पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Happylife
  • Coronavirus Transmission | World Health Organization Coronavirus Latest News Update; WHO Scientist On COVID Transmission, Says Epidemic Is Not A Seasonal Disease

कोरोना पर WHO की नई चेतावनी:कोविड-19 महामारी की बड़ी लहर है जो बढ़ती ही जा रही है, अब इसे सीजनल बीमारी नहीं कहा जा सकता

जेनेवा11 दिन पहले
  • WHO की प्रवक्ता मार्गेरेट हैरिस कोरोनावायरस के ट्रांसमिशन पर दी चेतावनी, कहा- लोग महामारी को सीजनल बीमारी की तरह समझ रहे हैं
  • मार्गेरेट के मुताबिक, महामारी एक बड़ी लहर बनने जा रही है,जिसका ग्राफ बढ़ेगा-घटेगा, इसे सपाट करने के प्रयास जरूरी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मंगलवार को एक और चेतावनी दी। डब्ल्यूएचओ की प्रवक्ता मार्गेरेट हैरिस कोरोनावायरस के ट्रांसमिशन पर सवालों का जवाब देते हुए कहा, यह महामारी सीजनल बीमारी नहीं बल्कि एक बड़ी लहर है। लोग अभी तक इसे एक सीजनल बीमारी मान रहे हैं। कोरोना नई तरह का वायरस है यह इन्फ्लुएंजा की तरह बर्ताव नहीं करता है जो सिर्फ खास मौसम में होता है। नया कोरोना अलग तरह से बिहैव करता है।

महामारी बड़ी लहर बनने जा रही
मार्गेरेट हैरिस ने जेनेवा में वर्चुअल कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा, बड़े पैमाने पर भीड़-भाड़ वाले समारोह में यह धीमी गति से फैल रहा है, इससे रोकने के साथ अलर्ट होना जरूरी है। महामारी एक बड़ी लहर बनने जा रही है। जिसका ग्राफ बढ़ेगा-घटेगा, बेहतर होगा कि इसे सपाट करने के प्रयास करें।

फ्लू की वैक्सीन लगवाने की सलाह
मार्गेरेट हैरिस के मुताबिक, कोरोना का वायरस हर मौसम में सक्रिय रहता है। दक्षिणी गोलार्ध में कोरोना के साथ सीजनल इन्फ्लुएंजा के मामलों का बढ़ना एक संयोग मात्र है। डब्ल्यूएचओ इस पर लगातार नजर रखे हुए है। अब तक लैब में आए सैम्पल में फ्लू के अधिक मामले सामने नहीं आए हैं। अगर आप पहले ही सांस से जुड़ी कोई बीमारी से जूझ रहे हैं तो संक्रमण होने पर हालत और नाजुक हो सकती है। ऐसे में हम आग्रह कर रहे हैं कि लोग फ्लू की वैक्सीन को लगवाएं।

WHO की वो बड़ी चेतावनी, जो हाल ही में जारी की गईं

1. लोगों में सामूहिक इम्युनिटी विकसित होने में वक्त लगेगा
WHO की चीफ साइंटिस्ट डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने हाल ही में चेतावनी जारी की है। उन्होंने कहा, कोविड-19 के खिलाफ हर्ड इम्युनिटी विकसित होने में लम्बा समय लगेगा, टीका आने के बाद ही इसमें तेजी आएगी। वैज्ञानिक लगातार वैक्सीन को तैयार करने में लगे हैं। कोविड-19 से राहत मिलना अगले साल या उसके बाद ही सम्भव है। इस दौरान कोरोना से होने वाली मृत्यु दर को कम करने में मदद मिलेगी।

डॉ. स्वामीनाथन के मुताबिक, हर्ड इम्युनिटी विकसित करने के लिए 50 से 60 फीसदी आबादी में कोविड-19 से लड़ने की रोग प्रतिरोधक क्षमता होनी चाहिए, तभी कोरोना के संक्रमण को रोका जा सकता है। वैक्सीन लगने के बाद ही ऐसा सम्भव हो पाएगा।

2. कोविड-19 का पहला टीका 2021 से पहले लगने की उम्मीद नहीं
विश्व स्वास्थ्य संगठन के इमरजेंसी प्रोग्राम के हेड माइक रेयान के मुताबिक, कोविड-19 का पहला टीका 2021 से पहले लगने की उम्मीद नहीं की जा सकती। माइक के मुताबिक, डब्ल्यूएचओ वैक्सीन के समान वितरण पर भी काम कर रहा है लेकिन इस समय सबसे जरूरी बात है कोरोनावायरस को फैलने से रोकना। दुनिया में कोरोना के रोजाना नए मामले सामने तेजी से आ रहे हैं और संख्या में बढ़ोतरी हो रही है।

माइक रेयान के मुताबिक, हम आगे बढ़ रहे हैं। वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल चल रहा है। अब तक किसी भी चरण में वैक्सीन फेल साबित नहीं हुई है। सामने आई रिपोर्ट में यह सुरक्षित साबित हुई है और इम्यून रिस्पॉन्स अच्छा रहा है। वास्तविकता यह है कि यह अगले साल के शुरुआती समय में लोगों को दी जा सकती है।

3. हमारे पास कोरोना की वैक्सीन कभी नहीं रही, उम्मीद है यह अगले एक साल में यह तैयार हो जाएगी
वैक्सीन पर डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस अधेनॉम गेब्रेसियस ने कहा, यह निश्चित नहीं किया जा सकता है कि वैज्ञानिक कोरोना के खिलाफ प्रभावी वैक्सीन विकसित कर पाएंगे। हमें उम्मीद है कोविड-19 की वैक्सीन आएगी। यह अगले एक साल में अंदर तैयार हो सकती है। टेड्रोस ने यह बात यूरोप की संसदीय स्वास्थ्य कमेटी से ऑनलाइन कॉन्फ्रेन्सिंग के दौरान कही।

उनके मुताबिक, हमारे पास कोरोना की वैक्सीन कभी नहीं थी। इसलिए जब यह तैयार होगी तो सामने आएगी। इसे तेजी से तैयार करने के प्रयास जारी हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। वैसे भी आज आपको हर काम में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे। इसलिए पूरी मेहनत से अपने कार्य को संपन्न करें। सामाजिक गतिविधियों में भी आप...

और पढ़ें