विंटर अलर्ट:सर्दियों में ऐसे रोकें स्ट्रोक और हार्ट अटैक; 20 मिनट धूप लें, भोजन में 30% प्रोटीन और रोज 40 मिनट एक्सरसाइज करें

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

सर्दियों का मौसम सेहत का मौसम कहा जाता है, लेकिन कई मामलों में यह शरीर को नुकसान भी पहुंचा सकता है। अधिक ठंड से दिल पर दबाव बढ़ता है। रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं। इससे ब्लड प्रेशर बढ़ने के साथ स्ट्रोक व हार्ट अटैक का खतरा भी बढ़ता है।

यूरोपियन जर्नल ऑफ एपिडिमियोलॉजी के मुताबिक, जो लोग मोटे हैं, धूम्रपान करते हैं या फिर हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से पीड़ित हैं उनमें स्ट्रोक और हार्ट अटैक का खतरा 30 प्रतिशत अधिक होता है। अमेरिका एजेंसी सीडीसी कहती है, अगर ब्लड प्रेशर बढ़ा रहता है तो यह न केवल दिल को नुकसान पहुंचा सकता है बल्कि इससे स्ट्रोक का खतरा भी बढ़ जाता है।

सर्दियों ने एक बार दस्तक दे दी है। इंद्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल के सीनियर वैस्कुलर एंड कॉर्डियो थोरेसिक सर्जन डॉ. केके पांडेय से जानिए इस मौसम में स्ट्रोक और हृदय रोगों के मामले कैसे घटाएं...

सर्दियों में बढ़ जाते हैं ये खतरे

1- ब्लड प्रेशर का बढ़ जाना
मेयो क्लीनिक के अनुसार, सर्दियों में रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं, जिससे रक्त को इन सिकुड़ी हुई वाहिकाओं से गुजरने में अधिक दबाव लगाना पड़ता है। इसी दबाव के कारण ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है।

2- स्ट्रोक का खतरा ज्यादा
अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के मुताबिक, अत्यधिक ठंड के दौरान रक्त गाढ़ा और चिपचिपा हो जाता है, जिससे इसका थक्का आसानी से बनने लगता है। अधिकतर स्ट्रोक रक्त का थक्का बनने के कारण ही होते हैं। यह थक्का मस्तिष्क की रक्त वाहिका के मार्ग को भी बाधित करता है।

3- हार्ट अटैक की स्थिति
न्यूयॉर्क के माउंट सिनाई स्थित आइकन स्कूल ऑफ मेडिसिन के मुताबिक, सर्दियों में ठंड और फ्लू से बचाव के लिए इम्यून सिस्टम के रक्त का स्तर कई गुना बढ़ता है। इससे धमनियों की दीवारों पर प्लैक जमा होता है। इससे हार्ट अटैक का रिस्क बढ़ता है।

सर्दियों में स्ट्रोक और हार्ट अटैक रोकने के लिए अपनाएं 20:30:40 का फॉर्मूला

20 मिनट धूप: बीमारियों से लड़ने के लिए अधिक मात्रा में बनती है एंटीबॉडी
सीडीसी के अनुसार, किसी भी बैक्टीरिया या वायरस से लड़ने के लिए इम्यून सिस्टम एंटीबॉडी बनाता है। धूप से शरीर यह एंटीबॉडी अधिक मात्रा में बनाने लगता है। इसके अलावा धूप सूजन और हाई ब्लड प्रेशर को भी कम करती है। मस्तिष्क के कार्य करने की क्षमता बढ़ती है। इसलिए रोजाना सुबह की धूप में 20 मिनट जरूर बैठें।

30 प्रतिशत प्रोटीन: सर्दियों में भूख को कम करता है, वजन बढ़ने से रोकता है
शरीर में सूरज की रोशनी पड़ने पर सेरोटोनिन हार्मोन रिलीज होता है जो मूड बेहतर करता है। यही हार्मोन कार्बोहाइड्रेट भी रिलीज करता है। चूंकि, सर्दियों में धूप में तेजी कम होती है। ऐसे में इसकी वजह से भूख का अहसास ज्यादा होता है। प्रोटीन भूख बढ़ाने वाले हार्मोन घ्रेलिन को कम करता है। भोजन में ली जाने वाली कैलोरी में यदि 30 से 35 फीसदी प्रोटीन से आए तो भूख कम लगती है। इससे वजन बढ़ने की आशंका कम होती है।

40 मिनट एक्सरसाइज: बीपी और स्ट्रोक का खतरा 27% तक कम हो जाता है
सर्दियों में रोजाना 40 मिनट एक्सरसाइज हाई ब्लड प्रेशर और स्ट्रोक के खतरे को 27% तक कम करती है। इंस्टीट्यूट ऑफ साइकियाट्री, साइकोलॉजी और न्यूरोसाइंस कहता है, रोजाना 30 से 40 मिनट एक्सरसाइज करने वाले लोगों में डिप्रेशन का खतरा 28% तक कम रहता है।

खबरें और भी हैं...