पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Happylife
  • Young Resident Doctor Of Delhi Became First Runner Up Of 'India's Next Sushruta' Title

फीचर आर्टिकल:दिल्ली के युवा रेजीडेंट डॉक्टर ‘India’s Next Sushruta’ टाइटल के पेहले रनर अप बने

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डॉ सौविक पॉल, नई दिल्ली - Dainik Bhaskar
डॉ सौविक पॉल, नई दिल्ली

हेल्‍थकेयर शुरू से ही मरीजों की देखभाल के लिए जाना गया है, जिसमें बहुत हद तक टेक्नोलॉजिकल इनोवेशन और सेंसिटिव अप्रोच शामिल रहा है। हाल ही में कुछ महीने पहले संपन्न हुए भारत के अगले सुश्रुत (INS) के लिए देश के उन युवा सर्जनों ने हिस्सा लिया जो अपनी अविष्कारिक सोच के साथ चिकित्सा क्षेत्र को और प्रगतिशील बनाने की क्षमता रखते हैं।

डॉक्प्लेक्सस के साथ साझेदारी में मेडट्रोनिक इंडिया ने हाल ही में सर्जरी के क्षेत्र में स्नातकोत्तर और सुपर-स्पेशिलिटी छात्रों के लिए लक्षित एक केस स्टडी प्रतियोगिता, इंडियाज़ नेक्स्ट सुश्रुत (INS) का भव्य समापन किया। इसका आयोजन सर्जरी के जनक माने जाने वाले सुश्रुत के नाम पर किया जाता है। ये भारतीय चिकित्सा प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक तरह का इंडस्ट्री एकेडमिक प्रोग्राम है, जिसमें ऑन्कोलॉजी, जनरल सर्जरी और गैस्ट्रोएंट्रॉलॉजी जैसी स्पेशलिटी की भागीदारी दिखी।

अंतिम दौर में प्रतिस्पर्धी तीन शीर्ष स्‍थानों के लिए प्रतिस्‍पर्धा कर रहे थे, जिससे उन्हें मेडट्रॉनिक इनोवेशन सेंटर इंटरनेशनल क्लिनिकल आब्जर्वरशिप में काम करने का मौका मिले। फिनाले में, नई दिल्ली के बीएलके सुपरस्पेशलिटी अस्पताल के डीएनबी सर्जिकल गैस्ट्रोएंट्रॉलॉजी के डॉ सौविक पॉल ने 'इंडियाज नेक्स्ट सुश्रुत' टाइटल के लिए दूसरा स्‍थान हासिल किया। सौविक का प्रजेंटेशन रिस्पांस ऑफ इंफ्लेमेटरी सिटोकिन्स टू बैरियाट्रिक सर्जरी इन इंडियन ओबेस पेशेंट विद नॉन-अल्‍कोहलिक फैटी लीवर डिसीज" पर केंद्रित रहा। जब उनसे इस प्रोग्राम के बारे में हिस्सा लेने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "ये एक दिलचस्प व एक्साइटिंग कंपटीशन था और इसने हमें अवसर दिया जिसमें हमें अपना काम नेशनल स्तर पर प्रस्तुत करने का मौका मिला। "

INS कार्यक्रम में 80 शहरों के प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया जिसमें Docplexus द्वारा आयोजित क्‍वांटिटेटिव क्विजेस और एब्सट्रैक्ट प्रस्‍तुतियां भी शामिल रहीं। INS के फिनाले में प्रमुख संस्थानों के छह विशेषज्ञों के एक पैनल द्वारा निर्धारित शीर्ष दस फाइनलिस्ट द्वारा 20-मिनट की केस प्रजेंटेशन शामिल थे।

डॉ सौविक कहते हैं, "आईएनएस जैसे कार्यक्रम बड़े पैमाने पर चिकित्सा बिरादरी के लिए एक महान मूल्य जोड़ते हैं और हमारे सर्जिकल कैरियर को भी मजबूत बनाते हैं। ऐसे कार्यक्रम हमें अपने क्षेत्र में मान्यता प्राप्त करते हैं, और अन्य दिग्गजों के साथ बातचीत करने के अवसर राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देते हैं।"

इंडियाज नेक्स्ट सुश्रुत कई मेडिकल स्कूलों और विषयों के डॉक्टरों को एक साथ आने और देश को पीड़ा देने वाले स्वास्थ्य मुद्दों को संबोधित करने के लिए अपने विचार प्रस्तुत करने का एक अनूठा अवसर है। यह कार्यक्रम इन युवा सर्जनों को अपनी शिक्षा जारी रखते हुए उनकी कुशलता से भी बाहर सोचने का अनुभव प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करता है। यह पूछे जाने पर कि यह कार्यक्रम उनके चिकित्सा कैरियर को कैसे मदद करेगा, डॉ। सौविक कहते हैं, "यह निश्चित रूप से मेरी योग्यता में ये एक और उपाधि जोड़ता है और शीर्ष 3 में होना अंतर्राष्ट्रीय सहयोगियों के साथ बातचीत के बाद मेरे ज्ञान को और बढ़ाएगा।"

सर्जिकल तकनीक विकसित होती रहती है जिसे चिकित्सा जगत में प्रौद्योगिकी के निरंतर परिवर्तन से गुजरना पड़ता है। बीएलके सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, डॉ वीरेंद्र पी भल्ला, सर्जिकल गैस्ट्रोएंट्रॉलॉजी, बैरिएट्रिक एंड मिनिमल एक्सेस सर्जरी के प्रमुख ने डॉ सौविक का उल्लेख करते हुए कहा, "चुनौतियां सीखने का अवसर प्रदान करती हैं और अच्छे चिकित्सक वही होते हैं जो सीखने की ललक रखते हैं। मानव जाति के इतिहास में इस बिंदु में जहां यह सब हो रहा है उसके साथ रहने के लिए एक बड़ी चुनौती बन गया है। हमें नई तकनीकें हमारी सहायता करने के लिए विकसित होंगी। जैसा कि हम आगे बढ़ते हैं, केवल ज्ञान ही हमें प्रभावी और शक्तिशाली बनाएगा। सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है युवा सर्जन, लगातार बढ़ते ज्ञान के इस विशाल द्रव्यमान का गंभीर रूप से विश्लेषण करने की अपनी क्षमता को परिष्कृत कर रहे हैं ।"

आईएनएस जैसे शैक्षणिक कार्यक्रम युवा डॉक्टरों को प्रोत्साहित करने के लिए आयोजित किए जाते हैं, ताकि वे स्वस्थ माहौल में अपनी प्रतिस्पर्धात्मक भावना को बढ़ा सकें। डॉ भल्ला आगे कहते हैं, "शीर्ष सम्मान जीतने वाले सर्जनों के बौद्धिक विकास के लिए एक स्पष्ट योगदान है। इस तरह के कार्यक्रम प्रतिभागियों को।"

खबरें और भी हैं...