOG के वैज्ञानिकों ने बताया कि क्लिनिकल सैंपल्स की जीनोम सीक्वेंसिंग में मूल ओमिक्रॉन वैरिएंट की बजाय BA.1 की मौजूदगी ज्यादा देखी गई है। चूंकि BA.1 ओमिक्रॉन के परिवार का सदस्य है, इसलिए ऐसे मामलों को भी ओमिक्रॉन पॉजिटिव ही माना जाता है।

फिलहाल कोरोना की चपेट में आए महाराष्ट्र और बाकी प्रदेशों में BA.1 डेल्टा वैरिएंट के साथ मिलकर लोगों पर वार कर रहा है। कुछ सैंपल्स की जीनोम सीक्वेंसिंग में BA.2 सब-वैरिएंट भी पाया गया है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, भारत में अब तक BA.3 का कोई भी केस सामने नहीं आया है।

देश के सभी एयरपोर्ट पर बाहर से आने वाले यात्रियों का कोरोना टेस्ट किया जा रहा है।
देश के सभी एयरपोर्ट पर बाहर से आने वाले यात्रियों का कोरोना टेस्ट किया जा रहा है।

ओमिक्रॉन है एक चिंताजनक वैरिएंट
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की मानें तो ओमिक्रॉन के BA.1 और BA.2 सब-वैरिएंट्स दुनिया भर में एक साथ फैल रहे हैं। 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका में पहली बार डिटेक्ट किया गया नया वैरिएंट अब तक 110 से अधिक देशों में फैल चुका है। WHO ने 26 नवंबर को ओमिक्रॉन को 'वैरिएंट ऑफ कंसर्न' यानी एक चिंताजनक वैरिएंट घोषित कर दिया था। इसके पहले डेल्टा को चिंताजनक वैरिएंट माना गया था। भारत में बीते 24 घंटे के दौरान कोरोना के 1 लाख 67 हजार 550 नए मामले मिले है।

देश में 24 घंटे में 1.67 लाख नए संक्रमित
देश में 24 घंटे में 1.67 लाख नए कोरोना संक्रमित पाए गए। 69,798 लोग ठीक हुए, जबकि 277 लोगों की मौत हुई है। इस तरह एक्टिव केस यानी इलाज करा रहे मरीजों की संख्या में 97,475 की बढ़ोतरी दर्ज की गई। इस वक्त 8 लाख कोरोना संक्रमितों का इलाज चल रहा है। सिर्फ 11 दिन पहले यह आंकड़ा एक लाख था।

नए केस का आंकड़ा लगातार पांचवें दिन एक लाख के ऊपर रहा है। हालांकि, इसमें 12 हजार की कमी देखने को मिली है। इससे पहले रविवार को 1.79 लाख लोग संक्रमित मिले थे। सबसे बड़ी राहत की बात ये है कि चिंताजनक बने महाराष्ट्र, दिल्ली और पश्चिम बंगाल में सोमवार को नए मामले कुछ कम हुए।

खबरें और भी हैं...