• Hindi News
  • Happylife
  • Scientists Grown Grow Plants In Moon Soil | Important Updates And Latest News

पहली बार चांद की मिट्टी में उगे पौधे:अमेरिकी वैज्ञानिकों ने किया कमाल; इसके जरिए एस्ट्रोनॉट्स चांद पर खेती कर सकेंगे

वॉशिंगटन4 दिन पहले

चांद पर इंसानों को बसाने के लिए वैज्ञानिक कई तरह की खोज कर रहे हैं। इसी कड़ी में अमेरिका की फ्लोरिडा यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक ऐतिहासिक कारनामा कर दिखाया है। उन्होंने पहली बार चांद की मिट्टी में पौधे उगाने में कामयाबी हासिल की है। यह मिट्टी कुछ ही वक्त पहले NASA के अपोलो मिशन्स के अंतरिक्ष यात्री अपने साथ लेकर लौटे थे।

पूरी खबर पढ़ने से पहले पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दीजिए...

चांद पर खेती करने की तरफ पहला कदम

यह रिसर्च चांद पर खाने और ऑक्सिजन के लिए खेती करने की तरफ पहला कदम है।
यह रिसर्च चांद पर खाने और ऑक्सिजन के लिए खेती करने की तरफ पहला कदम है।

कम्युनिकेशन्स बायोलॉजी जर्नल में प्रकाशित इस रिसर्च में वैज्ञानिकों ने बताया कि सिर्फ पृथ्वी की मिट्टी ही नहीं, बल्कि अंतरिक्ष से आई मिट्टी में भी पौधे उग सकते हैं। इस स्टडी में वैज्ञानिकों ने चांद की मिट्टी (लूनर रिगोलिथ) के प्रति पौधों की बायोलॉजिकल प्रतिक्रिया की भी जांच की। यह चांद पर खाने और ऑक्सिजन के लिए खेती करने की तरफ पहला कदम है।

ऐसे उगाए गए मिट्टी में पौधे

रिसर्च में आर्बिडोप्सिस पौधे को उगाया गया है।
रिसर्च में आर्बिडोप्सिस पौधे को उगाया गया है।

फ्लोरिडा यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर एना-लिसा पॉल ने बताया कि इस एक्सपेरिमेंट से पहले भी चांद की मिट्टी में पौधे उगाने की कोशिश की गई है। हालांकि, तब उन पौधों में चांद की मिट्टी को केवल छिड़का गया था। अभी की रिसर्च में चांद की मिट्टी में ही पौधे को पूरी तरह उगाया गया है।

रिसर्चर्स ने पौधे उगाने के लिए 4 प्लेट्स का इस्तेमाल किया। इनमें पानी के साथ ऐसे न्यूट्रिएंट्स मिलाए गए जो चांद की मिट्टी में नहीं मिल पाते। इसके बाद इस सॉल्यूशन में आर्बिडोप्सिस पौधे के बीज डाले गए। कुछ ही दिनों में इन बीजों ने छोटे से पौधे का रूप ले लिया।

मात्र 12 ग्राम मिट्टी का हुआ इस्तेमाल

NASA के अपोलो मिशन के 6 अंतरिक्ष यात्री अपने साथ 382 किलोग्राम पत्थर चांद से धरती पर लेकर लौटे थे।
NASA के अपोलो मिशन के 6 अंतरिक्ष यात्री अपने साथ 382 किलोग्राम पत्थर चांद से धरती पर लेकर लौटे थे।

NASA के अपोलो मिशन के 6 अंतरिक्ष यात्री अपने साथ 382 किलोग्राम पत्थर चांद से धरती पर लेकर लौटे थे। इन पत्थरों को वैज्ञानिकों में बांट दिया गया था। फ्लोरिडा यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर रॉबर्ट फेरी के मुताबिक, 11 साल में 3 बार एप्लीकेशन देने के बाद उन्हें NASA से 12 ग्राम मिट्टी मिली। इतनी सी मिट्टी के साथ काम करना काफी मुश्किल था, लेकिन आखिरकार उन्हें पौधे उगाने में कामयाबी हासिल हुई। यह मिट्टी अपोलो 11, 12 और 17 मिशन्स के दौरान इकट्ठी की गई थी।

खबरें और भी हैं...