• Hindi News
  • Happylife
  • There Are 1.3 Million Tonnes Of Sugar In Sea Grass, It Is Equivalent To The Sweetness Of 32 Billion Cold Drinks.

सागर में सिर्फ नमक नहीं, चीनी भी:समुद्री घास में 13 लाख टन चीनी के भंडार मौजूद, ये 32 अरब कोल्ड ड्रिंक्स की मिठास के बराबर

बर्लिन19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

समुद्र के अंदर भी चीनी यानी शक्कर का बड़ा सोर्स मौजूद है। समुद्री घास के रूप में मौजूद इस सोर्स में सुक्रोज होता है। यह किचन में मौजूद चीनी का मुख्य कंपोनेंट है। सागर के तल में मौजूद समुद्री घास में 13 लाख टन चीनी के भंडार यानी 32 अरब कोल्ड ड्रिंक्स की मिठास के बराबर मीठापन होता है। हाल ही में जर्मनी के मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट फॉर मरीन माइक्रोबायोलॉजी में हुई एक खोज में यह बात सामने आई है।

फोटोसिंथेसिस के दौरान होता है चीनी का उत्पादन

समुद्री घास अपने मेटाबॉलिज्म के लिए सुक्रोज का उपयोग करते हैं, लेकिन ज्यादा धूप जैसे दोपहर या गर्मियों में ये पौधे अधिक चीनी का उत्पादन करते हैं।
समुद्री घास अपने मेटाबॉलिज्म के लिए सुक्रोज का उपयोग करते हैं, लेकिन ज्यादा धूप जैसे दोपहर या गर्मियों में ये पौधे अधिक चीनी का उत्पादन करते हैं।

समुद्री सूक्ष्म जीवविज्ञानी निकोल डुबिलियर का कहना है कि समुद्री घास फोटोसिंथेसिस के दौरान चीनी का उत्पादन करती है। शोधकर्ताओं ने पानी के नीचे समुद्री घास के मैदान में मास स्पेक्ट्रोमेट्री तकनीक के माध्यम से अपने हाइपोथेसिस को टेस्ट किया। इसमें पता चला कि औसतन प्रकाश में ये समुद्री घास अपने मेटाबॉलिज्म के लिए सुक्रोज का उपयोग करते हैं, लेकिन ज्यादा धूप जैसे दोपहर या गर्मियों में ये पौधे अधिक चीनी का उत्पादन करते हैं। फिर वे ज्यादा सुक्रोज को अपने राइजोस्फीयर में छोड़ देते हैं।

आश्चर्य की बात तो यह है कि इस अतिरिक्त चीनी को आसपास के वातावरण में सूक्ष्मजीवों द्वारा एब्जोर्ब नहीं किया जाता है। इसे रोकने के लिए समुद्री घास फेनोलिक यौगिकों को उसी तरह भेजती है जैसे कई दूसरे पौधे करते हैं। बता दें कि ये केमिकल कंपाउंड रेड वाइन, कॉफी और फलों के साथ-साथ नेचर के कई और स्थानों में पाए जाते हैं, जो एंटी माइक्रोबियल होते है और ज्यादातर सूक्ष्म जीवों के मेटाबॉलिज्म को रोकते हैं, उन्हें धीमा करते हैं।

समुद्री घास 35 गुना तेजी से दोगुना कार्बन सोखती है

समुद्री घास के कार्बन कैप्चर नुकसान की गणना में सामने आया कि मानव गतिविधि व घटती पानी की गुणवत्ता के कारण सुक्रोज की मात्रा घट रही है।
समुद्री घास के कार्बन कैप्चर नुकसान की गणना में सामने आया कि मानव गतिविधि व घटती पानी की गुणवत्ता के कारण सुक्रोज की मात्रा घट रही है।

समुद्री घास 35 गुना ज्यादा तेजी से दोगुना कार्बन सोखती है। समुद्री घास के कार्बन कैप्चर नुकसान की गणना में सामने आया कि मानव गतिविधि व घटती पानी की गुणवत्ता के कारण सुक्रोज की मात्रा घट रही है। इसलिए ब्लू कार्बन इको सिस्टम को संरक्षित करना जरूरी है।

खबरें और भी हैं...