PHOTOS में दुनिया की सबसे बड़ी वॉटर लिली:फूल इंसान के सिर से बड़े, पत्तियां 80 किग्रा. तक वजन संभाल सकती हैं

लंदन5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पानी में खिलने वाले लिली के फूल की एक नई प्रजाति पाई गई है, जो दुनिया में सबसे बड़ी है। इसके लिली पैड (पत्तियां) करीब 3.2 मीटर चौड़े हैं और फूल एक इंसान के सिर से भी बड़े हैं। इस वॉटर लिली को लंदन और बोलिविया के वैज्ञानिकों ने मिलकर खोजा है। तस्वीरों में जानें इसके बारे में सब कुछ...

लिली की नई प्रजाति का नाम विक्टोरिया बोलीवियाना रखा गया है। यह वॉटर लिली की तीसरी प्रजाति है।
लिली की नई प्रजाति का नाम विक्टोरिया बोलीवियाना रखा गया है। यह वॉटर लिली की तीसरी प्रजाति है।
यूके के क्यू गार्डन्स की नटालिया प्रेजेलोम्स्का कहती हैं कि इसकी पत्तियां इतनी बड़ी हैं कि एक बच्चे का वजन भी संभाल सकती हैं। वहीं, थ्योरी में ये 80 किलोग्राम के इंसान से भी नहीं दबेंगी, बशर्ते वजन बराबर बंटा हुआ हो।
यूके के क्यू गार्डन्स की नटालिया प्रेजेलोम्स्का कहती हैं कि इसकी पत्तियां इतनी बड़ी हैं कि एक बच्चे का वजन भी संभाल सकती हैं। वहीं, थ्योरी में ये 80 किलोग्राम के इंसान से भी नहीं दबेंगी, बशर्ते वजन बराबर बंटा हुआ हो।
2016 में बोलिविया के सांता क्रूज ले दा सीएरा बोटानिक गार्डन और ला रिनकोनाडा गार्डन्स ने क्यू गार्डन्स को वॉटर लिली के बीज दिए थे।
2016 में बोलिविया के सांता क्रूज ले दा सीएरा बोटानिक गार्डन और ला रिनकोनाडा गार्डन्स ने क्यू गार्डन्स को वॉटर लिली के बीज दिए थे।
गार्डन के होर्टिकल्चरिस्ट कार्लोस मागडलेना ने इन बीजों को बोया और पौधे को उगाया, जिसके बाद उन्हें पता चला कि यह लिली बाकी दो वॉटर लिली से अलग है।
गार्डन के होर्टिकल्चरिस्ट कार्लोस मागडलेना ने इन बीजों को बोया और पौधे को उगाया, जिसके बाद उन्हें पता चला कि यह लिली बाकी दो वॉटर लिली से अलग है।
विक्टोरिया बोलीवियाना मीठे पानी में खिलती है। यह बोलिविया के उत्तर पूर्वी इलाके में पाई जाती है।
विक्टोरिया बोलीवियाना मीठे पानी में खिलती है। यह बोलिविया के उत्तर पूर्वी इलाके में पाई जाती है।
यह इतनी बड़ी कैसे है, वैज्ञानिक अब भी इस पर खोज कर रहे हैं। उनका माना है कि लिली के बड़े पत्ते और फूलों की मदद से पौधे को बाकी पेड़ों की तुलना में सूर्य की रोशनी आसानी से मिल जाती है।
यह इतनी बड़ी कैसे है, वैज्ञानिक अब भी इस पर खोज कर रहे हैं। उनका माना है कि लिली के बड़े पत्ते और फूलों की मदद से पौधे को बाकी पेड़ों की तुलना में सूर्य की रोशनी आसानी से मिल जाती है।
प्रेजेलोम्स्का कहती हैं कि लिली की यह प्रजाति बहुत जल्दी कहीं भी उग जाती है।
प्रेजेलोम्स्का कहती हैं कि लिली की यह प्रजाति बहुत जल्दी कहीं भी उग जाती है।
उदाहरण के लिए, अगर किसी जगह तेज बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति बन जाए, तो भी लिली उसमें उग जाती है और ज्यादा धूप लेकर बाकी पौधों से प्रतियोगिता में जीत जाती है।
उदाहरण के लिए, अगर किसी जगह तेज बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति बन जाए, तो भी लिली उसमें उग जाती है और ज्यादा धूप लेकर बाकी पौधों से प्रतियोगिता में जीत जाती है।
वैज्ञानिकों का कहना है कि वॉटर लिली विलुप्त होने की कगार पर है। यह बाकी दो वॉटर लिली की तुलना में काफी कम जगहों पर पाई जाती है। ब्राजील के अमेजन जंगल के कटने के कारण तीनों ही प्रजातियों पर विलुप्ति का खतरा मंडरा रहा है।
वैज्ञानिकों का कहना है कि वॉटर लिली विलुप्त होने की कगार पर है। यह बाकी दो वॉटर लिली की तुलना में काफी कम जगहों पर पाई जाती है। ब्राजील के अमेजन जंगल के कटने के कारण तीनों ही प्रजातियों पर विलुप्ति का खतरा मंडरा रहा है।